एके-203 राइफल के स्वदेशी वर्जन को आने में और लगेगा समय; अमेठी में नहीं शुरू हो पाया प्रोडक्शन!

अभी कोरवा ऑर्डिनेस फैक्ट्री परिसर में इंडो-रशिया राइफल्स प्राइवेट लिमिटेड (आईआरआरपीएल) के प्लांट का निर्माण कार्य जारी है।

0
45
एके-203 राइफल के स्वदेशी वर्जन को आने में और लगेगा समय
एके-203 राइफल के स्वदेशी वर्जन को आने में और लगेगा समय

एके-203 राइफल के स्वदेशी वर्जन का इंतजार 15 वर्षों से हो रहा है!

भारतीय सेनाओं के लिए 15 साल से चल रहा हल्की स्वदेशी असॉल्ट राइफल का इंतजार और बढ़ गया है। उत्तरप्रदेश में अमेठी के पास कोरवा में कलासनिकोव सीरीज की एके 203 असॉल्ट राइफल का प्लांट शुरू नहीं हो पाया है। रूस-यूक्रेन के बीच 300 दिन से अधिक समय से चल रहे युद्ध का साया इस प्लांट के ऑपरेशनल होने पर पड़ा है।

अभी कोरवा ऑर्डिनेस फैक्ट्री परिसर में इंडो-रशिया राइफल्स प्राइवेट लिमिटेड (आईआरआरपीएल) के प्लांट का निर्माण कार्य जारी है।

यहां ऑर्डिनेस फैक्ट्री के दो-तीन हॉल पहले से तैयार हैं। राइफल टेस्टिंग के लिए इनडोर फायरिंग रेंज सहित प्रोडक्शन लाइन का निर्माण जारी है। आईआरआरपीएल में रूसी इंजीनियरों और स्किल्ड टीम का रिक्रूटमेंट हो चुका है। जो भारतीय टीम को ट्रेनिंग देगी। अब 2023 में राइफल का प्रोडक्शन शुरू होने की संभावना है।

रूसी हथियार कंपनी रोसोबोरोनेक्सपोर्ट के महानिदेशक अलेक्सांद्र मिखीव कह चुके हैं कि कोरवा से 2022 के अंत तक एके-203 का उत्पादन होना था। प्रोजेक्ट थोड़ा लेट हो गया है। 40 हजार राइफल्स के बैच में चरणबद्ध तरीके से स्वदेशी सामग्री को 5% से 100% किया जाएगा।

अभी सेना के तीनों अंगों के पास करीब 8 लाख स्वदेशी इंसास (इंडियन स्माल आर्म्स सिस्टम) राइफल हैं। इस डील के तहत इंसास की जगह 20 हजार एके 203 की पहली खेप सीधे रूस से आनी हैं। यूक्रेन से युद्ध के चलते इसमें भी देरी हो रही हैं। डील के तहत ये दस साल का प्रोजेक्ट है। 1.20 लाख राइफल्स के बाद पूर्ण स्वदेशी राइफल तैयार होगी।

भारत टेक ट्रांसफर के बाद 100% स्वदेशीकरण चाहता है। रूस अभी 60% पर ही सहमत है। एक राइफल की कीमत 80 से 90 हजार रुपए तक आएगी। भारत इस राइफल के रेट को कम करना चाहता है। हल्की और हर मौसम में कारगर एके-203 की कई खूबियां हैं जो भारतीय सेना की जरूरतों को पूरा करती हैं।

इसमें 1 मिनट में 700 राउंड फायर करने की क्षमता है। 500 से 800 मीटर यानी 1649 से 2620 फीट की रेंज है। एक मैग्जीन में 30 राउंड रहते हैं।
वजन: 3.8 किलो
बैरल: 16.3 इंच
कैलिबर: 7.62 एमएम
लंबाई: 705 मिलीमीटर

[आईएएनएस इनपुट के साथ]

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.