भारत सभी देशों को ‘डिजिटल जनहित’ के रूप में कोविन उपलब्ध कराएगा: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी

एक परोपकारी भाव में, पीएम मोदी ने कोविन ऐप को ओपन सोर्स बनाकर सभी देशों के लिए उपलब्ध कराया!

1
380
एक परोपकारी भाव में, पीएम मोदी ने कोविन ऐप को ओपन सोर्स बनाकर सभी देशों के लिए उपलब्ध कराया!
एक परोपकारी भाव में, पीएम मोदी ने कोविन ऐप को ओपन सोर्स बनाकर सभी देशों के लिए उपलब्ध कराया!

कोविन प्लेटफॉर्म अब ओपन-सोर्स है, जो सभी देशों के लिए उपलब्ध है

प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार को भारत के कोविड-19 टीकाकरण अगुआईकर्ता तकनीकी मंच कोविन को दुनिया के लिए एक “डिजिटल जनहित” (डिजिटल पब्लिक गुड) के रूप में प्रस्तुत किया, यह दावा करते हुए कि यह वैश्विक महामारी से निपटने में अपनी विशेषज्ञता और संसाधनों को वैश्विक समुदाय के साथ साझा करने के लिए प्रतिबद्ध है। वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से कोविन वैश्विक सम्मेलन को संबोधित करते हुए, प्रधान मंत्री ने कहा कि मंच को ओपन सोर्स (खुला-स्त्रोत) बनाया जा रहा है ताकि यह सभी देशों के लिए उपलब्ध हो। उन्होंने कहा कि टीकाकरण मानवता के लिए महामारी से सफलतापूर्वक उभरने की सबसे अच्छी उम्मीद है और कहा कि भारत ने पूरी तरह से डिजिटल दृष्टिकोण अपनाने का फैसला किया है।

मोदी ने कहा, “इससे लोगों को यह साबित करने में मदद मिलती है कि उन्हें टीका लगाया गया है, और महामारी के बाद की वैश्वीकृत दुनिया में सामान्य स्थिति में तेजी लाने में भी मदद मिलेगी क्योंकि उन्हें कागज के नाजुक टुकड़े अपने साथ नहीं ले जाने होंगे।” मोदी ने कहा कि एक सुरक्षित और भरोसेमंद सबूत लोगों को यह साबित करने में मदद करता है कि उनका टीकाकरण हो चुका है। उन्होंने कहा कि अनुभव बताता है कि कोई भी देश, चाहे कितना भी शक्तिशाली और समृद्ध क्यों न हो, इस महामारी जैसी चुनौती को अलग-थलग करके हल नहीं कर सकता। महामारी के खिलाफ भारत की लड़ाई का वर्णन करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा, “महामारी की शुरुआत से ही, भारत इस लड़ाई में अपने सभी अनुभवों, विशेषज्ञता और संसाधनों को वैश्विक समुदाय के साथ साझा करने के लिए प्रतिबद्ध रहा है।”

कनाडा, मैक्सिको, नाइजीरिया, पनामा और युगांडा सहित लगभग 50 देशों ने अपने टीकाकरण अभियान चलाने के लिए कोविन को अपनाने में रुचि दिखाई है।

उन्होंने कहा – “हमारी सभी बाधाओं के बावजूद, हमने दुनिया के साथ जितना संभव हो सके साझा करने की कोशिश की है।” उन्होंने कहा, महामारी से सबसे बड़ा सबक यह है कि मानवता और मानवीय हितों के लिए, सभी देशों को एक साथ काम करना होगा और एक साथ आगे बढ़ना होगा। उन्होंने कहा, “हमें एक-दूसरे से सीखना होगा और अपनी सर्वोत्तम प्रणालियों के बारे में एक-दूसरे का मार्गदर्शन करना होगा।”

इस खबर को अंग्रेजी में यहाँ पढ़े।

यह बताते हुए कि प्रौद्योगिकी कोविड-19 के खिलाफ भारत की लड़ाई का अभिन्न अंग है, मोदी ने कहा कि सौभाग्य से, सॉफ्टवेयर एक ऐसा क्षेत्र है जिसमें कोई संसाधन की कमी नहीं है। उन्होंने कहा – “इसलिए हमने तकनीकी रूप से संभव होते ही अपने कोविड ट्रेसिंग और ट्रैकिंग ऐप को ओपन सोर्स बना दिया।” मोदी ने कहा कि भारतीय सभ्यता पूरी दुनिया को एक परिवार मानती है और इस महामारी ने कई लोगों को इस दर्शन के मूल सत्य का एहसास कराया है।

मोदी ने कहा – “इसीलिए, कोविड टीकाकरण के लिए हमारा प्रौद्योगिकी मंच – जिसे हम कोविन कहते हैं, को ओपन सोर्स बनाने के लिए तैयार किया जा रहा है ताकि यह किसी भी या सभी देशों में उपलब्ध हो।”

कनाडा, मैक्सिको, नाइजीरिया, पनामा और युगांडा सहित लगभग 50 देशों ने अपने टीकाकरण अभियान चलाने के लिए कोविन को अपनाने में रुचि दिखाई है, राष्ट्रीय स्वास्थ्य प्राधिकरण (एनएचए) के सीईओ डॉ आरएस शर्मा ने हाल ही में कहा था कि भारत ओपन सोर्स सॉफ्टवेयर को मुफ्त में साझा करने के लिए तैयार है। अपने संबोधन में, मोदी ने उल्लेख किया कि भारत ने कोविड-19 टीकों की 350 मिलियन खुराक लगाई हैं, जिसमें नौ मिलियन लोगों को कुछ दिनों पहले एक दिन में खुराक दी गयी। उन्होंने कहा कि डिजिटल दृष्टिकोण टीकाकरण के उपयोग पर नज़र रखने और अपव्यय को कम करने में भी मदद करता है। उन्होंने कहा, लगभग 200 मिलियन उपयोगकर्ताओं के साथ, ‘आरोग्य सेतु‘ ऐप डेवलपर्स के लिए आसानी से उपलब्ध पैकेज है।

कोविन की अनुकूलन क्षमता पर प्रकाश डालते हुए, उन्होंने कहा कि इसके सॉफ्टवेयर को इच्छुक देशों की स्थानीय आवश्यकताओं के अनुसार अनुकूल बनाया जा सकता है, और विश्वास व्यक्त किया कि दुनिया “एक पृथ्वी, एक स्वास्थ्य” के दृष्टिकोण के साथ महामारी पर विजय प्राप्त करेगी।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का भाषण यहां देखा जा सकता है:

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.