नेशनल हेराल्ड धोखाधड़ी : शहरी विकास मंत्रालय ने हेराल्ड हाउस को अपने अधीन लेने के लिए नोटिस जारी किया

यंग इंडियन को नोटिस जारी करने के साथ, नेशनल हेराल्ड घोटाले में कार्यवाही तेजी से आगे बढ़ने लगी हैं।

1
3198
शहरी विकास मंत्रालय ने हेराल्ड हाउस को अपने अधीन लेने के लिए नोटिस जारी किया
शहरी विकास मंत्रालय ने हेराल्ड हाउस को अपने अधीन लेने के लिए नोटिस जारी किया

नेशनल हेराल्ड मामले में अवैधताओं की एक और पुष्टि में, शहरी विकास मंत्रालय ने अब-निष्क्रिय चुके नेशनल हेराल्ड अख़बार के प्रकाशक एसोसिएटेड जर्नल लिमिटेड (एजेएल) के मुख्यालय हेराल्ड हाउस को अपने अधीन लेने के लिए एक नोटिस जारी किया है। नोटिस एजेएल को जारी किया गया था, जिसने सब्सिडी दरों पर समाचार पत्र प्रकाशित करने के लिए भूमि प्राप्त की थी। मंत्रालय की कार्यवाही के बाद इसकी जांच टीम ने पाया कि आईटीओ, दिल्ली में प्रेस क्षेत्र में आवंटित हेराल्ड हाउस और परिसर का इस्तेमाल पिछले 10 वर्षों से अख़बार के प्रकाशन के लिए नहीं किया जा रहा था, जो आवंटन नियमों का उल्लंघन है।

शहरी विकास मंत्रालय मुख्य याचिकाकर्ता और बीजेपी नेता सुब्रमण्यम स्वामी द्वारा दायर की गई शिकायत पर कार्य कर रहा था।

पिछले आठ सालों से, इमारत के धारक (शाब्दिक रूप से फर्म यंग इंडियन (वाईआई) सोनिया गांधी और राहुल गांधी द्वारा नियंत्रित) पासपोर्ट सेवा केंद्र में इमारत के दो मंजिलों को किराए पर देकर प्रति माह 80 लाख रुपये से ज्यादा कमा रहे थे।

दिसंबर 2017 के आखिरी सप्ताह में, आयकर विभाग ने सोनिया गांधी और राहुल गांधी नियंत्रित फर्म यंग इंडियन पर 250 करोड़ रुपये जुर्माना लगाया, जिसने एजेएल को “गुप्त और धोखाधड़ी” तरीकों से हथिया लिया। कुछ महीने पहले, दिल्ली उच्च न्यायालय ने आयकर जुर्माना आदेश के खिलाफ अपनी अपील करने के लिए वाईआई को 10 करोड़ रूपये जमा करने का आदेश दिया था[1]

शहरी विकास मंत्रालय में उच्चस्तरीय स्रोतों के मुताबिक, दो महीने पहले एक जांच दल ने हेराल्ड हाउस के परिसर का निरीक्षण किया था और पाया कि पिछले 10 वर्षों से कोई समाचार-पत्र प्रकाशन गतिविधि नहीं हो रही थी। हेराल्ड हाउस के लिए जमीन प्रेस एन्क्लेव क्षेत्र में अन्य मीडिया संगठनों की तरह एजेएल को समाचार पत्र के प्रकाशन के लिए बहुत सब्सिडी दरों पर 50 के दशक के मध्य में आवंटित की गई थी। सरकार के साथ पट्टा समझौते के अनुसार, एजेएल द्वारा इस जगह को वापस करने की उम्मीद थी जब उसने समाचार पत्र प्रकाशन को रोक दिया था।

इसी तरह, देश भर में नेशनल हेराल्ड के प्रकाशन के लिए प्रमुख भूमि आवंटित की गई थी। भूमि लखनऊ, पटना, मुंबई, पंचकुला, भोपाल, इंदौर में बहुत सस्ती दरों पर आवंटित की गई थी और यह सभी भूमि आवंटन विभिन्न राज्य सरकारों द्वारा जांच का सामना कर रहे हैं।

शहरी विकास मंत्रालय मुख्य याचिकाकर्ता और बीजेपी नेता सुब्रमण्यम स्वामी द्वारा दायर की गई शिकायत पर कार्य कर रहा था। स्वामी के खुलासे के बाद, मंत्रालय को प्रेस एन्क्लेव क्षेत्र में कई अन्य इमारतों के खिलाफ समान उल्लंघनों की कई शिकायतें मिली हैं और जांच टीमों को समाचार पत्र प्रकाशन के परिसर में अवैध धारकों की जांच और विवरण प्राप्त करने के लिए कहा जाएगा।

सुनवाई अदालत में, नेशनल हेराल्ड केस अब याचिकाकर्ता सुब्रमण्यम स्वामी द्वारा साक्ष्य जमा करने की प्रक्रिया के दौर में है, जिन्होंने 21 जुलाई को साक्ष्य जमा करना शुरू कर दिया है। अगली सुनवाई 25 अगस्त के लिए निर्धारित है[2]। आरोपी कांग्रेस नेताओं ने मामले में विवरणों के बारे में ट्वीट करने और उन्हें बदनाम करने से स्वामी को रोकने के लिए अदालत में याचिका दायर की[3]

References:

[1] National Herald case: Delhi HC orders Young Indian to deposit Rs.10 cr in Income Tax Recovery Notice of Rs.250 croresMar 19, 2018, PGurus.com

[2] National Herald case – Subramanian Swamy starts submitting evidence Jul 21, 2018, PGurus.com

[3] Congress leaders file petition to restrain Subramanian Swamy from tweeting on National HeraldJul 21, 2018, PGurus.com

1 COMMENT

  1. Why an Indian govt so afraid of Sonia Gandhi why govt cannot identify corrupts And put them out of job first.Looks like Hindus are fools and no good leader who can talk sense in all.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.