कोरोना को दोषी ठहराते हुए, इंडियन एक्सप्रेस ने भारी वेतन कटौती की

लोगों को पूरे वेतन पर रखने के लिए सभी से वकालत करते हुए, इंडियन एक्सप्रेस ने स्वयं इसके विपरीत किया!

4
1289
लोगों को पूरे वेतन पर रखने के लिए सभी से वकालत करते हुए, इंडियन एक्सप्रेस ने स्वयं इसके विपरीत किया!
लोगों को पूरे वेतन पर रखने के लिए सभी से वकालत करते हुए, इंडियन एक्सप्रेस ने स्वयं इसके विपरीत किया!

किसी बात का प्रचार करें और ठीक उससे विपरीत करें, जो मीडिया हाउसों की कार्य-प्रणाली बन गई है। व्यथित आर्थिक वर्गों के दर्द की जोश-खरोस से पत्रकारिता करते हुए, नौकरी में कटौती और वेतन कटौती के खिलाफ बहस करते हुए, इंडियन एक्सप्रेस (आईई) अखबार ठीक यही कर रहा है। यह सरकार के उन आदेशों के खिलाफ है, जिनमें वेतन कटौती न करने की सख्त चेतावनी दी गई है। लेकिन आईई ने अपने पत्रकारों और कर्मचारियों के लिए 10% से 30% तक भारी वेतन कटौती की घोषणा करते हुए दावा किया कि वे कोविड -19 की चपेट में हैं; वहां काम कर रहे कई पत्रकारों का कहना है कि प्रबंधन घोर झूठ बोल रहा है। वे कहते हैं कि आईई का अगला कदम टेलीग्राफ और हिंदुस्तान टाइम्स की पिछले वर्षों की भारी नौकरी कटौती जैसी ही नौकरियों में कटौती करना होगा।

इंडियन एक्सप्रेस के मुख्य कार्यकारी अधिकारी जॉर्ज वर्गीज द्वारा जारी किए गए पत्र अनुसार (इस लेख के अंत में प्रकाशित), प्रति वर्ष 5 लाख रुपये से कम वेतन पाने वाले व्यक्तियों को वेतन कटौती से बख्शा गया है। 10% वेतन कटौती 5 लाख रुपये से 7.5 लाख रुपये प्रति वर्ष पाने वाले कर्मचारियों पर लागू होती है। 7.5 लाख से 10 लाख रुपये प्रति वर्ष पाने वालों के लिए वेतन में 15% कटौती की जाएगी और 10 लाख रुपये से 20 लाख रुपये प्रति वर्ष प्राप्त करने वालों पर 20% वेतन कटौती लागू की जाएगी। 1 अप्रैल, 2020 को कर्मचारियों को दिए गए नोटिस में कहा गया है कि 20 लाख रुपये से लेकर 35 लाख रुपये तक 25% और सालाना 35 लाख रुपये से अधिक की आय वालों के वेतन में 30% कटौती की जाएगी।

इंडियन एक्सप्रेस के पत्रकारों ने कहा, “पहले हमें लगा कि हमें अप्रैल फूल बनाया गया, क्योंकि संदेश की तारीख 1 अप्रैल थी।” इंडियन एक्सप्रेस में अधिकांश पत्रकार प्रतिवर्ष 7.5 लाख रुपये से ऊपर प्राप्त करने वाले हैं और सभी वरिष्ठ पत्रकार 10 लाख रुपये प्रति वर्ष की श्रेणी में हैं। अखबार उद्योग में, इंडियन एक्सप्रेस को पत्रकारों के लिए अच्छा वेतन देने वाला माना जाता था। पत्रकारों के अनुसार, संपादक राज कमल झा का वेतन सभी प्रकार के अनुलाभों के साथ “प्रति माह 20 लाख रुपये से अधिक” है। वे कहते हैं कि पूर्व संपादक शेखर गुप्ता के वेतन की तुलना में, झा का वेतन “बहुत ज्यादा कम” है। पत्रकारों के अनुसार, 2014 में इंडियन एक्सप्रेस को छोड़ने वाले शेखर गुप्ता 10 करोड़ रुपये के वार्षिक पैकेज का आनंद ले रहे थे, जो भारतीय पत्रकारिता या विश्व पत्रकारिता परिदृश्य में सबसे अधिक है।

इस खबर को अंग्रेजी में यहाँ पढ़े।

शेखर गुप्ता अपनी पत्नी नीलम जॉली के साथ अभी भी इंडियन एक्सप्रेस में 14 प्रतिशत शेयर रखते हैं। 2000 के दशक की शुरुआत से इंडियन एक्सप्रेस पूरी तरह से शेखर गुप्ता के नियंत्रण में था, जब मालिक विवेक गोयनका कई व्यक्तिगत मुद्दों के कारण “देश से बाहर या नियंत्रण से बाहर” थे। कई अंदरूनी सूत्रों का कहना है कि उन दिनों इंडियन एक्सप्रेस को उद्योगपति मुकेश अंबानी और भ्रष्ट पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम ने मदद की थी। कई लोगों को लगता है कि शेखर गुप्ता को हिस्सेदारी (शेयर) उसके द्वारा की गई मदद के लिए दी गई थी।”

बाद में 2013 में विवेक गोयनका के बेटे अनंत गोयनका के उदय के बाद, शेखर गुप्ता को गोयनका परिवार द्वारा बाहर का रास्ता दिखाया गया था। इंडियन एक्सप्रेस के तहत पूरे भारत में 200 से अधिक पत्रकारों का एक विशाल तंत्र है और मुद्रण, विपणन, संचलन और ऑनलाइन विभागों से संबंधित 750 से अधिक अन्य कर्मचारी हैं। राज कमल झा के अलावा, उन्नी राजेश शंकर, रितु सरीन, वंदिता मिश्रा, राकेश सिन्हा, वैद्यनाथन अय्यर, अमिताभ रंजन, और अजय शंकर जैसे वरिष्ठ संपादकों को प्रति माह 5 लाख रुपये से 20 लाख रुपये से अधिक का भुगतान किया जाता है।

इंडियन एक्सप्रेस के पत्रकारों ने कहा – वेतन कटौती पर लंबे पत्र की विडंबना यह है कि इसमें अखबार के संस्थापक रामनाथ गोयनका को भी गलत तरीके से उद्धरण किया है, जिन्होंने कभी आपातकाल के दिनों में सरकार से लड़ने और सरकार द्वारा विज्ञापन में कटौती के साथ अखबार को निचोड़ने के दौरान भी इंडियन एक्सप्रेस के पत्रकारों के साथ ऐसा नहीं किया था। उन्होंने विभिन्न सरकारों के पर्याप्त विज्ञापन नहीं मिलने के संगठन के अंदर “अफवाह” अभियान के प्रबंधन का भी आरोप लगाया। उन्होंने कहा, “ये निराधार हैं। इंडियन एक्सप्रेस को केंद्र और सभी राज्य सरकारों से अच्छे विज्ञापन मिलते हैं। कोरोना में प्रबंधन ने एक सुविधाजनक बहाना पाया,” उन्होंने गोयनका परिवार जो इंडियन एक्सप्रेस का प्रमुख शेयरधारक है, पर आरोप लगाया कि शेखर गुप्ता के बाहर निकलने के बाद वर्तमान शीर्ष संपादकों के पास प्रबंधन से निपटने के लिए कोई इक्षाशक्ति नहीं है।

कोविड-19 के कारण वेतन में कटौती पर इंडियन एक्सप्रेस के सीईओ का पूरा पत्र नीचे प्रकाशित किया गया है:

Indian Express CEO Letter by PGurus on Scribd

4 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.