के वी चौधरी: कर निरीक्षक से आरआईएल बाबू तक

के वी चौधरी: रेड राजा से आरआईएल बाबू तक, विवाद उनका मध्य नाम है

0
322
के वी चौधरी: रेड राजा से आरआईएल बाबू तक, विवाद उनका मध्य नाम है
के वी चौधरी: रेड राजा से आरआईएल बाबू तक, विवाद उनका मध्य नाम है

काफी हद तक, भारत में मध्यम वर्ग के परिवारों को भी अब केंद्र में किसी भी सरकार के साथ रिलायंस इंडस्ट्रीज (आरआईएल) की शक्ति और पहुंच की समझ हो गई है। यह इस हद तक सामान्य ज्ञान है कि विषय को खाने की टेबल पर चर्चा के लिए एक सुस्त मुद्दा माना जाता है। लेकिन जब पूर्व केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड (सीबीडीटी) के सदस्य केवी चौधरी, कुछ सप्ताह पहले एक स्वतंत्र निदेशक के रूप में आरआईएल में शामिल हुए, तब भी इसने बुद्धिजीवियों के बीच कई तरह की सोच पैदा कर दी[1]

द इंडियन एक्सप्रेस ने 1 दिसंबर, 2019 को बताया कि आयकर विभाग ने मुकेश अंबानी परिवार के सदस्यों को काले धन अधिनियम 2015 के प्रावधानों के तहत नोटिस दिया है।

चौधरी, जो कभी सीबीडीटी के सदस्य के रूप में काले धन की जांच और धन के बारम्बार लेनदेन (राउंड ट्रिपिंग) से संबंधित मामले से सम्बंधित थे, अब आरआईएल के आतिथ्य का आनंद ले रहे हैं (उनका उपनाम रेड राजा था!), आरआईएल जो कि स्वर्गीय धीरूभाई अंबानी के बड़े बेटे मुकेश अंबानी के स्वामित्व वाली कम्पनी है, और धीरूभाई अंबानी के पास काला धन है और इसके खिलाफ धन राउंड-ट्रिपिंग के मामला है, जिसकी जांच सीबीडीटी द्वारा उस समय भी की जा रही थी जब चौधरी सेवारत थे। इसलिए उनके कंपनी में शामिल होने से नौकरशाहों के सबसे ज्‍यादा परेशान और निंदक के बीच भी अब उंची भावनाओं का संचार हुआ है।

आरआईएल में चौधरी की नियुक्ति विवादास्पद क्यों है?

द कारवां मैगज़ीन के अनुसार, चौधरी ने अगस्त 2014 से सीबीडीटी के अध्यक्ष का पद संभाला था[2]। उन्हें अक्टूबर 2014 में काले धन पर एसआईटी [विशेष जांच दल] में शामिल किया गया था, उसी महीने जब उन्होंने सीबीडीटी के प्रमुख के रूप में पद छोड़ दिया। लेकिन विभाग में उसका प्रभाव ऐसा था कि वह अनीता कपूर के अधीन बोर्ड में एक वास्तविक सदस्य (जांच) के रूप में जारी रहा। उसने अपना नॉर्थ ब्लॉक ऑफिस भी बनाए रखा था।

कारवां ने बताया कि जिनेवा में एचएसबीसी बैंक की एक शाखा के गुप्त खातों की जांच में कथित रूप से अवैध धन को जमा करने के लिए इस्तेमाल किया गया था, चौधरी की निगरानी में घसीटा गया था। जिनेवा में एचएसबीसी के बैंक खातों की आयकर जांच मुख्य रूप से महत्वपूर्ण थी क्योंकि इसमें मोटेक नाम की एक मुंबई स्थित कंपनी शामिल थी, जो आरआईएल से निकटता से जुड़ी हुई है और एचएसबीसी बैंक, जिनेवा में खातों को रखने के लिए 2011 से आयकर (आईटी) जांच के तहत है।

मुंबई आयकर की जांच विंग ने सबसे पहले अगस्त 2011 में मोटेक के निदेशकों को समन जारी किया था। शुरू से ही, मोटेक ने उन खातों को रखने से इनकार कर दिया, जिनके लिए लीक हुए एचएसबीसी बैंक दस्तावेजों में इसके लिए जिम्मेदार ठहराया गया था। नवंबर 2011 में कार्यवाही विभाग की मूल्यांकन इकाई में चली गई और बाद में कई सुनवाई हुई। 2007 में, मोटेक उन बारह संस्थाओं में से एक थी, जो रिलायंस पेट्रोलियम के शेयरों में अंदरूनी व्यापार (इनसाइडर ट्रेडिंग) के आरोप में सेबी की जांच के तहत आई थीं।

द न्यूज मिनट की एक रिपोर्ट बताती है कि मोटेक आरआईएल समूह और संचालकों द्वारा संचालित कंपनी है[3]। मोटेक संदीप टंडन, जो आरआईएल में शामिल हो गए थे, और कांग्रेस नेता अन्नू टण्डन द्वारा चलाई गयी थी। संदीप टंडन भारतीय राजस्व सेवा (आईआरएस) के एक पूर्व अधिकारी थे, जिन्होंने प्रवर्तन निदेशालय में आरआईएल सहित विदेशी मोर्चे की कंपनियों के मामले में काम किया था। इसके बाद, उन्होंने 2010 में स्विट्जरलैंड में निधन से एक साल पहले, 2009 में निदेशक के रूप में मोटेक से इस्तीफा दे दिया था।

मोटेक के खिलाफ आरोप है कि उसके पास स्विट्जरलैंड में एचएसबीसी बैंक की एक शाखा में 2,100 करोड़ रुपये हैं। कथित तौर पर, कंपनी को चार विदेशी संस्थाओं का एक लाभकारी मालिक कहा गया था – अर्थात् मोनाको-पंजीकृत इन्फ्रास्ट्रक्चर कंपनी लिमिटेड और एचआरजे होल्डिंग्स एनवी, एचआरजे होल्डिंग्स एनवी 2, और एबरडीन एंटरप्राइजेज, जो नीदरलैंड्स एंटिलीज़ में पंजीकृत हैं, यह कैरेबियन सागर में दीपों का एक समूह है जो एक कर आश्रय (टैक्स हैवन) के रूप में काम करता है – जो सामूहिक रूप से एचएसबीसी बैंक के खातों में लगभग 2,100 करोड़ रुपये की रकम रखता है।

आईटी और ईडी द्वारा जांच में पता चला था कि नीदरलैंड एंटिल्स के कुराकाओ द्वीप (कैरिबियन सागर में द्वीपों का समूह नीदरलैंड सरकार के संप्रभु नियंत्रण में आता है) में पंजीकृत बार्टो होल्डिंग्स एनवी नामक एक होल्डिंग कंपनी पूंजी निवेश ट्रस्ट और इसके तहत सभी संरचनाओं की अंतिम लाभार्थी थी। बार्टो होल्डिंग्स, मोटेक सॉफ्टवेयर की सहायक कंपनी है।

इस खबर को अंग्रेजी में यहाँ पढ़े।

मोटेक जांच के लिंक बॉयोमेट्रिक (Biometrix) तक पहुंचते हैं, जो सिंगापुर की एक कंपनी है जिसने सीधे आरआईएल समूह की कंपनियों में निवेश किया है।

वही संदीप टंडन, जिसने स्विट्जरलैंड में बैंक खाता रखने वाली कंपनी मोटेक को संचालित किया, वो बॉयोमीट्रिक्स का संचालक भी था। सिंगापुर स्थित बायोमेट्रिक्स ने कुछ साल पहले भारत के सबसे बड़े प्रत्यक्ष विदेशी निवेश में से एक को भारत में रिलायंस पोर्ट्स एंड टर्मिनल, रिलायंस यूटिलिटीज, रिलायंस गैस ट्रांसपोर्टेशन इन्फ्रास्ट्रक्चर, और रिलोजिस्टिक्स इन्फ्रास्ट्रक्चर में अनिवार्य रूप से परिवर्तनीय वरीयता शेयर (सीसीपीएस) प्राप्त करके घोषित किया था। यह मामला भी 2011 से आई-टी निगरानी के तहत है क्योंकि जांचकर्ताओं को धन के राउंड-ट्रिपिंग का संदेह था[4]

बॉयोमीट्रिक्स ने कथित तौर पर वित्तीय वर्ष 2007-08 के दौरान आईसीआईसीआई बैंक सिंगापुर से ऋण लिया था और चार आरआईएल समूह की कंपनियों को उधार दिया था। चार साल के ऋण को आरआईएल समूह की कंपनियों के प्रेषण से ब्याज के साथ चुकाया गया था “इसके अलावा अन्य लोगों ने इसे उधार दिया था”। बायोमेट्रिक्स द्वारा आयोजित चार आरआईएल समूह कंपनियों के सीसीपीएस को अन्य आरआईएल या संचालक समूह कंपनियों द्वारा बायोमेट्रिक्स को अपने ऋण दायित्व से बाहर निकालने के लिए खरीदा गया था।

बॉयोमीट्रिक्स मामला ठंडा पड़ गया

बिजनेस लाइन के सूत्रों के हवाले से एक रिपोर्ट के मुताबिक, कुछ अधिकारियों के तबादले के बाद बॉयोमीट्रिक्स एफडीआई जांच मामला चार साल तक ठंडा पड़ा रहा। लेकिन नियंत्रक और महालेखा परीक्षक ने आरआईएल के प्रति आई-टी विभाग के दृष्टिकोण पर सवाल उठाया, जिसके बाद इस मामले को उसके निष्कर्ष पर ले जाना था, बिजनेस लाइन ने रिपोर्ट किया था।

अखबार ने आगे कहा कि आई-टी जांच रिपोर्ट, इसके (बिजनेसलाइन) द्वारा समीक्षा की गई, ने आरोप लगाया कि बायोमेट्रिक्स द्वारा ऋण पर ब्याज भुगतान का स्रोत स्पष्ट नहीं था। इसके अलावा, बॉयोमीट्रिक्स से सीसीपीएस खरीदने वाली संस्थाओं के धन के स्रोत पर और आरआईएल या समूह की कंपनियों द्वारा 6,500 करोड़ रुपये का उपयोग और कर निहितार्थ पर स्पष्टता की आवश्यकता थी। बॉयोमीट्रिक्स से बाहर होने वाली कंपनियों ने मुद्रा के उतार-चढ़ाव पर एक कदम उठाया हो सकता है क्योंकि ऋण डॉलर के संदर्भ में था, लेकिन भुगतान रुपये में थे।

बॉयोमीट्रिक्स कथित तौर पर एक फर्जी खोल कंपनी थी। रिलायंस जेनमेडिक्स पीएलसी यूके ने 2007 में 9,900 डॉलर का निवेश करके बायोमेट्रिक्स में 9 प्रतिशत हिस्सेदारी खरीदी। आईटी रिपोर्ट बिजनेस लाइन के अनुसार कहा गया, आईसीआईसीआई बैंक द्वारा प्रस्तुत बायोमेट्रिक्स पर नियत परिश्रम की रिपोर्ट, जिसने इसे ऋण दिया, अमेरिका में आरआईएल के तत्कालीन अध्यक्ष ठाकुर शर्मा को बायोमेट्रिक्स के निदेशक के रूप में दिखाया। अतुल शांति कुमार दयाल और संदीप टंडन के स्वामित्व वाली रिलायंस जेनमेडिक्स और स्ट्रासबर्ग होल्डिंग्स ने बायोमेट्रिक्स को बढ़ावा दिया, जिसे ऋण भुगतान के बाद परिसमाप्त किया गया था[5]

यदि विस्तृत रूप में देखा जाए, तो यह एक तस्वीर दे सकता है कि मोटेक के एचएसबीसी बैंक, जिनेवा के खाते और बायोमेट्रिक्स के बहुत सारे सामान्य सम्बंध हैं और राउंड-ट्रिपिंग के आरोप सिर्फ भ्रम नहीं हैं। यह सब तब भी जांच में था जब चौधरी सीबीडीटी के एक प्रमुख सदस्य थे और जांच कार्यवाही को संभाला था। बाद में वह मुख्य सतर्कता आयुक्त (सीवीसी) बने, एक ऐसा निकाय जो भ्रष्टाचार के लिए जिम्मेदार सीबीआई निदेशक और सीबीडीटी अधिकारियों को जांच और निर्देश दे सकता है[6]। उनका आरआईएल में शामिल होना अब केवल यह दर्शाता है कि कैसे चीजें घुमफिर कर वहीं पहुँच गई हैं[7]

रिलायंस फर्स्ट फैमिली को आईटी का नोटिस

द इंडियन एक्सप्रेस ने 1 दिसंबर, 2019 को बताया कि आयकर विभाग ने मुकेश अंबानी परिवार के सदस्यों को काले धन अधिनियम 2015 के प्रावधानों के तहत नोटिस दिया है[8]। लेख में कहा गया है कि संपर्क करने पर, रिलायंस के प्रवक्ता ने जवाब दिया, “हम आपके ईमेल की सभी सामग्रियों को अस्वीकार करते हैं, हमें इस तरह का कोई नोटिस प्राप्त नहीं हुआ है”।

यह जांच 2011 में एचएसबीसी जिनेवा में अनुमानित 700 भारतीय व्यक्तियों और संस्थाओं के खातों का विवरण प्राप्त करने के बाद शुरू हुई।

संदर्भ:

[1] Former tax dept head KV Chowdary joins Reliance BoardOct 19, 2019, Economic Times

[2] The murky past of central vigilance commissioner KV ChowdaryNov 23, 2018, The Caravan

[3] Largest Indian Swiss account trail leads to Andheri based software company, promoted by RILFeb 15, 2015, The News Minute

[4] I-T Dept widens probe into Rs.6500-cr FDI by Biometrix in RIL group entitiesApr 19, 2018, The Hindu Business Line

[5] I-T notices to Mukesh Ambani’s wife, children for undisclosed foreign assets; RIL refutesSep 14, 2019, Business Today

[6] K.V. Chowdary, first IRS officer to serve as CVC, is no stranger to controversyJan 16, 2019, ThePrint

[7] “Unfortunate”: Jairam Ramesh on Ex-Vigilance Chief Joining RelianceOct 20, 2019, NDTV.com

[8] Income Tax serves notices to Reliance First Family under Black Money ActDec 1, 2019, The Indian Express

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.