तब्लीगी के प्रमुख मौलाना साद, जो एक साधारण जीवन जीने की वकालत करता है अब विशाल फार्महाउस, स्विमिंग पूल और महंगे वाहनों से भरा आलीशान जीवन जीते हुए पकड़ा गया

मौलाना साद की भव्य जीवनशैली से पता चलता है कि एक साधारण जीवन शैली अपनाने का ज्ञान केवल दूसरों के लिए है!!

3
2202
मौलाना साद की भव्य जीवनशैली से पता चलता है कि एक साधारण जीवन शैली अपनाने का ज्ञान केवल दूसरों के लिए है!!
मौलाना साद की भव्य जीवनशैली से पता चलता है कि एक साधारण जीवन शैली अपनाने का ज्ञान केवल दूसरों के लिए है!!

तब्लीगी संप्रदाय के प्रमुख मौलाना साद कांधलवी की विलासिता पूर्ण जीवनशैली उजागर हुई, जबकि वह अपने अनुयायियों को एक साधारण जीवन जीने और एक मस्जिद में यथासंभव रहने का उपदेश देता है। स्विमिंग पूल और महंगे वाहनों के साथ उसके महलनुमा फार्महाउस की तस्वीरें अब सार्वजनिक रूप से उजागर हैं। विवादास्पद मौलाना साद (54) अपनी आलीशान जीवनशैली के लिए जाना जाता है, वह अलग बात है कि वह अपने अनुयायियों को बिल्कुल विपरीत उपदेश देता है (शायद उसके उपदेश सिर्फ दूसरों के लिए निकलते हैं)। उसका विशाल फार्महाउस पश्चिमी उत्तर प्रदेश में शामली जिले के कांधला कस्बे में है। उसके फार्महाउस के कई पड़ोसियों ने उसके विशाल फार्महाउस और उसके वाहनों और विलासी जीवन शैली की फोटोज पीगुरूज को दी हैं।

मौलाना साद फार्महाउस
आकृति. 1. मौलाना साद फार्महाउस
 मौलाना साद फार्महाउस स्विमिंग पूल
आकृति. 2. मौलाना साद फार्महाउस स्विमिंग पूल
मौलाना साद के फार्म हाउस की महंगी कार
आकृति. 3. मौलाना साद फार्महाउस महंगी कार

मौलाना साद के मरकज में दिए गए भाषण का ऑडियोटेप अब सार्वजनिक दृष्टिकोण में है। वह तबलिगी के हजारों प्रचारकों की जमात को बता रहा था कि कोरोना मस्जिदों को बंद करने की साजिश है और सभी को सरकार द्वारा लगाए गए लॉकडाउन नियमों की परवाह किए बिना दिन में पांच बार मस्जिद में आना चाहिए। उसने उन जमातियों से कहा, भले ही कोई मस्जिद में मर जाए, इसे एक बेहतर विकल्प के रूप में देखा जाए। दिल्ली पुलिस द्वारा मामला दर्ज करने के बाद मौलवी साद फरार है। अब उसने दिल्ली पुलिस से कहा है कि वह बाद में पुलिस के सामने आ जायेगा क्योंकि अभी वह स्व-संगरोध (क्वारंटाइन) का पालन कर रहा है।

मौलाना साद कांधलवी तब्लीगी जमात के संस्थापक का परपोता है। इंटेलिजेंस ब्यूरो के कई अधिकारियों का कहना है कि विवादास्पद संगठन को विदेशों से भारी मात्रा में पैसा मिल रहा है। वर्तमान में, भारत सरकार ने 960 विदेशी तब्लीगी प्रचारकों को ब्लैकलिस्ट करने का फैसला किया है जो मरकज के लिए निजामुद्दीन अंतर्राष्ट्रीय मुख्यालय में आये थे।

इस खबर को अंग्रेजी में यहाँ पढ़े।

ब्लैकलिस्ट किए गए अधिकांश विदेशी प्रचारक इंडोनेशिया के हैं। इंडोनेशिया से 379 लोगों को ब्लैकलिस्ट किया गया, उसके बाद बांग्लादेश (110), किर्गिस्तान (77), मलेशिया (75), थाईलैंड (65), म्यांमार (63), श्रीलंका (33), ईरान (24), कजाकिस्तान (14) और फिलिपींस (10) यहां तक कि 6 लोग ब्लैकलिस्टेड श्रेणी में चीन से हैं। इन तब्लीगी प्रचारकों ने एक पर्यटक वीजा पर भारत में घुसकर वीजा मानदंडों का उल्लंघन किया, जबकि वे मिशनरी वीजा मार्ग के माध्यम से आने वाले थे। आव्रजन ब्यूरो (ब्यूरो ऑफ इमिग्रेशन) 3000 से अधिक विदेशी तब्लीगी प्रचारकों के रिकॉर्ड्स की जांच कर रहा है। वर्तमान में ब्लैकलिस्ट किये गए व्यक्ति, सबको निर्वासित किया जाएगा और उन्हें भारत में प्रवेश करने से स्थायी रूप से प्रतिबंधित कर दिया जाएगा। देश-वार सूची इस लेख के अंत में प्रकाशित की गई है।

तब्लीगी आंदोलन भारत में 18 वीं शताब्दी के अंत में भारत के मेवात में शुरू किया गया था। सुन्नियों के इस रूढ़िवादी संप्रदाय ने लोगों को कुरान और धर्मांतरण के बारे में पढ़ाने पर ध्यान केंद्रित किया। वे अपने मिशन के लिए भीतरी इलाकों और ग्रामीण इलाकों की यात्रा करते हैं। आतंकवादी संगठन अल कायदा के साथ उनके संबंधों की गतिविधियों की सूचना मिली थी और कुछ सदस्यों को संयुक्त राज्य अमेरिका की सेना द्वारा ग्वांतानामो बे तक ले जाया गया था।

इंटेलिजेंस ब्यूरो (आईबी) के पूर्व प्रमुख आसिफ इब्राहिम ने तब्लीगी जमात के कामकाज की प्रकृति पर एक लेख लिखा था। पूर्व आईबी प्रमुख ने लिखा: “तब्लीगी पुरुषों में अहंकार इस विश्वास से आता है कि वे अल्लाह का काम कर रहे हैं, और अल्लाह उनकी हिफाजत कर रहा है। देखभाल और सावधानी, चिकित्सक की सलाह, सरकार का कोई निर्देश – भाड़ में जाये। यह स्थिति मुझे बाइबल की याद दिलाती है…..”[1]

केंद्रीय गृह मंत्रालय के एक अधिकारी ने शनिवार को कहा कि देश भर में अब तक लगभग 22,000 तब्लीगी जमात के सदस्यों और उनके संपर्कों को क्वारंटाइन कर दिया गया है। दैनिक जानकारी साझा (ब्रीफिंग) के दौरान, केंद्रीय गृह मंत्रालय में एक संयुक्त सचिव, पुण्य सलिला श्रीवास्तव ने संवाददाताओं से कहा कि केंद्र सरकार ने जमात के सदस्यों और उनके संपर्कों का पता लगाने के लिए राज्यों के साथ समन्वय में “बड़े पैमाने पर प्रयास” किए, ताकि कोविड-19 का प्रसार रोका जा सके।

शनिवार को सरकार ने कहा कि भारत के 2902 कोरोनो वायरस मामलों में से कम से कम 30 प्रतिशत मामलों को मार्च के मध्य में दिल्ली में एक इस्लामी समूह के सदस्यों से जोड़ा जा सकता है। स्वास्थ्य मंत्रालय के संयुक्त सचिव लव अग्रवाल ने उसी संवाददाता सम्मेलन में कहा कि 17 राज्यों में 1,023 कोरोनो वायरस मामले जमात की मण्डली से संबंधित थे। “कुल मामलों में से लगभग 30 प्रतिशत धार्मिक मण्डली से संबंधित हैं। हमें यह समझने की आवश्यकता है कि हम सबसे कमजोर कड़ी के रूप में मजबूत हैं,” उन्होंने कहा।

केंद्रीय अल्पसंख्यक मामलों के मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने पिछले सप्ताह जमात की मण्डली को “तालिबान अपराध” कहा था। उन्होंने कहा, “जब पूरा देश कोरोनो वायरस से लड़ने के लिए एक साथ है, तो ऐसी परिस्थितियों में, इस तरह की गतिविधि अपराध है। न केवल कानून, बल्कि सर्वशक्तिमान (भगवान/अल्लाह) भी ऐसी किसी भी चीज़ को माफ नहीं करेगा। यह बहुत दुर्भाग्यपूर्ण है कि इतने सारे लोगों का जीवन इस तरह के लापरवाह दृष्टिकोण के कारण खतरे में है,”।

गुरुवार को अधिकारियों ने कहा कि मौलाना साद और छह अन्य के खिलाफ एक प्राथमिकी (एफआईआर) भी दर्ज की गई है, जिसमें कथित तौर पर लॉकडाउन ऑर्डर के उल्लंघन करते हुए दिल्ली में धार्मिक मण्डली रखने और कोविड-19 के प्रसार को रोकने के लिए सामाजिक दूरी को बनाए रखने की सलाह न मानने के आरोप लगाए गए थे। नोटिस के नौ पन्नों की प्रतिक्रिया में, मौलाना साद, जो फरार है, ने पुलिस द्वारा पूछे गए सवालों के जवाब देने में असमर्थता व्यक्त की, क्योंकि वह आत्म-संगरोध (क्वारंटाइन) है। उसने कहा कि निजामुद्दीन मरकज बंद है, वह दोबारा खुलने पर सवालों का जवाब देगा।

960 ब्लैक लिस्टेड तब्लीगी जमात प्रचारकों की देश-वार सूची नीचे प्रकाशित की गई है:

ब्लैक लिस्टेड तब्लीगी जमात के प्रचारकों की देश-वार सूची
ब्लैक लिस्टेड तब्लीगी जमात के प्रचारकों की देश-वार सूची

संदर्भ:

[1] Tabligh, Religion, And CoronaApr 4, 2020, TheEasternLink.cm

3 COMMENTS

  1. बहुत-बहुत धन्यवाद गरम तबलीगी जमात के प्रमुख मौलाना साद के बारे में बताने के लिए नमस्कार

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.