जागो हिंदुओं…..इससे पहले कि बहुत देर हो जाये

लाखों हिंदुओं को नियमित रूप से धर्मान्तरित किया जा रहा है और हमारी घेराबंदी हो रही है।

0
1471
जागो हिंदुओं.....इससे पहले कि बहुत देर हो जाये
जागो हिंदुओं.....इससे पहले कि बहुत देर हो जाये

हिंदुओं को छद्म धर्मनिरपेक्षता का पालन करने के लिए मजबूर होना पड़ता है जिसने उन्हें समय के साथ कमजोर कर दिया है और अंततः उनके विनाश का परिणाम देगा। जाग जाओ….इससे पहले कि बहुत देर हो जाये!

हिंदुओं की एक प्रचंड प्रजाति रही है, जिनके देवी देवता सभी सशस्त्र थे, जिनके भगवान कृष्ण ने अधर्म के नाश के लिए भाइयों की हत्या सहित युद्ध का आग्रह किया था। भगवान राम ने भी इसी तरह किया और रावण का वध किया। उन्होंने सीता को वापस लाने के लिए उपवास नहीं किया था। इस शानदार परंपरा को राणा प्रताप, छत्रपति शिवाजी, रानी चेन्नम्मा, रानी झांसी और अन्य ने बरकरार रखा था। फिर एक तथाकथित महात्मा आया जिसने अहिंसा के अपने नकली दर्शन के साथ एक संपूर्ण राष्ट्र को जन्म दिया। उन्होंने नेताजी बोस, भगत सिंह आदि की परंपरा को मार डाला।

आईएसआई अपने समर्थित संगठनों के माध्यम से जाति विभाजन को प्रोत्साहित करने के लिए ओवरटाइम पर काम कर रहा है

यही कारण है कि आज हमारे पास हिंदुओं के अयोध्या, काशी और मथुरा के तीन सबसे पवित्र स्थानों पर मंदिर बनाने में असमर्थ होने की दयनीय स्थिति है। पाकिस्तान समर्थक तत्वों द्वारा कश्मीर घाटी से तीन लाख हिंदुओं को लात मार दी गयी और हम इसके बारे में कुछ नहीं कर रहे हैं। असम पर कब्जा कर रहे लाखों विदेशी रोहिंग्या लोग सर्वोच्च न्यायालय में जा रहे हैं। आबादी का एक बड़ा हिस्सा वंदे मातरम् का जप नहीं करता है और अब, कई लोग राष्ट्रीय गान को भी गाने से मना कर रहे हैं। कोई समान नागरिक संहिता नहीं है और हम अपनी गायों की भी रक्षा नहीं कर सकते हैं। लाखों हिंदुओं को नियमित रूप से धर्मान्तरित किया जा रहा है और हमारी घेराबंदी हो रही है।

आईएसआई अपने समर्थित संगठनों के माध्यम से जाति विभाजन को प्रोत्साहित करने के लिए ओवरटाइम पर काम कर रहा है। यह समय है कि हम अपनी असली सामरिक परंपरा को हासिल करें और खुद को एक राष्ट्र के रूप में पेश करें। पाकिस्तान और बांग्लादेश दोनों ने खुद को इस्लामी राष्ट्र घोषित कर दिया है, लेकिन हिंदुओं को छद्म धर्मनिरपेक्षता का पालन करने के लिए मजबूर होना पड़ रहा है जो उन्हें समय के साथ कमजोर कर रहा है और अंततः उनके विनाश का परिणाम होगा। इससे पहले कि बहुत देर हो जाये…..जाग जाओ!

ध्यान दें:
1. यहां व्यक्त विचार लेखक के हैं और पी गुरुस के विचारों का जरूरी प्रतिनिधित्व या प्रतिबिंबित नहीं करते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.