फेसबुक भारतीय कानून का पालन नहीं कर रहा है, जिसके परिणामस्वरूप अव्यवस्था है: तमिलनाडु सरकार ने सर्वोच्च न्यायालय से कहा

क्या तमिलनाडु भारत का पहला राज्य होगा जो इस बात पर प्रतिबंध लगाएगा कि फेसबुक को कैसे काम करना चाहिए?

0
872
क्या तमिलनाडु भारत का पहला राज्य होगा जो इस बात पर प्रतिबंध लगाएगा कि फेसबुक को कैसे काम करना चाहिए?
क्या तमिलनाडु भारत का पहला राज्य होगा जो इस बात पर प्रतिबंध लगाएगा कि फेसबुक को कैसे काम करना चाहिए?

सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म्स द्वारा भारतीय कानूनों के गैर-पालन का खुलासा करते हुए, तमिलनाडु सरकार ने गुरुवार को सुप्रीम कोर्ट को बताया कि फेसबुक कम्पनी और अन्य सोशल मीडिया कंपनियां भारतीय कानूनों का अनुपालन नहीं कर रही हैं, जिसके परिणामस्वरूप “अव्यवस्था बढ़ गयी” है और अपराधों का पता लगाने में कठिनाइयों का सामना करना पड़ रहा है। राज्य सरकार ने, मद्रास उच्च न्यायालय को जीवमितीय (बायोमेट्रिक) आईडी आधार के साथ सोशल मीडिया प्रोफाइल को जोड़ने की दलीलों की सुनवाई जारी रखने के निर्देश देते हुए शीर्ष अदालत के 20 अगस्त के आदेश, में संशोधन करने की मांग की लेकिन किसी भी प्रभावी आदेश को पारित करने से रोक दिया।

राज्य सरकार ने कहा कि “उच्च न्यायालय एक उन्नत चरण में है, लेकिन उच्चतम न्यायालय के 20 अगस्त के आदेश के कारण, उच्च न्यायालय ने उन याचिकाओं पर सुनवाई टाल दी। तात्कालिक मामले के शीघ्र निपटारण के अभाव में, विदेशी कंपनियां जैसे याचिकाकर्ता (फेसबुक इंक) भारतीय कानून का अनुपालन या स्वीकार किए बिना भारत में काम करना जारी रखेंगी, जिसका प्रभाव स्पष्ट रूप से अव्यवस्था बढ़ती है, और अपराध को पता लगाने और रोकने में अधिक कठिनाई होती है। तमिलनाडु सरकार ने अपने जवाब में अपराधों और कानून और कानून व्यवस्था का समग्र विघटन होता है।”
विभिन्न आपराधिक मामलों का उल्लेख करते हुए, तमिलनाडु सरकार ने कहा कि स्थानीय कानून प्रवर्तन अधिकारियों ने कई मौकों पर अपराधों की जांच और पता लगाने के लिए इन कंपनियों से जानकारी लेने का प्रयास किया है। उन्होंने कहा, “इन कंपनियों ने, एक जवाबदेह तरीके से जवाब देने और जानकारी प्रदान करने के बजाय अधिकारियों को पत्र आदि भेजने के लिए कहा है और भारत में काम करने के बावजूद सभी मामलों में पूरी जानकारी देने में विफल रहे हैं,” यह कहा।

कहा गया कि तीसरे पक्ष के साथ डेटा साझा करने में देश भर में फैले उपयोगकर्ताओं की गोपनीयता की चिंता शामिल है और इतने महत्वपूर्ण मामले को शीर्ष अदालत में सुना जाना चाहिए।

तमिलनाडू सरकार ने कहा कि मद्रास, बॉम्बे और मध्य प्रदेश उच्च न्यायालयों से मामलों को स्थानांतरित करने की मांग करने वाली अदालत के समक्ष दायर फेसबुक कम्पनी की स्थानांतरित करने की याचिका, तिरस्कारपूर्ण उद्देश्यों के लिए इस अदालत को गुमराह करने के लिए एक कठोर प्रयास में “झूठे और भ्रामक कथन से परिपूर्ण” है। “जबकि स्थानांतरण याचिका केवल मद्रास उच्च न्यायालय में चल रहे सोशल मीडिया खातों को आधार से जोड़ने के अनिवार्यता मामले के आधार पर आगे बढ़ाई जा रही है, ये लिखित तौर पर प्रमाणित है कि अदालत सिर्फ सूचना प्रोद्योगिकी अधिनियम, 2000 और उसमें दिए गए नियमों का पालन सुनिश्चित कर रही है और अपराधों को समझने और उन्हें पहचान ने के लिए कार्यवाही कर रही है” ऐसा कहा गया है।

शुक्रवार को न्यायमूर्ति दीपक गुप्ता की अध्यक्षता वाली पीठ के समक्ष मामले को सुनवाई के लिए सूचीबद्ध किया गया है। शीर्ष अदालत ने 20 अगस्त को केंद्र, गूगल, व्हाट्सएप, ट्विटर, यूट्यूब और अन्य से फेसबुक कम्पनी की याचिका पर जवाब मांगा था, जिसमें सोशल मीडिया खातों को आधार के साथ जोड़ने से संबंधित मामलों को विभिन्न उच्च न्यायालयों से उच्चतम न्यायालय में स्थानांतरित करने की मांग की गई है।

सुप्रीम कोर्ट ने फेसबुक की दलील सुनने के लिए सहमति जताई थी और 13 सितंबर तक केंद्र और सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म्स से प्रतिक्रिया मांगी थी। फेसबुक ने तर्क दिया है कि क्या सेवा प्रदाताओं को आपराधिक जांच में मदद करने के लिए जांच एजेंसियों के साथ डेटा साझा करने के लिए कहा जा सकता है इसपर शीर्ष अदालत के फैसले की आवश्यकता है क्योंकि इसका वैश्विक प्रभाव होगा। फेसबुक के अधिवक्ताओं ने तर्क दिया था कि विभिन्न उच्च न्यायालयों ने विपरीत विचार रखे हैं और एकरूपता के लिए, सुप्रीम कोर्ट में मामलों की सुनवाई की जाए तो बेहतर होगा।

कहा गया कि तीसरे पक्ष के साथ डेटा साझा करने में देश भर में फैले उपयोगकर्ताओं की गोपनीयता की चिंता शामिल है और इतने महत्वपूर्ण मामले को शीर्ष अदालत में सुना जाना चाहिए। उच्चतम न्यायालय ने फेसबुक और व्हाट्सएप सहित सोशल मीडिया कंपनियों से पूछा था कि वे बताएं कि आधार अधिनियम में हालिया संशोधनों का क्या प्रभाव पड़ेगा, जिसके द्वारा 12-अंकों की विशिष्ट पहचान संख्या को बड़े सार्वजनिक हित के लिए निजी पार्टी के साथ साझा किया जा सकता है। तमिलनाडु सरकार ने तर्क दिया है कि फेसबुक और व्हाट्सएप दोनों ने इस मुद्दे से निपटने के लिए मद्रास उच्च न्यायालय के अधिकार क्षेत्र को स्वीकार कर लिया है, जिससे एजेंसियों को फर्जी समाचार, अश्लील सामग्री, आतंकी संदेशों की जांच करने में मदद मिलेगी क्योंकि सामग्री फैलाने वाले का पता लगाया जा सकता है। इसने कहा था कि एक आईआईटी प्रोफेसर मद्रास उच्च न्यायालय को इन सोशल मीडिया प्लेटफार्मों पर संदेशों के फैलाने वाले की पहचान करने में मदद कर रहे हैं। फेसबुक ने तर्क दिया था कि इसमें चार याचिकाएं शामिल हैं (मद्रास उच्च न्यायालय में दो, बॉम्बे में एक और मध्य प्रदेश उच्च न्यायालय में एक)।

(पीटीआई से प्राप्त जानकारी के आधार पर)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.