कोरोना महामारी संकट की आड़ में अवैध वेतन कटौती और छंटनी के खिलाफ पत्रकारों के संगठन ने सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया

अवैध वेतन कटौती और छटनी के आरोप लगाते हुए पत्रकार संघ ने शीर्ष न्यायालय के समक्ष अपील दायर की!

0
720
अवैध वेतन कटौती और छटनी के आरोप लगाते हुए पत्रकार संघ ने शीर्ष न्यायालय के समक्ष अपील दायर की!
अवैध वेतन कटौती और छटनी के आरोप लगाते हुए पत्रकार संघ ने शीर्ष न्यायालय के समक्ष अपील दायर की!

कोरोना महामारी संकट की आड़ में कुछ मीडिया कंपनियों द्वारा लागू किए गए अवैध छंटनी और वेतन कटौती के खिलाफ तीन पत्रकार संगठनों ने गुरुवार को सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया। तीन प्रमुख संगठनों – नेशनल एलायंस ऑफ़ जर्नलिस्ट्स, दिल्ली पत्रकार संगठन और बृहन मुंबई यूनियन ऑफ़ जर्नलिस्ट्स द्वारा दायर याचिका में शीर्ष न्यायालय से केंद्र और राज्य सरकारों को उन मीडिया दबंगों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने का निर्देश देने की अपील की, जिन मीडिया दबंगों ने कोविड-19 संकट के दौरान कानूनों और मानदंडों का उल्लंघन किया हैं।

“यह जनहित याचिका अख़बार और मीडिया क्षेत्र में नियोक्ताओं द्वारा अपने कर्मचारियों और श्रमिकों के लिए किए जा रहे अमानवीय और गैरकानूनी व्यवहार के बारे में दायर की जा रही है, कोरोना वायरस के प्रसार की वजह से लगे देश-व्यापी लॉकडाउन का बहाना करते हुए समाप्ति नोटिस जारी करके, एकतरफा रूप से मजदूरी वेतन में कटौती करके, श्रमिकों और कर्मचारियों को अनिश्चितकालीन अवैतनिक अवकाश पर भेज दिया गया।

मीडिया दबंगों द्वारा वेतन कटौती और छटनी के ब्यौरे वाली अपील में कहा गया कि “मार्च 2020 में राष्ट्र व्यापी तालाबंदी (लॉकडाउन) की घोषणा के बाद कई अखबारों, पत्रिकाओं, ऑनलाइन मीडिया आउटलेट्स और अन्य नियोक्ताओं ने कामगारों और कर्मचारियों की छटनी और वेतन कटौती का कदम उठाया है, श्रम और रोजगार मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा जारी सलाह के बावजूद और यहां तक कि भारत के प्रधान मंत्री द्वारा सेवाओं को समाप्त नहीं करने या अपने कर्मचारियों के वेतन को कम न करने की अपील के बावजूद ऐसा किया गया है,”।

इस खबर को अंग्रेजी में यहाँ पढ़े।

पत्रकारों के संगठनों द्वारा दायर याचिका में टाइम्स ऑफ इंडिया, इकोनॉमिक टाइम्स, इंडियन एक्सप्रेस, बिजनेस स्टैंडर्ड और क्विंट वेबसाइट, ब्लूमबर्ग क्विंट, न्यूज नेशन, आउटलुक मैगजीन, हमारा महा नगर (मुंबई) और एनसीपी प्रमुख शरद पवार के परिवार के सदस्यों द्वारा संचालित सकल समाचार पर समूह द्वारा अवैध रूप से लागू बड़े पैमाने पर वेतन कटौती और छंटनी का उल्लेख किया गया है।

पीगुरूज ने रिपोर्ट किया था, जिसमें इंडियन एक्सप्रेस[1] में वेतन कटौती और क्विंट[2] में छटनी पर गोयनका परिवार और राघव बहल द्वारा कोरोना संकट का बहाना बनाया गया था।

प्रसिद्ध वकील कॉलिन गोंसाल्वेस द्वारा पत्रकारों के संघों के लिए प्रतिनिधित्व करने की उम्मीद है। पत्रकारों के संगठनों द्वारा दायर छह-पृष्ठीय याचिका का सारांश नीचे प्रकाशित किया गया है:

Journalist Unions by PGurus on Scribd

संदर्भ:

[1] कोरोना को दोषी ठहराते हुए, इंडियन एक्सप्रेस ने भारी वेतन कटौती कीApr 4, 2020, hindi.pgurus.com

[2] कोरोना को दोषी ठहराते हुए, क्विंट वेबसाइट के मालिक राघव बहल ने 15 अप्रैल से बिना वेतन के जबरन छुट्टी देकर कर्मचारियों को बाहर निकालाApr 14, 2020, hindi.pgurus.com

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.