मेरा बच्चा संस्कृत क्यों पढ़ता है?

संस्कृत के गुण आपके बच्चे के गुण बन जाएंगे- यानी आपके बच्चे का मन और दिल सुंदर, सटीक और विश्वसनीय हो जाएगा।

0
749
मेरा बच्चा संस्कृत क्यों पढ़ता है?
मेरा बच्चा संस्कृत क्यों पढ़ता है?

दुनिया में एक भाषा है जिसका जीवनकाल छोटा नहीं है। संस्कृत एकमात्र अपवाद है। यह कभी न मरने वाला स्थिरांक है।

आयरलैंड के डबलिन में जॉन स्कॉटस स्कूल में एक संस्कृत शिक्षक रटगर कॉर्टेनहॉर्स्ट, भाषा के साथ अपने अनुभव के आधार पर, बच्चों को संस्कृत सिखाने के मूल्य पर अपने स्कूल के बच्चों के माता-पिता से बात करते हैं।

गुड इवनिंग लेडीज एंड जेंटलमेन, हम “मेरा बच्चा जॉन स्कॉटस में संस्कृत क्यों पढ़ता है?” इस विषय पर मिलकर एक घंटे बिताने जा रहे हैं। मेरा दावा है कि घंटे के अंत में आप सभी इस निष्कर्ष पर पहुंचेंगे कि आपके बच्चे वास्तव में भाग्यशाली हैं कि यह असाधारण भाषा उनके पाठ्यक्रम का हिस्सा है।

सबसे पहले, आइए हम देखें कि मेरे बच्चे को संस्कृत क्यों पढ़ाया जाना चाहिए? हम इस भाषा को सीखाने वाले आयरलैंड के एकमात्र स्कूल हैं, इसलिए इसे समझाने की आवश्यकता होगी।

यूके और दुनिया भर में एक और 7 जेएसएस-प्रकार के स्कूल हैं जिन्होंने संस्कृत को अपने पाठ्यक्रम में शामिल करने का निर्णय लिया है (वे सभी दर्शनशास्त्र की पाठशाला के उप-शाखा हैं)।

दूसरी बात यह कि संस्कृत कैसे पढ़ाई जाती है? आपने अपने बेटे या बेटी को स्कूल से घर जाते समय सिर्फ मनोरंजन के लिए कार के पीछले सीट पर बैठकर संस्कृत व्याकरण गीत गाते सुना होगा। मैं कुछ समय बिताकर आपको बताऊंगा कि मेरे भारत से सीखने के बाद अब हम संस्कृत कैसे पढ़ाते हैं।

संस्कृत की सुस्पष्टता का कारण यह है कि इसकी वर्णमाला के वास्तविक ध्वनियों को सही तरह से संरचित और परिभाषित किया गया है।

लेकिन संस्कृत ही क्यों?

इसके उत्तर के लिए हमें संस्कृत के गुणों को देखना होगा। ध्वनि की सुंदरता, उच्चारण में सटीकता और विश्वसनीयता के साथ-साथ इसकी संरचना के हर पहलू में संपूर्णता की वजह से संस्कृत अन्य सभी भाषाओं से ऊपर है। यही कारण है कि अन्य सभी भाषाओं के विपरीत, यह मौलिक रूप से कभी नहीं बदला है। मानवता की सबसे उत्तम भाषा होने के कारण इसे कभी बदलने की कोई आवश्यकता नहीं पड़ी।

जब हम शेक्सपियर की अंग्रेजी पर विचार करते हैं, तो हमें एहसास होता है कि हमारे लिए उनकी अंग्रेजी भाषा कितनी अलग और इसलिए कठिन थी, हालांकि यह 500 साल से भी कम समय पहले की अंग्रेजी है। हमें शेक्सपियर की अंग्रेजी या किंग जेम्स बाइबल के अर्थ समझने में कठिनाई होती हैं। थोड़ा और पीछे जाएं और हमें लगभग 700 ई के चौसर के ‘पिलग्रिमस प्रोग्रेस’ के समय के अंग्रेजी के बारे में कुछ भी पता नहीं है। हम अब उसे अंग्रेजी भी नहीं कह सकते और इसलिए इसे सही तरीके से एंग्लो-सैक्सन कहते हैं। तो अंग्रेजी तब पैदा भी नहीं हुई थी!

सभी भाषाएँ पहचान से परे बदलती रहती हैं। वे बदलते हैं क्योंकि वे दोषपूर्ण हैं। परिवर्तन वास्तव में सड़न हैं। वे पैदा होते हैं और सात या आठ सौ वर्षों के बाद मर जाते हैं – एक विशालकाय लाल लकड़ी पेड़ (रेडवुड ट्री) के जीवनकाल के समय जितना- क्योंकि इतने सड़न के बाद उनमें कोई जान ही नहीं बचता है।

हैरानी की बात यह है कि दुनिया में एक ऐसी भाषा है जिसकी जीवनकाल इतनी छोटी नहीं है। संस्कृत एकमात्र अपवाद है। यह कभी न मरने वाला स्थिरांक है। संस्कृत की निरंतरता का कारण यह है कि यह पूरी तरह से संरचित और विचार किया हुआ है। ऐसा कोई शब्द नहीं है जिसे इसके व्याकरण या व्युत्पत्ति विज्ञान में छोड़ दिया गया है, जिसका अर्थ है कि हर शब्द मूल रूप से कहाँ से आया है यह पता लगाया जा सकता है। इसका मतलब यह नहीं है कि नए शब्दों के लिए कोई जगह नहीं। जिस तरह अंग्रेजी में हम आधुनिक आविष्कारों को व्यक्त करने के लिए ग्रीक और लैटिन से पुरानी अवधारणाओं का उपयोग करते हैं जैसे: टेलीविजन (टेली [दूर] – विजन [देखना]) या कंप्यूट-र।

वास्तव में संस्कृत छोटे शब्दों और भागों से समास शब्द बनाने में माहिर है। स्वयं संस्कृत ‘सम्स+क्रित’ शब्द का अर्थ है – पूर्णतः बनाया हुआ

तो एक मूल रूप से अपरिवर्तित भाषा के क्या फायदे हैं? स्थिर दोस्त के क्या फायदे है, कल्पना करें? क्या वे विश्वसनीय हैं? यदि आप हजारों साल पुराने किसी संस्कृत ग्रंथ को देखेंगे तो क्या होगा?

संस्कृत की असाधारण विशेषताओं को दुनिया भर में कुछ शताब्दियों से मान्यता दी गई है, इसलिए आपको कई देशों के विश्वविद्यालय में संस्कृत संकाय मिलेंगे। चाहे आप हवाई, कैम्ब्रिज या हार्वर्ड और यहां तक कि डबलिन के ट्रिनिटी कॉलेज में भी संस्कृत के लिए एक सीट है – हालांकि वह वर्तमान में खाली है। हो सकता है कि आप में से किसीका बच्चा आनेवाले समय में उस स्थान को फिर से भर दे?

यद्यपि भारत इसका संरक्षक रहा है, संस्कृत का सदियों से वैश्विक आकर्षण है। इस भाषा द्वारा पहुंचाया गया ज्ञान पश्चिम में लोगों को आकर्षित करता है जैसा कि हम योग और आयुर्वेदिक चिकित्सा के साथ-साथ ध्यान तकनीकों, और हिंदू धर्म, बौद्ध धर्म और व्यावहारिक दर्शन जैसे दर्शनशास्त्र की पाठशाला में उपयोग किए जाने वाले सिद्धांतो, से देख सकते हैं। यह स्थानीय परंपराओं और धर्मों के साथ टकराव के बजाय समर्थन, विस्तार और ज्ञानवर्धन करता है।

संस्कृत की सुस्पष्टता का कारण यह है कि इसकी वर्णमाला के वास्तविक ध्वनियों को सही तरह से संरचित और परिभाषित किया गया है। ध्वनियों के मुंह, नाक और गले में एक विशेष स्थान है जिसे परिभाषित किया जा सकता है और जो कभी नहीं बदलेंगे।

यही कारण है कि संस्कृत में अक्षरों को अविनाशी [अक्षराणी] कहा जाता है। संस्कृत एकमात्र ऐसी भाषा है जिसमें सचेत रूप से ध्वनियों को पहले सिद्धांतों पर आधारित किया है। इसलिए सभी अविनाशी [अक्षरों] के लिए पांच मुख-स्थान परिभाषित किए गए हैं और कुछ स्पष्ट रूप से वर्णित मानसिक और शारीरिक प्रयासों द्वारा सभी व्यवस्थित रूप से योजनाबद्ध हैं: [बिंदु चार्ट]

सक्षम संस्कृत शिक्षकों को उन लोगों के साथ रहने की आवश्यकता है जो अपने दिनचर्या के दौरान संस्कृत में वार्तालाप करते है।

इस विवरण के बाद, हम a, b, c, d, e, f, g… में कौनसी संरचना को पा सकते हैं? कोई भी नहीं, सिवाय इसके कि शायद यह, ‘a’ से शुरू होता है, और वहाँ से नीचे चला जाता है।

फिर संस्कृत लिपि का सरासर सौंदर्य है जिसे आज हम आज सीखते हैं। [बोर्ड पर कुछ उदाहरण]

आपके मन में यह सवाल उठ सकता हैं: ठीक है, लेकिन इसलिए मेरे बेटे या बेटी को अपने पहले से ही व्यस्त स्कूल-डे में सीखने के लिए एक और विषय और एक अन्य लिपि की क्या जरूरत? 2012 में पश्चिमी दुनिया में संस्कृत के अध्ययन से उन्हें क्या फायदा होगा?

संस्कृत के गुण आपके बच्चे के गुण बन जाएंगे- यानी आपके बच्चे का मन और दिल सुंदर, सटीक और विश्वसनीय बन जाएगा।

संस्कृत स्वचालित रूप से आपके बच्चे और इसे सीखने वाले किसी भी व्यक्ती को इसकी अचूक सटीकता के कारण पूरा ध्यान देने को सीखती है। जब सटीकता होती है तो अनुभव होता है, कि इससे उत्थान होता है। यह आपको खुश करता है। किसी नौसिखिया के लिए भी यह अनुभव करना मुश्किल नहीं है। आपको बस इतना करना है कि आपका ध्यान ठीक है और संगीत की तरह, आप आकर्षित होंगे और जोशीला महसूस करेंगे। ध्यान की यह सटीकता जीवन के सभी विषयों, क्षेत्रों और गतिविधियों में मददगार सिद्ध होगा, स्कूल में भी और जीवनभर के लिए। यह आपके बच्चे को किसी अन्य बच्चों पर प्रतिस्पर्धात्मक लाभ देगा। वे पूरी तरह से, आसानी से और स्वाभाविक रूप से भाग लेने में सक्षम होंगे। इस प्रकार रिश्तों, काम, खेल के मामले में – वास्तव में, जीवन के सभी पहलुओं में, वे बेहतर प्रदर्शन करेंगे और अधिक संतुष्टि प्राप्त करेंगे। जिसमें भी आप पूरी तरह से भाग लेते हैं, आप उसमें उत्कृष्टता प्राप्त करते हैं और आपको अधिक आनंद मिलता हैं।

संस्कृत का अध्ययन करने से, अन्य भाषाओं को बहुत आसानी से सीखा जा सकता है; क्योंकि यह वह भाषा है जिससे अन्य सभी भाषाएं भिन्नात्मक रूप से उधार लेते हैं। संस्कृत व्याकरण आयरिश या ग्रीक, लैटिन या अंग्रेजी में भाग में दिखाई देता है। इन सभी में संपूर्ण संस्कृत व्याकरण का एक हिस्सा है। कुछ दूसरों की तुलना में अधिक विकसित होते हैं, लेकिन हमेशा संस्कृत व्याकरण का केवल एक हिस्सा होता है, जो अपने आप में पूर्ण है।

संस्कृत हमें यह सिखाती है कि एक ऐसी भाषा है जो आदेशित है, कानूनों का पालन करने वाली और उन्हें लागू करने पर आपका बच्चा सुधर जाता है, न केवल जब वे बड़े होते हैं, बल्कि वे उसे बोल रहे होते हैं! इसका मतलब है कि उन्हें भाषा में एक असामान्य लेकिन सटीक, निश्चित और स्पष्ट अंतर्दृष्टि मिलती है, साथ ही आनंद भी मिलता है।

वे संस्कृत, जो सभी भाषाओं की मातृभाषा है, सहित सभी भाषाओं में अच्छी तरह से बोलना सीखते हैं। जिनकी भाषण कला अच्छी होती है वो दुनिया को चलाते हैं। बराक ओबामा असरदार है क्योंकि उनकी वाक-पटुता अच्छी है। महात्मा गांधी अच्छी तरह से संतुलित शब्दों द्वारा बड़ी मात्रा में लोगों को प्रेरित कर सकते थे। मदर थेरेसा खुद को सरल शब्दों में व्यक्त कर सकती थी जो हमें आज भी भी प्रोत्साहित करती हैं।

सदियों और सहस्राब्दियों के बाद हमारे पास अतीत के मानवता के महान शिक्षकों की भाषा ही रह गई है, लेकिन इससे बहुत फर्क़ पड़ता है। हम उनके शब्दों के माध्यम से प्लेटो के उल्लेखनीय दिमाग को समझ सकते हैं। यदि आपकी बेटी या बेटा खुद को अच्छी तरह से जागरूक भाषा के माध्यम से व्यक्त कर सकते हैं तो वे अगली पीढ़ी के नेता होंगे।

संस्कृत में वेदों और गीता के माध्यम से व्यक्त किए गए दुनिया के सबसे व्यापक लेखन है। विलियम बटलर यीट्स द्वारा भाषांतर किए गए उपनिषदों ने दुनिया भर के लोगों को एक सदी से अधिक समय से सार्वभौमिक धार्मिक भावनाओं में अंतर्दृष्टि दी है।

ज्ञान के इन सरल शब्दों को मूल भाषा में जानना प्रतियों या अनुवादों पर निर्भर करने से बेहतर है क्योंकि प्रतियां हमेशा मूल से हीन होते हैं। हमें वास्तव में सार्वभौमिक धर्म की स्पष्ट जानकारी की आवश्यकता है, खासतौर पर आज के समय में जब सही तरह से ना समझे गए और आधे-अधूरे धार्मिक विचारों से उत्पन्न होने वाली धार्मिक कट्टरता और आतंकवाद का बड़े पैमाने पर सामना करना पड़ता है है।

संस्कृति

1880 में शिकागो में हुए विश्व धर्म सम्मेलन में भारत के एक महान आध्यात्मिक नेता विवेकानंद ने कहा:

आप दुनिया में ज्ञान का एक बड़ा हिस्सा रख सकते हैं, लेकिन उससे कोई लाभ नहीं होगा। रक्त में कुछ संस्कृति आनी चाहिए। हम सभी आधुनिक समय के राष्ट्रों को जानते हैं, जिनके पास ज्ञान है, लेकिन उनमें क्या है? वे बाघों की तरह हैं; वे गंवारों की तरह हैं क्योंकि उनमें संस्कृति नहीं है।

केवल ऊपरी ज्ञान है, जैसा सभ्यता है, और थोड़ा खरोंचत ही पुरानी बर्बरता बाहर आती है। ऐसी बातें होती हैं; यही खतरा है। जनता को मूल भाषा में सिखाओ, उन्हें विचार दो; उन्हें जानकारी मिलेगी, लेकिन कुछ और आवश्यक है; उन्हें संस्कृति दें।

सार्वभौमिक, सामंजस्यपूर्ण और सरल सच्चाइयों को बेहतर ढंग से व्यक्त करने में संस्कृत आपके बच्चे की मदद कर सकती है। परिणामस्वरूप, आपने वास्तव में एक माता-पिता के रूप में अपना कर्तव्य निभाया होगा और दुनिया अधिक मानवीय, सामंजस्यपूर्ण और एकजुट समाज का लाभ प्राप्त करेगी। संस्कृत यह कर सकती है क्योंकि वह एकमात्र ऐसी भाषा है जो पूर्णतः ज्ञान पर आधारित है। इसमें संयोग के लिए कुछ भी नहीं छोड़ा गया है।

एक पल के लिए सोचें कि किसी बच्चे के लिए यह कितना भ्रामक है कि ‘रफ’ और ‘डो’ के वर्तनी एक जैसे हैं परंतु उच्चारण अलग है अंग्रेजी में महिला और महिलाओं में केवल ‘ओ’ और ‘ई’ का फर्क़ क्यों है? ‘स्पेशल’ और ‘सिनेमा’ के ‘सी’ अलग क्यों है?

शिक्षक बिल्कुल ये कह सकते हैं कि ‘बस इसे सीखें‘ क्योंकि कोई तार्किक व्याख्या नहीं है, लेकिन इससे किसी भी बच्चे को लगेगा कि यह सभी बस लापरवाही से किया गया खेल है। भाषा के मूलभूत निर्माण खंडों में यह यादृच्छिकता दुनिया के बारे में एक बच्चे को क्या सिखाता है? कि यह सिर्फ एक भ्रामक, यादृच्छिक इत्तफ़ाक है? इससे किसी को कैसे विश्वास मिलेगा?

अब एक ऐसी भाषा को देखे जहां सब कुछ नियमों पर चलता है। जहां एक अक्षर के विनम्र मूल से लेकर सबसे परिष्कृत दार्शनिक विचार तक कुछ भी इत्तफ़ाक नहीं है। इसे पढ़ने वाला बच्चा दुनिया का सामना कैसे करेगा? निश्चित रूप से आत्मविश्वास, स्पष्टता और खुद को व्यक्त करने की क्षमता के साथ?

मैंने खुद को और दूसरों को संस्कृत के साथ हमारे संपर्क की वजह से ऐसे गुणों में निपुण होते देखा है। मैंने अभी भारत में एक साल बिताया है। हालांकि यह एक साल के लिए एक तम्बू में डेरा डालने की तरह लगा, पर ये बहुत उपयोगी साबित हुआ।

कई वर्षों तक, हमने संस्कृत को कट्टरपंथियों जैसे पढ़ाया, अर्थात् बहुत ज्यादा उत्साह से और कम समझ के साथ, दर्शनशास्त्र की पाठशाला में और जॉन स्कॉटस स्कूल में बच्चों दोनों को। हमने शायद हमारे बहुत सारे छात्रों को प्रेरित नहीं किया और उनमें से कई को संस्कृत के अध्ययन से दूर कर दिया। मुझे ऐसा लगा कि हमें स्रोत पर जाने चाहिए।

सक्षम संस्कृत शिक्षकों को उन लोगों के साथ रहने की आवश्यकता है जो अपने दिनचर्या के दौरान संस्कृत में वार्तालाप करते है। इसलिए मैंने पहले ही तीन ग्रीष्मकाल बैंगलोर के पास ‘संस्कृत भारती’ में बिताए और कम अव्यवसायी बनने लगा, लेकिन इसके लिए वास्तव में अधिक गहन अध्ययन की आवश्यकता थी। इसलिए मैं एक साल के लिए एक पारंपरिक गुरुकुल में चला गया। इसका मतलब था गुरुकुल में रहना, बहुत सारा चावल खाना और थोड़े बहुत बिजली-कटौती और पानी की कमी सहना, लेकिन दिसंबर 2009 तक मैंने मन बना लिया कि मैं सीनियर स्कूल के वाइस-प्रिंसिपल पद को त्याग दूँगा और मेरे शेष शिक्षण जीवन के लिए खुद को संस्कृत के लिए समर्पित करूंगा।

मेरे लिए ये पदोन्नती जैसे लगा क्योंकि उप-प्राचार्य के पद के लिए कई दावेदार थे, लेकिन अभी ऐसा कौन अन्य शिक्षक था जो आयरलैंड में संस्कृत में आगे बढ़ सकता था? [उम्मीद है, मेरे मृत्यु से पहले यह स्तिथि बदल जाएगी।] मैं उम्मीद करता हूं कि संस्कृत के कारण उम्र के साथ मेरा दिमाग बेहतर हो जाएगा, भले ही मेरा शरीर थोड़ा धीमा हो जाए।

इस खबर को अंग्रेजी में यहाँ पढ़े।

संस्कृत की तुलना अक्सर पूर्णकालिक शिक्षक से की जाती है, जो आपके लिए हर समय मौजूद रहते है, जबकि अन्य भाषाएं अंशकालिक शिक्षकों की तरह हैं। संस्कृत का अध्ययन करने का मेरे ऊपर सर्वप्रथम प्रभाव यथार्थवादी आत्मविश्वास के रूप में पड़ा है। दूसरा, इसका मतलब था कि मुझे अधिक सटीक बनना था और अपने शब्दों को अधिक सावधानी से तौलकर बोलना था। इसने मुझे खुद को कम हिचकिचाहट के साथ व्यक्त करना भी सिखाया और इस तरह अधिक संक्षेप में बोलना सिखाया। मेरे ध्यान और प्रतिधारण की शक्ति निस्संदेह बढ़ी है।

शिक्षण विधि

अब, मैं कुछ मिनटों के लिए समझाता हूं, संस्कृत कैसे सिखाई जाती है। आश्चर्य की बात है कि इसे भारत में ज्यादातर जगहों पर सही तरह से नहीं पढ़ाया जाता है। छात्रों को इसे तब सीखाया जाता है जब वे 9 से 11 साल की उम्र के आसपास होते हैं और फिर वे इसे पढ़ना छोड़ देते हैं क्योंकि यह बहुत बुरी तरह से सिखाया जाता है! केवल कुछ बहुत बड़े प्रशंसक ही अध्ययन जारी रखते हैं, समय के साथ वही पुरानी विभक्ति अगली पीढ़ी को निरंतर सिखाते हैं। यह आंशिक रूप से भारत द्वारा पश्चिम की नकल करने की लालसा के कारण है और क्योंकि उनकी परंपरा को उपनिवेशवाद द्वारा व्यवस्थित रूप से जड़ दिया गया है इसलिए भी है।

व्याकरण सीखने और पूर्व के ज्ञान के लिए, मुझे एक पारंपरिक गुरुकुल में स्थान मिला, मुझे लगा कि लेकिन संस्कृत बोलने के लिए जो आधुनिक दृष्टिकोण जरूरी है वह मौजूद नहीं है।

तब मुझे पांडिचेरी में श्री अरबिंदो आश्रम से संबंधित इंटरनेशनल स्कूल के एक शिक्षक मिले। उनका नाम नरेंद्र है। उन्होंने व्याकरण सिखाने का एक उपन्यास, प्रेरक और प्रकाश विधि विकसित की है, जिससे आपको बिल्कुल भी व्याकरण पढ़ने की तरह महसूस नहीं होगा। साथ ही, यह शुरुआती छात्रों के लिए कमजोर नहीं किया गया है, इसलिए आप केवल आंशिक ज्ञान ही प्राप्त नहीं करेंगे। मैंने कुछ संस्कृत संभाषण शिविरों में भाग लिया, जिससे और अधिक परिचय मिला।

नरेंद्र का कहना है कि वह अपनी विधि का श्रेय श्री अरबिंदो और उनके साथी द मदर को देते है, जिसने उन्हें उस कोर्स को निर्माण करने के लिए प्रेरित किया जो अब हम डबलिन में उपयोग करते हैं। यह उन कई चीजों में से एक है, जिन्हें द मदर ने कहा था जिससे उन्हें प्रेरणा मिली: “तार्किक रूप से सिखाओ। आपका तरीका सबसे स्वाभाविक, कुशल और दिमाग को उत्तेजित करने वाला होना चाहिए। इसे एक बड़ी गति से छात्रों को आगे बढ़ाना चाहिए। आपको शिक्षण के किसी भी अतीत या वर्तमान तरीके पर ही टिकने की जरूरत नहीं।”

भाषा को अब और अधिक सार्वभौमिक बनना होगा क्योंकि अब हम कुछ सेकंड के भीतर विश्व स्तर पर एक दूसरे के साथ जुड़ सकते हैं। नासा अमेरिका का स्पेस प्रोग्राम आईटी और कृत्रिम बुद्धि के संबंध में सक्रिय रूप से संस्कृत की ओर देख रहा है।

मैं वर्तमान में संस्कृत को पढ़ाने के हमारे सिद्धांतों को संक्षेप में इस प्रकार प्रस्तुत करूँगा:

1. भाषा सीखना केवल शिक्षाविदों के लिए नहीं है क्योंकि हर कोई छोटी उम्र से भाषा बोलना सीखता है, इससे पहले कि वे पढ़ और लिख सकें और जान सकें कि शिक्षक क्या है। तो शैक्षणिक दृष्टि से संस्कृत पढ़ाने पर जोर क्यों?

2. लेखन लिखावट सिखाई जाने वाली सबसे बुनियादी चीज नहीं है। एक भाषा सबसे पहले अपनी ध्वनियों, शब्दों और बोले गए वाक्यों से बनती है। [हम जिस लिखावट का उपयोग करते हैं, वह बहुत सुंदर ही सही- लेकिन केवल कुछ शताब्दियों पुरानी ही है।]

3. हमेशा जो ज्ञात है उससे नए की ओर अग्रसर होना चाहिए।

4. इस युग में समझना रटने से ज्यादा उपयोगी है। रटना केवल मानसिक कार्य का 10 प्रतिशत ही होना चाहिए, न कि जैसे हाल के वर्तमान में 90 प्रतिशत तक संस्कृत रटना सिखाया जाता है।

5. शब्द और अंत को अलगाव में ना सिखाएं; उन्हें वाक्य के संदर्भ में पढ़ाएं क्योंकि वाक्य किसी भी भाषा की सबसे छोटी सार्थक इकाई है।

6. किसी भी थकाऊ स्मृति कार्य जिसे टाला नहीं जा सकता उसे एक गीत के रूप में सिखाया जाना चाहिए।

7. व्याकरणिक शब्दों को न सिखाएं। जिस तरह हमें कार चलाना सीखने के लिए कार्बोरेटर के बारे में जानने की जरूरत नहीं ठीक उसी तरह हमें व्याकरणिक शब्दों सीखने की जरूरत नहीं है।

8. नरेंद्र के अनुसार एक औसत छात्र को पाठ्यक्रम को दो साल में समाप्त करना चाहिए। यह थोड़ा आशावादी हो सकता है क्योंकि हम भारत, जो अभी भी संस्कृत का संरक्षक है, में निवास नहीं कर रहे है और इसलिए ज्ञान क्षेत्र से थोड़ा बाहर हैं। फिलहाल, मैं कहूंगा कि यह तीन साल का पाठ्यक्रम होगा।

9. भाषा सीखना मजेदार होना चाहिए। पढ़ाई को सुखद बनाने के लिए नाटक, गीत, कंप्यूटर गेम और अन्य तरीकों का उपयोग करें।

हमने सितंबर से इस पाठ्यक्रम को शुरू किया है और इसने निश्चित रूप से हमारे विद्यार्थियों के चेहरों पर मुस्कान ला दी है, जो एक सुखद बदलाव है। मैं अब पूरी तरह से आश्वस्त महसूस करता हूं कि हम आपके बच्चों को एक संपूर्ण, संरचित और सुखद पाठ्यक्रम प्रदान कर रहे हैं। हमारे छात्रों को अंतर्राष्ट्रीय संस्कृत कैम्ब्रिज परीक्षा के लिए पूर्णतः तैयार हो जाना चाहिए जब तक कि वे दूसरे वर्ष के अंत में 14/15 की आयु समाप्त कर दें। हम उन्हें विभिन्न छंदों में निहित कुछ कालातीत ज्ञान भी सिखाएंगे। वर्तमान में हम उन्हें सिखा रहे हैं: “सारे जीव जंतू प्रभु के स्वरुप है। कुछ भी मांग न करें; आनंद लें! उनकी संपत्ति का लोभ न करें ”- बेशक इसके मूल रूप में।

भविष्य

आइए हम पुनर्जागरण के 500 साल के चक्र को देखें। आज हम जिस दुनिया में रहते हैं उसे आकार देने के लिए पिछले यूरोपीय पुनर्जागरण ने तीन विषयों को विकसित किया: कला, संगीत और विज्ञान। फ्लोरेंस में इसकी शुरुआत हुई थी। महान मानवतावादी मार्सिलियो फिकिनो ने प्लेटो को ग्रीक से लैटिन में अनुवाद करके आम जनता के लिए उनके विचारों को उपलब्ध कराया। हम रोमांचक समय में रहते हैं और जो शायद एक नए पुनर्जागरण की शुरुआत है। यह भी तीन नए विषयों पर आधारित होगा: कुछ का कहना है कि ये अर्थशास्त्र, कानून और भाषा होंगे।

भाषा को अब और अधिक सार्वभौमिक बनना होगा क्योंकि अब हम कुछ सेकंड के भीतर विश्व स्तर पर एक दूसरे के साथ जुड़ सकते हैं। नासा अमेरिका का स्पेस प्रोग्राम आईटी और कृत्रिम बुद्धि के संबंध में सक्रिय रूप से संस्कृत की ओर देख रहा है।

श्री अरबिंदो ने कहा, “… एकाएक राजसी और मधुर और लचीले, मजबूत और स्पष्ट रूप से गठित और पूर्ण और जीवंत और सूक्ष्म …”।

जॉन स्कॉटस विद्यार्थियों ने क्या कहा है:

यह आपके दिमाग को उज्ज्वल, तेज और स्पष्ट बनाता है।

यह आपको शांत और खुश महसूस कराता है।

यह आपको बड़ा महसूस कराता है।

यह आपकी जीभ को साफ और ढीला करता है जिससे आप किसी भी भाषा का उच्चारण आसानी से कर सकते है।

नासा में रिक ब्रिग्स जैसे संस्कृत उत्साही लोगों ने क्या कहा:

यह आपको विशाल और मुक्त करने वाले साहित्य तक पहुंचाता है।

यह मानव जीवन के सभी पहलुओं का वर्णन कर सकता है चाहे वह सबसे अमूर्त दार्शनिक हो या फिर नवीनतम वैज्ञानिक खोज, जो आगामी विकास की ओर संकेत करते है।

संस्कृत और कंप्यूटर एक दूसरे के साथ सही बैठते हैं। कंप्यूटर साधन के साथ संस्कृत का सटीक खेल मानव में अपने उच्चतर मानसिक संकाय का उपयोग करने की क्षमता को जागृत करेगा जो अनिवार्य रूप से मन को बदल देगा। वास्तव में, बड़ी संख्या में लोगों द्वारा संस्कृत सीखना अपने आप में केवल जागरुकता में बहुत बड़ परिवर्तन का प्रतिनिधित्व करता है, भविष्य के संचार के क्षेत्र में प्रदान करने वाले समृद्ध बंदोबस्ती का उल्लेख करने की जरूरत नहीं। नासा, कैलिफोर्निया

हजारों वर्षों के बाद, संस्कृत अभी भी एक ऐसी शक्ति के साथ जीवित है जो हमारी धरती को पुनर्जीवित कर एकता को बहाल कर सकती है और हमारे त्रस्त ग्रह पर शांति को प्रेरित कर सकती है। यह एक पवित्र उपहार है, एक अवसर है। भविष्य बहुत उज्ज्वल हो सकता है।

रिक ब्रिग्स [नासा]

इस स्तर पर आपके पास कुछ सवाल जरूर हो सकते हैं जिसके बाद मैं आपको दर्शकों के बीच हमारे एक व्यक्ति से परिचित कराना चाहूंगा। एक पालक जो संस्कृत व्याकरण के प्रति अति उत्साहित बन गया है: जॉन डोरन। मैं चाहूंगा कि वह इस सेशन को समाप्त करें।

मैं नासा के रिक ब्रिग्स को अपनी ओर से आखिरी शब्द दूंगा:

एक चीज तो निश्चित है; संस्कृत वैश्विक भाषा केवल तब बनेगी जब इसे रोमांचक और सुखद तरीके से सिखाया जाए। इसके अलावा, इसे व्यक्तिगत शिक्षा के अवरोधों को एक ऐसे माहौल में स्पष्टता और करुणा के साथ सीखाया जाना चाहिए जिससे हर किसी को आगे बढ़ने, जोखिम लेने, गलतियां करने और उनसे सीखने के लिए प्रोत्साहन मिले।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.