आयकर विभाग की आपत्ति के बाद, मद्रास उच्च न्यायालय की न्यायाधीश अनीता सुमंत ने कार्ति के मामले में स्वयं को अलग करने का दावा किया। आयकर विभाग ने बताया कि पहले वह कार्ति की वकील थी

अनीता सुमंत, जो एक वकील के रूप में कार्ति चिदंबरम की फर्मों का प्रतिनिधित्व करती थीं, ने कार्ति से जुड़े एक मामले की सुनवाई से खुद को दूर रखा है

1
497
अनीता सुमंत, जो एक वकील के रूप में कार्ति चिदंबरम की फर्मों का प्रतिनिधित्व करती थीं, ने कार्ति से जुड़े एक मामले की सुनवाई से खुद को दूर रखा है
अनीता सुमंत, जो एक वकील के रूप में कार्ति चिदंबरम की फर्मों का प्रतिनिधित्व करती थीं, ने कार्ति से जुड़े एक मामले की सुनवाई से खुद को दूर रखा है

एक विचित्र घटना में, आयकर (आईटी) विभाग ने दागी पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम के बेटे कार्ति के मामले की सुनवाई करते हुए न्यायमूर्ति अनीता सुमंत के खिलाफ आपत्तियां जताईं क्योंकि न्यायाधीश ने पहले वकील के रूप में कार्ति की विवादास्पद फर्म एडवांटेज स्ट्रैटेजिक कंसल्टिंग का प्रतिनिधित्व किया था। आयकर अधिवक्ता ने सोमवार को बताया कि यह उचित नहीं था कि मद्रास उच्च न्यायालय (एचसी) की न्यायाधीश अनीता सुमंत कार्ति के मामले को सुनें क्योंकि उन्होंने न्यायाधीश बनने से पहले कार्ति की कंपनी का एक वकील के रूप में प्रतिनिधित्व किया था। आयकर वकील की आपत्ति पर सुनवाई के बाद, न्यायमूर्ति अनीता सुमंत ने मामले से खुद को दूर करने के लिए सहमति व्यक्त की।

न्यायमूर्ति अनीता सुमंत ने तुरंत मद्रास उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश से इस मामले को किसी अन्य खंडपीठ को आवंटित करने को कहा। दिलचस्प बात यह है कि अनीता के पति सुमंत रमन अधिकांश टीवी चैनलों पर बहस में भाग लेते हैं। इनमें से कई टीवी चर्चाओं (डिबेट) में, सुमंत रमन को भ्रष्टाचार के मामलों में चिदंबरम और परिवार के सदस्यों का समर्थन करते देखा जा सकता है। कई अवसरों पर, उन्होंने सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के ऊपर आरोप लगाए कि चिदम्बरम को फँसाने के लिए केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) और प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) केंद्र सरकार के इशारे पर कार्यवाही कर रहे हैं।

इस खबर को अंग्रेजी में यहाँ पढ़े।

इससे पहले मद्रास उच्च न्यायालय की एक अन्य पीठ ने काले धन अधिनियम के तहत दर्ज मामलों को भटकाने के लिए आयकर के खिलाफ कार्ति द्वारा की गईं लगातार याचिकाओं पर सुनवाई करने से इनकार कर दिया[1]। पिछले सप्ताह, एक ट्रायल कोर्ट ने आयकर अभियोजन के खिलाफ कार्ति और उसकी पत्नी की याचिकाओं को खारिज कर दिया। विशेष न्यायाधीश डी लिंगेश्वरन ने कार्ति और उसकी पत्नी को 21 जुलाई को व्यक्तिगत रूप से अदालत में पेश होने का निर्देश दिया और चेतावनी दी कि यदि वे व्यक्तिगत रूप से पेश नहीं हुए तो वारंट जारी किया जाएगा[2]

ट्रायल कोर्ट में सुनवाई के दौरान आयकर विभाग ने अदालत को बताया कि कार्ति को 6.38 करोड़ रुपये नकद मिले, जबकि उसकी पत्नी को उसी जमीन के लिए 1.35 करोड़ रुपये नकद मिले। यह भी आरोप लगाया गया कि नलिनी चिदंबरम (कार्ति की मां) को चेक के रूप में भुगतान प्राप्त हुआ, जबकि बेटे और उसकी पत्नी को चेन्नई समुद्र के किनारे के इलाके में एक जमीन की बिक्री में नकदी मिली।

संदर्भ:

[1] Tax evasion case against Karti Chidambaram: Madras HC Judge agrees to step asideJan 13, 2020, SwarajyaMag

[2] Chennai: Karti Chidambaram, wife to face trial in 7 crore income tax caseJan 8, 2020, Times of India

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.