ए-लिस्ट उद्यमियों और क्रिकेटर जवागल श्रीनाथ ने कू ऐप में चीन की शुनवेई कैपिटल की हिस्सेदारी खरीदी

भारतीय ए-लिस्ट उद्यमियों ने ट्विटर के लिए भारत के विकल्प "कू" की मूल फर्म में चीनी निवेशकों शुनवेई कैपिटल की हिस्सेदारी खरीदी है!

0
651
भारतीय ए-लिस्ट उद्यमियों ने ट्विटर के लिए भारत के विकल्प
भारतीय ए-लिस्ट उद्यमियों ने ट्विटर के लिए भारत के विकल्प "कू" की मूल फर्म में चीनी निवेशकों शुनवेई कैपिटल की हिस्सेदारी खरीदी है!

श्रीनाथ ने कू ऐप में शुनेवेई कैपिटल की हिस्सेदारी खरीद ली है

फ्लिपकार्ट के सीईओ कल्याण कृष्णमूर्ति और पूर्व भारतीय क्रिकेटर जवागल श्रीनाथ सहित भारतीय ए-लिस्ट उद्यमियों के एक समूह ने ट्विटर के भारतीय विकल्प “कू” की मूल फर्म में चीनी निवेशकों शुनवेई कैपिटल की हिस्सेदारी खरीद ली है। बुकमायशो (BookMyShow) के संस्थापक आशीष हेमराजानी, उड़ान के सह-संस्थापक सुजीत कुमार और ज़ेरोधा के संस्थापक निखिल कामत वे अन्य नाम हैं जिन्होंने बॉम्बिनेट टेक्नोलॉजीज प्राइवेट लिमिटेड में शुनेवेई की 9 प्रतिशत से अधिक हिस्सेदारी खरीदी।

कंपनी ने एक बयान में कहा, “मौजूदा निवेशकों ने व्यक्तियों के एक समूह के साथ, वोकल और कू की मूल कंपनी, बॉम्बेनेट टेक्नोलॉजीज प्राइवेट लिमिटेड में शुनवेई कैपिटल की छोटी हिस्सेदारी खरीदी है।” हालांकि, इसने सौदे के वित्तीय विवरण का खुलासा नहीं किया। भड़काऊ सामग्री को हटाने के लिए ट्विटर पर भारत सरकार की तनातनी के बाद जनता का ध्यान आकर्षित करने वाले कू ने लगभग एक लाख सक्रिय उपयोगकर्ताओं के साथ 4 मिलियन से अधिक डाउनलोड को पार कर लिया है।

कू हिंदी, कन्नड़, तमिल, तेलुगु, गुजराती और मराठी सहित कई भारतीय भाषाओं में उपलब्ध है। यह अब तक निवेशकों से लगभग 4.1 मिलियन अमरीकी डॉलर जुटा चुका है जिसमें इन्फोसिस के दिग्गज मोहनदास पई की थ्री वन फोर कैपिटल, कलारी कैपिटल और ब्ल्यूमे वेंचर्स शामिल हैं।

कू के निवेशकों में एसिल (Accel) पार्टनर्स, थ्री वन फोर (3one4) कैपिटल्स, ब्ल्यूमे वेंचर्स (Blume Ventures) और कलारी कैपिटल्स (Kalaari Capital) शामिल हैं। इसके अतिरिक्त, वैश्विक उद्यम पूंजी कंपनी शुनवेई भी कू की मूल कंपनी बॉम्बिनेट टेक्नोलॉजीज में एक निवेशक थी। शुनवेई कैपिटल, जो एक साझेदारी टीम द्वारा संचालित है, जिसमें चीनी मूल के लोग शामिल हैं, इस कंपनी ने बॉम्बिनेट के पहले उत्पाद में निवेश किया था, जो कि वोकल नामक एक ऐप है। चूँकि बॉम्बिनेट ने अपने प्राथमिक व्यवसाय को समाप्त कर दिया है और कू पर ध्यान केंद्रित किया है, इसलिए शुनवेई कंपनी से बाहर निकलने और अब सौदा समाप्ति के लिए प्रतिबद्ध है।

इस खबर को अंग्रेजी में यहाँ पढ़े।

पूर्व भारतीय क्रिकेटर और तेज गेंदबाज जवागल श्रीनाथ ने कहा, “मैं भारत के सबसे चर्चित सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म्स में से एक कू का समर्थन करके बहुत खुश हूं। यह तथ्य कि वे इंटरनेट पर भारतीय भाषाओं की आवाज के लिए एक मंच का निर्माण कर रहे हैं, सराहनीय है और एक भारतीय के रूप में, मैं उन्हें अपना समर्थन पूरी ईमानदारी से देता हूं।”

कू की सीईओ और सह-संस्थापक अप्रमेय राधाकृष्ण ने कहा, “जैसा कि पहले कहा गया था, हम 2.5 साल पहले जब वोकल के लिए धन जुटा रहे थे तब शुनवेई ने निवेश किया था, इसके बाद शुनवेई कैपिटल के साथ चर्चा में थे ताकि हम वोकल के लिए धन जुटा रहे थे और अब पूरी तरह से मूल कंपनी बॉम्बनेट टेक्नोलॉजीज से बाहर हो चुकी है।” बयान में कहा गया है कि शुनवेई कैपिटल ने बॉम्बिनेट टेक्नोलॉजीज में 9 प्रतिशत से अधिक का निवेश किया था।

उन्होंने कहा – “यह ध्यान रखने योग्य है कि कू भारत की पहली ऐसी कंपनी है जो अपने पूंजीकरण आंकड़े (कैप टेबल) स्वच्छ रखने के कार्यों में सक्रिय है और इसने भारत और दुनिया के लिए एक आत्मनिर्भर ऐप बनाने की अपनी प्रतिबद्धता को अधिक मजबूत किया है।” कू हिंदी, कन्नड़, तमिल, तेलुगु, गुजराती और मराठी सहित कई भारतीय भाषाओं में उपलब्ध है। यह अब तक निवेशकों से लगभग 4.1 मिलियन अमरीकी डॉलर जुटा चुका है जिसमें इन्फोसिस के दिग्गज मोहनदास पई की थ्री वन फोर कैपिटल, कलारी कैपिटल और ब्ल्यूमे वेंचर्स शामिल हैं।

[पीटीआई इनपुट के साथ]

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.