क्या एनडीटीवी बंद होने वाली है? ऑडिटर रिपोर्ट के अनुसार एनडीटीवी के भारी नुकसान और देनदारी दर्शाते हैं कि कंपनी लाभकारी नहीं रही।

एनडीटीवी अवैतनिक (अनपेड) करों के कारण परिचालन बंद कर सकता है? लेखापरीक्षक (ऑडिटर) की रिपोर्ट से ऐसा लगता है

1
787
एनडीटीवी अदत्त (अनपेड) करों के कारण परिचालन बंद कर सकता है? लेखापरीक्षक (ऑडिटर) की रिपोर्ट से ऐसा लगता है
एनडीटीवी अदत्त (अनपेड) करों के कारण परिचालन बंद कर सकता है? लेखापरीक्षक (ऑडिटर) की रिपोर्ट से ऐसा लगता है

नई दिल्ली टेलीविजन लिमिटेड (एनडीटीवी) के ऑडिटर ने भारी नुकसान और देनदारियों का हवाला देते हुए टीवी चैनल के निदेशक मंडल को चेतावनी दी है कि कंपनी लाभकारी कारोबार वाला संस्थान नहीं है। हालांकि एनडीटीवी ने स्टॉक एक्सचेंज को सटीक वित्तीय स्थिति के बारे में सूचित नहीं किया है, लेकिन ऑडिटर की रिपोर्ट जो एक्सचेंज को प्रस्तुत की गयी है, उसमें 1000 करोड़ रुपये से अधिक कर बकाया वाले विवादास्पद चैनल की गंभीर स्थिति का विवरण दिया गया है[1]

ऑडिटर की भाषा में “लाभकारी कारबार वाला संस्थान नहीं” का अर्थ है कि कम्पनी दिवालियापन के करीब पहुंच रही है और संपत्ति के नष्ट होने की उम्मीद है। यदि कोई व्यवसाय लाभकारी कारबार नहीं है, तो इसका मतलब है कि यह दिवालिया हो गया है और इसकी परिसंपत्तियों को नष्ट कर दिया गया।

“हम उस कथन के नोट 1 पर ध्यान आकर्षित करते हैं जिसमें यह समझाया गया है कि कंपनी, जो टेलीविज़न व्यवसाय चलाती है, ने तिमाही और 30 सितंबर 2019 को समाप्त हो रही छह महीने की अवधि के दौरान 10.16 करोड़ रुपये और 1.17 करोड़ रुपये का शुद्ध घाटा उठाया है और आज की तारिक में, कंपनी की वर्तमान देनदारियां उसकी वर्तमान संपत्ति से 88.92 करोड़ रुपये अधिक हैं।

“नोट में वर्णित अन्य मामलों के साथ, ये स्थितियां इंगित करती हैं कि एक ठोस अनिश्चितता मौजूद है जो कंपनी की लाभकारी कारोबार के रूप में चलने की क्षमता पर महत्वपूर्ण संदेह डाल सकती है। प्रबंधन ने कहा है कि कंपनी ने कुछ रणनीतिक और परिचालन उपाय अनिश्चितता को कम करने के लिए शुरू किए हैं, जो नोट में शामिल हैं। तदनुसार, उन्होंने कथन को एक बढ़ती हुई कम्पनी के आधार पर तैयार किया है। इस मामले के संबंध में हमारे निष्कर्ष को संशोधित नहीं किया गया है,” ऑडिट करने वाली फर्म बीएसआर एंड एसोसिएट्स एलएलपी ने प्रणॉय रॉय, जो कर उल्लंघन, मनी लॉन्ड्रिंग, बैंक धोखाधड़ी के मामलों की श्रृंखला का सामना कर रहे हैं, के नेतृत्व वाली एनडीटीवी बोर्ड से कहा।

इस खबर को अंग्रेजी में यहाँ पढ़े।

ऑडिटर की रिपोर्ट से यह भी पता चलता है कि एनडीटीवी की कई सहायक कंपनियां और संयुक्त उद्यम खाते उनके लिए पूरी तरह से उपलब्ध नहीं थे। मालिक प्रणॉय रॉय और पत्नी राधिका रॉय आईसीआईसीआई बैंक ऋण धोखाधड़ी के लिए जून 2017 में केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) द्वारा दर्ज मामले में आरोपी हैं। एजेंसियों ने पाया है कि दक्षिण अफ्रीका में महलनुमा घर खरीदने के लिए रॉय दम्पत्ति ने बैंक ऋण का इस्तेमाल किया है और हाल ही में उन्हें मुंबई एयरपोर्ट पर भारत छोड़ने से रोका गया था।

सीबीआई ने पूर्व प्रबंध संपादक विक्रम चंद्रा के साथ दुनिया भर में 30 से अधिक फर्जी खोल कम्पनियों को चलाने और धन शोधन और विदेशी प्रत्यक्ष निवेश (एफडीआई) के उल्लंघन में संलग्न होने के लिए पति और पत्नी के खिलाफ एक दूसरा मामला भी दर्ज किया है। एजेंसियों ने पाया है कि जेल में बंद वित्त मंत्री पी चिदंबरम के कार्यकाल में एफडीआई का उल्लंघन हुआ। आडिटर की रिपोर्ट से यह भी पता चलता है कि एयरसेल-मैक्सिस घोटाले में आरोपी मलेशियाई टेलीकॉम कम्पनी मैक्सिस के मलेशियाई टीवी चैनल एस्ट्रो अवनि नेटवर्क एनडीटीवी का सहयोगी है। प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने पहले ही रिपोर्ट दी है कि एयरसेल-मैक्सिस घोटाले के सिलसिले में एनडीटीवी को 250 करोड़ रुपये से अधिक की रकम अवैध तरीके से पहुँचाई गई थी।

एनडीटीवी द्वारा ऑडिटर रिपोर्ट संलग्न करते हुए 11-पेज का स्टॉक एक्सचेंज के साथ संचार नीचे प्रकाशित किया गया है:

NDTV Stock Exchange Nov 12, 2019 by PGurus on Scribd

संदर्भ:

[1] The tax dues of NDTV are Rs.864 crores. Income Tax Dept. should attach the Bank accounts to recover the duesFeb 2, 2018, PGurus.com

1 COMMENT

  1. […] मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, ऑडिटर की भाषा में “लाभकारी कारोबार वाला संस्थान नहीं” का अर्थ है कि कम्पनी दिवालियापन के करीब पहुंच गई है और संपत्ति के नष्ट होने की उम्मीद है। यदि कोई व्यवसाय लाभकारी कारोबार नहीं है, तो इसका मतलब है कि यह दिवालिया हो गया है और इसकी परिसंपत्तियों को नष्ट कर दिया गया। […]

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.