केरल में एसएफआई कार्यकर्ताओं ने प्रिंसिपल को दी धमकी; ऑफिस में घुसकर कहा घुटने तोड़ देंगे!

खास बात यह है कि पास में पुलिस वाला खड़ा है, लेकिन वह चुपचाप देखता रहता है।

0
78
केरल में एसएफआई कार्यकर्ताओं ने प्रिंसिपल को दी धमकी
केरल में एसएफआई कार्यकर्ताओं ने प्रिंसिपल को दी धमकी

केरल के त्रिशूर महाराजा टेक्नोलॉजिकल इंस्टीट्यूट के प्रिंसिपल से बदसलूकी

केरल में स्टूडेंट फेडरेशन ऑफ इंडिया (एसएफआई) के कार्यकर्ताओं की ओर से कॉलेज प्रिंसिपल के ऑफिस में घुसकर धमकी देने का मामला सामने आया है। कार्यकर्ताओं का आरोप है कि प्रिंसिपल ने एक छात्र के साथ कथित दुर्व्यवहार किया। यह पूरा मामला सीसीटीवी कैमरा में रिकॉर्ड हो गया।

फुटेज में दिख रहा है कि प्रिंसिपल अपने ऑफिस में कुछ लोगों के साथ बैठे हैं। तभी 3 से 4 एसएफआई के कार्यकर्ता अंदर आते हैं और प्रिंसिपल को धमकाने लगते हैं। उनमें से एक कहता है- मैं आपके घुटने तोड़ दूंगा। आप बाहर आओ। खास बात यह है कि पास में पुलिस वाला खड़ा है, लेकिन वह चुपचाप देखता रहता है। कुछ देर बाद सभी कार्यकर्ता बाहर चले जाते हैं।

मामला केरल के त्रिशूर महाराजा टेक्नोलॉजिकल इंस्टीट्यूट का है। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, 25 अक्टूबर को भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी मार्क्सवादी (सीपीआई-एम) की छात्र इकाई एसएफआई के कार्यकर्ता एक छात्र के साथ कथित दुर्व्यवहार को लेकर प्रदर्शन कर रहे थे और कॉलेज के प्रिंसिपल को ऑफिस के बाहर बुला रहे थे, लेकिन उनके बाहर नहीं आने पर कार्यकर्ता खुद ऑफिस के अंदर चले गए और सबके सामने प्रिंसिपल के साथ बदतमीजी की। साथ ही घुटने तोड़ने की धमकी भी दी।

एसएफआई कार्यकर्ता एसएफआई त्रिशूर जिला सचिव हसन मुबारक के नेतृत्व में प्रदर्शन कर रहे थे। मुबारक ने इस घटना को लेकर सोशल मीडिया पर भी पोस्ट किया है। इसमें उन्होंने आरोप लगाया है कि कुछ दिन पहले प्रिंसिपल ने स्कैल्प सोरायसिस से पीड़ित एक छात्र की टोपी को जबरदस्ती हटा दिया, जबकि डॉक्टरों ने उसे धूल और धूप से दूर रखने के लिए टोपी पहनने के लिए कहा था।

प्रिंसिपल पी दिलीप ने मंगलवार को शिकायत दर्ज कर इस घटना की जानकारी दी। पुलिस ने एसएफआई के त्रिशूर जिला सचिव सहित 6 लोगों के खिलाफ धारा 447 (आपराधिक अतिचार), 506 (आपराधिक धमकी), और 353 (लोक सेवक को उसके कर्तव्य के निर्वहन से रोकने के लिए हमला या आपराधिक बल) के तहत मामला दर्ज किया है।

[आईएएनएस इनपुट के साथ]

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.