हम भारत में रिश्वत के आरोपों को गंभीरता से लेते हैं और उनकी पूरी जांच करेंगे: अमेज़न। भारतीय व्यापारियों के संगठन सीएआईटी ने सीबीआई जांच की मांग की

अमेज़न आप? क्या आपके कानूनी प्रतिनिधियों ने खुद को बचाने की कोशिश की?

3
349
अमेज़न आप भी? क्या आपके कानूनी प्रतिनिधियों ने खुद को बचाने की कोशिश की?
अमेज़न आप भी? क्या आपके कानूनी प्रतिनिधियों ने खुद को बचाने की कोशिश की?

सीएआईटी ने अमेज़न पर रिश्वतखोरी के आरोप की सीबीआई जांच की मांग की

अमेज़न द्वारा भारत में अपने कुछ कानूनी प्रतिनिधियों के खिलाफ रिश्वत से संबंधित आरोपों की जांच के बीच, यूएस ई-कॉमर्स दिग्गज ने सोमवार को कहा कि यह अनुचित कार्यों के आरोपों को बहुत ही गंभीरता से लेता है और उचित कार्रवाई करने के लिए पूरी तरह से जांच करता है। आरोपों की पुष्टि या खंडन किए बिना, अमेज़न ने कहा कि वह “भ्रष्टाचार को बिल्कुल बर्दाश्त नहीं करता” है। द मॉर्निंग कॉन्टेक्स्ट की एक रिपोर्ट के अनुसार, अमेज़न ने भारत सरकार के अधिकारियों को कथित रूप से रिश्वत देने के लिए अपने कुछ कानूनी प्रतिनिधियों के खिलाफ जांच शुरू की है। इस मामले में कथित तौर पर इसके वरिष्ठ कॉरपोरेट वकील को छुट्टी पर भेज दिया गया है।[1]

अमेज़न के एक प्रवक्ता ने भारत में रिश्वतखोरी के आरोपों पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कहा: “भ्रष्टाचार को हम बिल्कुल बर्दाश्त नहीं करते हैं। हम अनुचित कार्यों के आरोपों को गंभीरता से लेते हैं, उनकी पूरी जांच करते हैं, और उचित कार्रवाई करते हैं। हम इस समय विशिष्ट आरोपों या किसी जांच की स्थिति पर टिप्पणी नहीं कर रहे हैं।” इस बीच, व्यापारियों के संगठन सीएआईटी ने यह कहते हुए सीबीआई जांच की मांग की है, कि मामला सरकार की विश्वसनीयता से संबंधित है और सरकार के भीतर सभी स्तरों पर भ्रष्टाचार को दूर करने के दृष्टिकोण के खिलाफ है।

सीएआईटी के राष्ट्रीय अध्यक्ष बीसी भरतिया और महासचिव प्रवीण खंडेलवाल ने कहा कि इस बात की जांच करने की जरूरत है कि क्या कथित रिश्वत का “चल रही जांच से कोई संबंध है या अमेज़न द्वारा कानून और नियमों के निरंतर उल्लंघन से संबंधित है।”

अखिल भारतीय व्यापारी संघ (सीएआईटी) ने यह भी मांग की कि मामले में शामिल अधिकारियों के नाम सार्वजनिक किए जाएं और उनके खिलाफ अनुकरणीय कार्रवाई की जाए। सीएआईटी, जिसने वाणिज्य मंत्री पीयूष गोयल को एक पत्र भेजा है, ने कहा कि वह इस मुद्दे की “निष्पक्ष और स्वतंत्र जांच” की मांग के लिए अमेरिकी प्रतिभूति और विनिमय आयोग (एसईसी) के अध्यक्ष गैरी जेन्सलर के पास भी एक प्रतिनिधित्व भेज रहा है। इससे पहले सीएआईटी ने इंफोसिस नारायण मूर्ति पर भारत में अमेज़न की पैरवी करने का आरोप लगाया था। उन्होंने कहा था कि मूर्ति से जुड़ी फर्म क्लाउडटेल भारत में अमेज़न की प्रमुख विक्रेता है।[1]

इस खबर को अंग्रेजी में यहाँ पढ़े।

सीएआईटी के राष्ट्रीय अध्यक्ष बीसी भरतिया और महासचिव प्रवीण खंडेलवाल ने कहा कि इस बात की जांच करने की जरूरत है कि क्या कथित रिश्वत का “चल रही जांच से कोई संबंध है या अमेज़न द्वारा कानून और नियमों के निरंतर उल्लंघन से संबंधित है।” उन्होंने कहा कि भारतीय ई-कॉमर्स बाजार और खुदरा व्यापार को अनुचित प्रभाव, प्रभुत्व के दुरुपयोग और सरकारी अधिकारियों के साथ मिलीभगत से बचाने के लिए इन कदमों की आवश्यकता है, जो भ्रष्टाचार विरोधी अधिनियम के तहत आता है। घटनाक्रम ऐसे समय में आया है जब अमेज़न निष्पक्ष व्यापार पर निगरानी रखने वाली संस्था भारतीय प्रतिस्पर्धा आयोग (सीसीआई) द्वारा कथित प्रतिस्पर्धा-विरोधी प्रथाओं, प्रलोभनकारी मूल्य निर्धारण और विक्रेताओं के तरजीही व्यवहार के लिए जांच का सामना कर रहा है।

अमेज़न का फ्यूचर ग्रुप के साथ भी कानूनी विवाद चल रहा है। अमेज़न फ्यूचर ग्रुप और रिलायंस रिटेल वेंचर्स लिमिटेड के बीच 24,713 करोड़ रुपये के सौदे के खिलाफ है और फ्यूचर ग्रुप को सिंगापुर इंटरनेशनल आर्बिट्रेशन/ मध्यस्थता सेंटर (एसआईएसी) में खींचकर ले गया है। अमेज़न ने तर्क दिया है कि फ्यूचर ने प्रतिद्वंद्वी रिलायंस के साथ सौदा करके अनुबंध का उल्लंघन किया है। अमेज़न और फ्यूचर ग्रुप ने इस मुद्दे पर सुप्रीम कोर्ट सहित भारतीय अदालतों में भी मुकदमे दायर किए थे। अमेज़न फ्यूचर कूपन में एक निवेशक है, जो बदले में फ्यूचर रिटेल लिमिटेड में एक शेयरधारक है।

संदर्भ:

[1] Amazon whistleblower alleges India lawyers bribed officialsSep 20, 2021, The Morning Context

3 COMMENTS

  1. […] अमेज़न ने पिछले तीन वर्षों में 8546 करोड़ रुपये के अपने कथित कानूनी शुल्क पर भारत के वाणिज्य मंत्रालय को स्पष्टीकरण दिया है, सूत्रों के अनुसार जिसमें कहा गया है कि खर्च में पेशेवर शुल्क भी शामिल है। स्पष्टीकरण उन रिपोर्टों के बाद आया है जिनमें कहा गया था कि अमेज़न ने देश में 2018-20 के दौरान कानूनी और व्यावसायिक खर्चों के रूप में लगभग 8,546 करोड़ रुपये या 1.2 बिलियन अमरीकी डालर खर्च किए हैं। अमेरिकी मीडिया में एक मुखबिर (व्हिसलब्लोअर) के हवाले से रिपोर्ट आई थी कि अमेज़न के खातों से पता चलता है कि उसने पिछले तीन वर्षों में भारत में 8546 करोड़ रुपये खर्च किए हैं और माना जाता है कि इस विशाल फंड को भारत में रिश्वत के भुगतान के लिए खर्च किया गया था।[1] […]

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.