भारत के राष्ट्रपति से राजीव गांधी के हत्यारों को रिहा करने के लिए तमिलनाडु के मुख्यमंत्री एमके स्टालिन की राष्ट्र विरोधी मांग को खारिज करने का सुब्रमण्यम स्वामी ने आग्रह किया

स्वामी ने राष्ट्रपति को पत्र लिखकर विस्तृत कारण बताते हुए कहा कि राजीव गांधी के हत्यारों को माफ क्यों नहीं किया जाना चाहिए!

0
814
स्वामी ने राष्ट्रपति को पत्र लिखकर विस्तृत कारण बताते हुए कहा कि राजीव गांधी के हत्यारों को माफ क्यों नहीं किया जाना चाहिए!
स्वामी ने राष्ट्रपति को पत्र लिखकर विस्तृत कारण बताते हुए कहा कि राजीव गांधी के हत्यारों को माफ क्यों नहीं किया जाना चाहिए!

पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी के हत्यारों को रिहा करने के तमिलनाडु के मुख्यमंत्री एमके स्टालिन के अनुरोध को देशद्रोही बताते हुए, भाजपा नेता सुब्रमण्यम स्वामी ने मंगलवार को भारत के राष्ट्रपति से अनुरोध को अस्वीकार करने और भविष्य में इस तरह के तुच्छ अनुरोधों पर विचार नहीं करने का आग्रह किया। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद को लिखे आठ पन्नों के विस्तृत पत्र में स्वामी ने कहा कि एलटीटीई (लिबरेशन टाइगर्स ऑफ तमिल ईलम) के सातों आरोपियों को फांसी की सजा कांग्रेस अध्यक्ष और राजीव गांधी की पत्नी सोनिया गांधी ने संदिग्ध तरीके से एक आरोपी को दया का सुझाव देने के लिए खारिज की थी, जिसका इस्तेमाल फिर दूसरे आरोपियों ने फांसी से बचने और सजा को उम्रकैद में बदलने के लिए किया। उन्होंने राजीव की बेटी प्रियंका वाड्रा पर भी एलटीटीई के सात हत्यारों, जिनमें से छह विदेशी हैं, को बचाने का आरोप लगाया।

स्वामी ने बताया कि 1991 में एलटीटीई द्वारा किए गए विस्फोट में राजीव गांधी ही नहीं, कई युवा पुलिस कर्मियों सहित 18 अन्य लोग भी मारे गए थे। स्वामी ने अन्नाद्रमुक (एआईएडीएमके), द्रमुक (डीएमके) और अन्य तमिल दलों पर पूर्व प्रधान मंत्री के हत्यारों की दया की हमेशा मांग करते रहने का गंदा राष्ट्रविरोधी खेल खेलने पर हमला किया। भाजपा नेता ने सुझाव दिया कि भारत के राष्ट्रपति को यह कहते हुए एक अवलोकन पारित करना चाहिए कि भविष्य में इस तरह की तुच्छ याचिकाओं पर विचार नहीं किया जाना चाहिए।

स्वामी ने एलटीटीई और उसके प्रमुख वी प्रभाकरण को खत्म करने के लिए श्रीलंका के राष्ट्रपति महिंदा राजपक्षे की प्रशंसा करते हुए कहा कि भारत की केंद्र और राज्य सरकारों ने पूर्व प्रधान मंत्री राजीव गांधी के हत्यारों को फांसी देने में देरी की।

स्वामी ने कहा, “राजीव गांधी की विधवा (सोनिया गांधी) ने अपने पति की हत्या के षड्यंत्रकारियों के लिए क्षमादान की मांग करते हुए देश को चौंका दिया, खासकर 12 मई, 1999 के सर्वोच्च न्यायालय के फैसले के बाद।” स्वामी ने विस्तार से बताया कि कैसे एक आरोपी नलिनी को दी गयी सोनिया की क्षमादान याचिका ने अन्य सभी छह आरोपियों को भी फांसी से बचाया। स्वामी ने कहा – “उनकी बेटी प्रियंका वाड्रा ने भी जेल नियमावली को तोड़ा और सहानुभूति जताने के लिए जेल में बंद दोषी कैदी नलिनी से मुलाकात की। श्रीमति वाड्रा पर अभी तक तमिलनाडु सरकार द्वारा इस अपराध के लिए मुकदमा नहीं चलाया गया है।” सुब्रमण्यम स्वामी का आठ पन्नों का विस्तृत पत्र इस लेख के नीचे प्रकाशित किया गया है, जिसमें यह खुलासा किया गया है कि राजीव गाँधी के मौत की सजा प्राप्त हत्यारों को कैसे बचाया गया।

इस खबर को अंग्रेजी में यहाँ पढ़े।

स्वामी ने एलटीटीई और उसके प्रमुख वी प्रभाकरण को खत्म करने के लिए श्रीलंका के राष्ट्रपति महिंदा राजपक्षे की प्रशंसा करते हुए कहा कि भारत की केंद्र और राज्य सरकारों ने पूर्व प्रधान मंत्री राजीव गांधी के हत्यारों को फांसी देने में देरी की।

सुब्रमण्यम स्वामी ने भारत के राष्ट्रपति को लिखे अपने आठ पेज के विस्तृत पत्र में कहा – “इसलिए मैं आप, माननीय राष्ट्रपति जी से अनुरोध करता हूं, और दृढ़ता से अनुशंसा करता हूं कि तमिलनाडु की वर्तमान राज्य सरकार की इस फिजूल और “राष्ट्र-विरोधी” सिफारिश को अस्वीकार करें और यह सुनिश्चित करने के लिए उचित आदेश पारित करें कि 7 दोषी जो उम्रकैद की सजा काट रहे हैं, उनकी सजा जारी रहे।

सुब्रमण्यम स्वामी का आठ पन्नों का पत्र नीचे प्रकाशित है:

Dr Subramanian Swamy’ Letter to President Against Release of Rajiv Gandhi’s Assassins Dated May 25, 2021 by PGurus on Scribd

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.