नरेंद्र मोदी की अगुवाई वाली सरकार और मुकेश अंबानी के बीच तनातनी बढ़ती जा रही है। रिलायंस की सम्पत्तियों की घोषणा करने के लिए दिल्ली एचसी के आदेश को अम्बानी द्वारा वापस लेने की मांग

भारत सरकार और मुकेश अंबानी के बीच चल रही तकरार किस वजह से हुई?

0
1463
भारत सरकार और मुकेश अंबानी के बीच चल रही तकरार किस वजह से हुई?
भारत सरकार और मुकेश अंबानी के बीच चल रही तकरार किस वजह से हुई?

नरेंद्र मोदी की अगुवाई वाली सरकार और रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड (आरआईएल) के प्रमुख मुकेश अंबानी की तकरार उस स्थिति में जा रही है, जिससे सऊदी अरब की दिग्गज तेल कंपनी अरामको के साथ 15 अरब डॉलर के सौदे को हासिल करने की टाइकून की योजना में बाधा आ सकती है। सरकार बनाम मुकेश गाथा में नवीनतम रिलायंस, उच्च न्यायालय के आरआईएल की संपत्ति को उजागर करने के आदेश को वापस (री-कॉल) लेने के लिए दिल्ली उच्च न्यायालय का दरवाजा खटखटा रही है। शुक्रवार को कोर्ट ने केंद्र को नोटिस जारी कर रिलायंस की री-कॉल आदेश याचिका पर उसकी प्रतिक्रिया मांगी। यहां अतिमहत्वपूर्ण प्रश्न है कि मुकेश अंबानी की रिलायंस अपनी संपत्ति घोषित करने से क्यों डर रही है?

जब केंद्र ने नवंबर 2019 में पन्ना – मुक्ता / ताप्ती तेल क्षेत्रों में लगभग 3.85 बिलियन डॉलर की सरकार को बकाया राशि का हवाला देते हुए, रिलायंस को सऊदी अरामको के साथ 15 बिलियन डॉलर के सौदे से रोकने के लिए दिल्ली उच्च न्यायालय का दरवाजा खटखटाया, तब यह तनातनी उजागर हुई। पीगुरूज ने इस मामले को काफी विस्तार से बताया है[1]

केंद्र का हलफनामा मुकेश अंबानी के नेतृत्व वाले रिलायंस पर चौतरफा हमला है। केंद्र ने अपने आवेदन में आरोप लगाया है कि आरआईएल एक विशाल समूह ऋण के तहत है और यह अपनी संपत्तियों को बेचने या स्थानांतरित करने और अपनी देयताओं का भुगतान करने के लिए चल और अचल संपत्तियों में तीसरे पक्ष को बेचने की प्रक्रिया में है। सरकार ने आवेदन में कहा है कि अगर आरआईएल अपनी चल और अचल संपत्ति को बेच देती है, तो सरकार के पास मध्यस्थ पुरस्कार को निष्पादित करने के लिए कुछ भी नहीं बचेगा।

दिल्ली उच्च न्यायालय ने शुक्रवार (10 जनवरी, 2020) को रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड की सम्पत्तियों को घोषित करने के आदेश को वापस लेने की मांग वाली याचिका पर केंद्र से जवाब मांगा। न्यायमूर्ति जेआर मिड्ढा ने आरआईएल के आवेदन पर केंद्र सरकार को नोटिस जारी किया और मामले को 6 फरवरी को सुनवाई के लिए सूचीबद्ध कर दिया। यह आवेदन, इसके पक्ष में एक मध्यस्थ पुरस्कार के निष्पादन के लिए सरकार की एक लंबित याचिका में दायर किया गया। आरआईएल ने 22 नवंबर और 20 दिसंबर 2019 के पिछले दो आदेशों को वापस लेने की मांग की है।

इस खबर को अंग्रेजी में यहाँ पढ़े।

इससे पहले, अदालत ने सरकार द्वारा एक आवेदन पर दो आदेश पारित किए थे जिसमें सरकार ने आरआईएल और ब्रिटिश गैस (बीजी) को अपनी संपत्ति का निपटारण नहीं करने के निर्देश दिए थे। आवेदन में, सरकार ने दोनों कंपनियों को अपनी संपत्ति का निपटारण करने से रोकने की मांग की है क्योंकि वे पन्ना-मुक्ता और ताप्ती (पीएमटी) उत्पादन साझाकरण अनुबंध के संबंध में केंद्र के पक्ष में एक मध्यस्थ पुरस्कार के रूप में 3.85 बिलियन अमरीकी डालर से अधिक का भुगतान करने में विफल रहे है।

उच्च न्यायालय ने 20 दिसंबर, 2019 को दोनों कंपनियों को नागरिक प्रक्रिया संहिता (सीपीसी) के तहत फॉर्म 16 ए के नए प्रारूप के अनुसार अपनी संपत्ति का हलफनामा दायर करने का निर्देश दिया था जिसका उच्च न्यायालय ने हाल के फैसले में मसौदा तैयार किया है।

यहाँ उभर रहे प्रश्न हैं:

1. मुकेश अंबानी संपत्ति का खुलासा करने से क्यों डर रहे हैं और संपत्ति घोषित करने के न्यायालय के आदेश को वापस लेने की मांग क्यों कर रहे हैं?

2. राजनीतिक और व्यापारिक हलकों में कई लोग आश्चर्यचकित हैं कि नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली सरकार और मुकेश अंबानी की अगुवाई वाली रिलायंस के बीच तनतनो क्यों है? इसके पीछे क्या कारण हो सकता है?

संदर्भ:

[1] मुकेश अंबानी की सऊदी अरबको के साथ 15 बिलियन डॉलर के सौदे पर भारत सरकार की आपत्तिJan 6, 2020, hindi.pgurus.com

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.