अयोध्या मस्जिद का नाम 1857 क्रांति के विद्रोही मौलवी अहमदुल्ला शाह के नाम पर रखा जा सकता है

नई अयोध्या मस्जिद का नाम 1857 के विद्रोही सिपाही योद्धा के नाम पर रखा जा सकता है!

0
743
नई अयोध्या मस्जिद का नाम 1857 के विद्रोही सिपाही योद्धा के नाम पर रखा जा सकता है!
नई अयोध्या मस्जिद का नाम 1857 के विद्रोही सिपाही योद्धा के नाम पर रखा जा सकता है!

ट्रस्ट ने नई अयोध्या मस्जिद को मौलवी अहमदुल्लाह शाह को समर्पित करने का फैसला किया

अयोध्या में बनने वाली नई मस्जिद के लिए मुस्लिम समुदाय के कई लोगों को आक्रमणकारी मुगल सम्राट बाबर का नाम स्वीकार नहीं है। अयोध्या की बाबरी मस्जिद मामले में सर्वोच्च न्यायालय के फैसले के बाद बनने वाली प्रस्तावित मस्जिद का नाम अंग्रेजों के खिलाफ 1857 विद्रोह के योद्धा मौलवी अहमदुल्ला शाह के नाम पर रखा जा सकता है। ट्रस्ट के सचिव अतहर हुसैन ने कहा कि मस्जिद के निर्माण की देखरेख के लिए सुन्नी वक्फ बोर्ड द्वारा गठित इंडो इस्लामिक कल्चरल फाउंडेशन, शाह के नाम पर गंभीरता से विचार कर रहा है, जिन्हें अवध क्षेत्र में ‘विद्रोह की मशाल’ के रूप में देखा जाता है[1]

ट्रस्ट के गठन के बाद, इस बात पर चर्चा हुई है कि, क्या मस्जिद का नाम मुगल सम्राट बाबर के नाम पर रखा जाना चाहिए या कुछ अन्य नाम दिए जाने चाहिए। बाबरी मस्जिद का नाम बाबर के नाम पर रखा गया था। ट्रस्ट के सूत्रों के अनुसार अयोध्या मस्जिद परियोजना को सांप्रदायिक भाईचारे और देशभक्ति का प्रतीक बनाने के लिए, ट्रस्ट ने शाह को परियोजना समर्पित करने का फैसला किया है, जो इन मूल्यों का प्रतिनिधित्व करते थे और इस्लाम के सच्चे अनुयायी भी थे। हुसैन ने कहा – “ट्रस्ट अयोध्या मस्जिद परियोजना को महान स्वतंत्रता सेनानी मौलवी अहमदुल्ला शाह को समर्पित करने के प्रस्ताव पर बहुत गंभीरता से विचार कर रहा है। हमें विभिन्न मंचों से समान सुझाव मिले हैं। यह एक अच्छा सुझाव है। हम विचार-विमर्श के बाद आधिकारिक रूप से घोषणा करेंगे।”

राज्य सरकार ने अयोध्या की सोहावल तहसील के धनीपुर गाँव में पाँच एकड़ भूमि आवंटित की थी। मस्जिद का खाका 19 दिसंबर को अनावरित किया गया था।

मौलवी अहमदुल्ला शाह 5 जून 1858 को शहीद हो गए थे। जॉर्ज ब्रूस मल्लेसन और थॉमस सीटन जैसे ब्रिटिश अधिकारियों ने उनके साहस, पराक्रम और संगठनात्मक क्षमताओं का उल्लेख किया है। 1857 के भारतीय विद्रोह की एक किताब में मल्लेसन ने शाह का बार-बार भारतीय विद्रोह के इतिहास में उल्लेख किया है। स्वतंत्रता संग्राम के दौरान, शाह ने अवध क्षेत्र में विद्रोह शुरू किया था। उन्होंने फैजाबाद के चौक इलाके में स्थित स्थानीय मस्जिद, मस्जिद सराय को अपना मुख्यालय बनाया था। चूंकि उन्होंने फैजाबाद और अवध क्षेत्र के बड़े हिस्से को मुक्त कर दिया, इसलिए उन्होंने इस मस्जिद के परिसर का उपयोग विद्रोही नेताओं के साथ बैठकें करने के लिए किया।

इस खबर को अंग्रेजी में यहाँ पढ़े।

शोधकर्ता और इतिहासकार राम शंकर त्रिपाठी के अनुसार, “शाह एक पक्के मुस्लिम होने के अलावा, अयोध्या की धार्मिक एकता और गंगा-जमुनी संस्कृति के प्रतीक भी थे। 1857 के विद्रोह में, कानपुर के नाना साहिब, आरा के कुंवर सिंह जैसे शाही लोगों के साथ शाह ने लड़ाई लड़ी। उनकी 22 वीं इन्फैंट्री रेजिमेंट की कमान चिनहट के प्रसिद्ध युद्ध में सूबेदार घमंडी सिंह और सूबेदार उमराव सिंह ने संभाली थी। ”

सर्वोच्च न्यायालय ने 9 नवंबर, 2019 को अयोध्या में विवादित स्थल पर राम मंदिर के निर्माण के पक्ष में फैसला सुनाया था और केंद्र को सुन्नी वक्फ बोर्ड को पवित्र नगर के एक प्रमुख स्थान पर एक नई मस्जिद बनाने के लिए वैकल्पिक पांच एकड़ भूखंड आवंटित करने का निर्देश दिया था। राज्य सरकार ने अयोध्या की सोहावल तहसील के धनीपुर गाँव में पाँच एकड़ भूमि आवंटित की थी। मस्जिद का खाका 19 दिसंबर को अनावरित किया गया था।

[पीटीआई से मिली जानकारी के साथ]

संदर्भ:

[1] अहमदुल्लाह शाह – विकिपीडिया

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.