सरकार ने गन्ना किसानों की सहायता के लिए सेस हटाया !

परिषद की पांच सदस्यीय समिति इस विषय पर विचार-विमर्श कर रही है।

0
777
सरकार ने गन्ना किसानों की सहायता के लिए सेस हटाया !
सरकार ने गन्ना किसानों की सहायता के लिए सेस हटाया !

कर को जीएसटी परिषद की मंजूरी की आवश्यकता है, लेकिन सेस कोई कर नहीं है।

गन्ने के किसानों की सहायतार्थ, सरकार ने एक विशेष उपकर को मान्यता दी है ताकि तेजी से गिरते कीमतों की क्षतिपूर्ति किया जा सके और नकद की कमी से गन्ने का बकाया नहीं कर पानेवाले कारखानों की सहायता की जा सके। इस मामले को महान्यायवादी के के वेणुगोपाल को उनकी राय जानने के लिए प्रस्तुत किया गया है।

केंद्रीय कानून मंत्रालय ने सेस को मंजूरी दे दी है क्योंकि यह विचार है कि एक सेस लगाने पर माल और सेवाओं कर (जीएसटी) तंत्र के साथ असंगत नहीं है। मंत्रालय के एक अधिकारी ने इस संवाददाता से कहा, “कर को जीएसटी परिषद की मंजूरी की आवश्यकता है, लेकिन सेस कोई कर नहीं है।”

भारतीय जनता पार्टी के पश्चिमी उत्तर प्रदेश के कैराना जो कि चीनी पट्टी है, लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र में हालिया हानि को देखते हुए मामले ने राजनीतिक महत्व प्राप्त किया है। कहा जाता है कि उस क्षेत्र में काफी असंतोष था जिसने सत्तारूढ़ पार्टी की हार में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।

परिषद की पांच सदस्यीय समिति इस विषय पर विचार-विमर्श कर रही है। इसने 3 जून को मुंबई में अपनी दूसरी बैठक आयोजित की थी। प्रस्तावित उपकर के अलावा, यह उच्च उत्पादन-जुड़ी सब्सिडी की संभावनाओं की जांच कर रहा है। अप्रैल में, 1,500 करोड़ रुपये की उत्पादन-जुड़ी सब्सिडी की घोषणा की गई, लेकिन यह अपर्याप्त साबित हुआ है।

310 लाख टन पर, चालू सीजन में अप्रैल के अंत तक उत्पादन अनुमानित वार्षिक घरेलू खपत से लगभग 20 प्रतिशत अधिक था। चीनी मिलों द्वारा सामना की जाने वाली नकद संकट के परिणामस्वरूप किसानों को बकाया राशि बढ़ रही है; ये 20,000 करोड़ रुपये के लगभग है। इनमें से यूपी अकेले के खाते में 12,000 करोड़ रुपये से ज्यादा है।

राउंड करने का एक अन्य प्रस्ताव इथेनॉल पर कम जीएसटी दर के संबंध में है। वर्तमान में, इथेनॉल पर जीएसटी 18 प्रतिशत है; चीनी की कम कीमतों को बेअसर करने के लिए इसे 5 प्रतिशत तक लाया जा सकता है।


Note:
1. The views expressed here are those of the author and do not necessarily represent or reflect the views of PGurus.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.