श्रमिक शोषण का पता लगने पर, एप्पल ने अपने भारत आईफोन निर्माता विस्ट्रॉन को जाँच के दायरे में लिया। विस्ट्रॉन ने बुरे श्रमिक संबंधों के लिए उप-अध्यक्ष को हटा दिया और श्रमिकों से माफी मांगी

एप्पल ने भारत में अपने आईफोन निर्माता विस्ट्रॉन कॉर्प को जाँच के दायरे में लिया, स्वतंत्र लेखा परीक्षकों के साथ उनकी प्रगति की निगरानी करेगा!

1
536
एप्पल ने भारत में अपने आईफोन निर्माता विस्ट्रॉन कॉर्प को जाँच के दायरे में लिया, स्वतंत्र लेखा परीक्षकों के साथ उनकी प्रगति की निगरानी करेगा!
एप्पल ने भारत में अपने आईफोन निर्माता विस्ट्रॉन कॉर्प को जाँच के दायरे में लिया, स्वतंत्र लेखा परीक्षकों के साथ उनकी प्रगति की निगरानी करेगा!

विस्ट्रॉन ने बुरे श्रमिक संबंधों के लिए उप-अध्यक्ष को हटा दिया और श्रमिकों से माफी मांगी

श्रमिक संबंधों में उल्लंघन का संज्ञान लेते हुए, एप्पल ने शनिवार को भारत में आईफोन निर्माता विस्ट्रॉन पर जांच बिठाई और कहा कि यह तब तक नया व्यवसाय नहीं देगा जब तक कि ताइवान की कंपनी विस्ट्रॉन कॉरपोरेशन अच्छे श्रमिक संबंधों को बनाए रखने के लिए सुधारात्मक कदम नहीं उठायेगी। इस बीच विस्ट्रॉन ने अपने उप-अध्यक्ष (वाइस प्रेसिडेंट) विंसेंट ली को भी हटा दिया, जो आंतरिक जांच के दौरान वेतन भुगतान की प्रक्रिया में गलती पाए जाने के बाद से भारत में परिचालन कर रहे थे। ताइवान की इलेक्ट्रॉनिक्स सेवाओं के प्रमुख ने अपनी गलतियों को स्वीकार किया और कर्नाटक इकाई के श्रमिकों से माफी मांगी। पिछले हफ्ते कर्नाटक में विस्ट्रॉन के नरसापुरा प्लांट (कोलार जिले में) में 20,000 रुपये से 16,000 रुपये तक की भारी वेतन कटौती और बाद में फिर से 12,000 रुपये तक की कटौती के विरोध में श्रमिकों ने हिंसात्मक प्रदर्शन किया था[1]

ऐप्पल ने शनिवार को कहा कि उसने विस्ट्रॉन को जाँच के दायरे में लिया है और इसे यूएस-आधारित कंपनी से सुधारात्मक कार्रवाई पूरी होने तक कोई नया व्यवसाय प्राप्त नहीं होगा। ऐप्पल ने एक बयान में कहा, “एप्पल द्वारा नियुक्त एप्पल के कर्मचारी और स्वतंत्र लेखापरीक्षक (ऑडिटर) विस्ट्रॉन के नरसापुरा प्लांट में होने वाले मुद्दों की जांच करने के लिए रात दिन काम कर रहा है।”

हिंसा के सिलसिले में पुलिस ने 160 से अधिक लोगों को गिरफ्तार किया है, हिंसा के दौरान पत्थरबाजी हुई, पार्किंग में खड़े वाहनों को आग लगा दी गयी और प्लांट की खिड़कियों और दरवाजों को तोड़ दिया गया।

एप्पल ने कहा – “हमेशा की तरह, हमारा ध्यान यह सुनिश्चित करने पर है कि हमारी आपूर्ति श्रृंखला में हर कोई गरिमा और सम्मान के साथ सुरक्षित और व्यवहारित रहे। हम बहुत निराश हैं और इन मुद्दों को दूर करने के लिए तत्काल कदम उठा रहे हैं।” एप्पल ने कहा कि उसने “विस्ट्रॉन पर जाँच शुरू कर दी है और सुधारात्मक कार्यों को पूरा करने से पहले एप्पल उन्हें कोई नया व्यवसाय प्रदान नहीं करेगा”।

इस खबर को अंग्रेजी में यहाँ पढ़े।

एप्पल के कर्मचारी, स्वतंत्र लेखा परीक्षकों के साथ, उनकी प्रगति की निगरानी करेंगे और यह भी कहा कि मुख्य उद्देश्य यह सुनिश्चित करना है कि सभी श्रमिकों के साथ सम्मानपूर्वक व्यवहार किया जाए और पूरी तरह से तुरंत मुआवजा दिया जाए। बयान में कहा गया – “विस्ट्रॉन ने अनुशासनात्मक कार्रवाई की है और नरसापुरा में अपनी भर्ती और पेरोल (भुगतान) टीमों का पुनर्गठन कर रहा है। उन्होंने कन्नड़, तेलुगु, तमिल, हिंदी और अंग्रेजी में एक कर्मचारी सहायता कार्यक्रम और 24 घंटे चालू रहने वाली शिकायत हॉटलाइन भी स्थापित की है, ताकि कर्मचारी अज्ञात रूप से शिकायतें दर्ज कर सकें।”

हिंसा के सिलसिले में पुलिस ने 160 से अधिक लोगों को गिरफ्तार किया है, हिंसा के दौरान पत्थरबाजी हुई, पार्किंग में खड़े वाहनों को आग लगा दी गयी और प्लांट की खिड़कियों और दरवाजों को तोड़ दिया गया। हमले का वीडियो फुटेज सोशल मीडिया पर व्यापक रूप से प्रसारित किया गया था। कारखाने में हिंसा के लिए श्रमिकों को उकसाने के लिए वामपंथी छात्र संघ एसएफआई नेता को भी गिरफ्तार किया गया। हालांकि विस्ट्रॉन ने पहले 450 करोड़ रुपये के नुकसान का दावा किया था, बाद में उसने इस हिंसा से 43 करोड़ रुपये का नुकसान होने का दावा किया।

इस बीच एप्पल के अनुबंध निर्माता विस्ट्रॉन ने अपने उपाध्यक्ष विंसेंट ली को हटा दिया, जो आंतरिक जांच के दौरान वेतन भुगतान की प्रक्रिया में गलती का पता लगने के बाद भारत में परिचालन कर रहे थे। ताइवान की इलेक्ट्रॉनिक्स सेवाओं के क्षेत्र की दिग्गज कंपनी ने इसकी ओर से हुई गलतियों को स्वीकार किया और श्रमिकों से माफी मांगी। विस्ट्रॉन ने एक बयान में कहा, “हम भारत में हमारे व्यापार की देखरेख करने वाले उप अध्यक्ष को हटा रहे हैं। हम अपनी प्रक्रियाओं को गति दे रहे हैं और अपनी टीमों का पुनर्गठन कर रहे हैं ताकि ये गलतियाँ दोबारा न हों।”

बयान में कहा गया – “विस्ट्रॉन में हमारी टीम के सदस्यों की सुरक्षा और भलाई हमेशा हमारी सर्वोच्च प्राथमिकता और सर्वोपरि मूल्य है। हमारे नरसापुरा प्लांट में दुर्भाग्यपूर्ण घटनाओं के बाद से हम जांच कर रहे हैं और हमने पाया है कि कुछ श्रमिकों को सही तरीके से और समय पर भुगतान नहीं किया गया था, हमें इस पर बहुत अफसोस है और हम अपने सभी कर्मचारियों से माफी मांगते हैं। यह एक नया प्लांट है और हम मानते हैं कि हमने गलतियां कीं है।”

संदर्भ:

[1] वेतन कटौती का विरोध कर रहे कर्मचारियों ने ऐप्पल आईफोन निर्माता प्लांट, बेंगलुरु में तोड़-फोड़ की। 80 लोग गिरफ्तारDec 13, 2020, hindi.pgurus.com

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.