उद्योगपति प्रकाश हिंदुजा पर कर उल्लंघन हेतु जिनेवा कोर्ट द्वारा 157 मिलियन फ्रैंक (1270 करोड़ रुपये) का जुर्माना लगाया गया!

प्रसिद्ध हिंदुजा परिवार का एक सदस्य स्विस कोर्ट में मुसीबत में

1
778
प्रसिद्ध हिंदुजा परिवार का एक सदस्य स्विस कोर्ट में मुसीबत में
प्रसिद्ध हिंदुजा परिवार का एक सदस्य स्विस कोर्ट में मुसीबत में

हाल ही में, कुछ भारतीय उद्योगपति विदेशों में गुप्त खाते खोलने या विदेशों में कर चोरी के लिए पकड़े जाने पर भारत का नाम बदनाम कर रहे हैं। कुछ दिन पहले अनिल अंबानी को स्विस बैंक में गुप्त खातों के लिए पकड़ा गया था[1]। स्विस मीडिया ने सूचना दी है कि जिनेवा की एक अदालत ने भारतीय उद्योगपति प्रकाश हिंदुजा पर कर उल्लंघन के लिए 157 मिलियन फ्रैंक (1270 करोड़ रुपये) का जुर्माना लगाया है। स्विस अखबार गोथम सिटी और ले टेम्प्स के अनुसार, जिनेवा कोर्ट ने प्रकाश हिंदुजा पर उनके द्वारा अपना निवास मोनाको में दर्शाते हुए कर छूट प्राप्त करने के लिए जुर्माना लगाया, जबकि वह वास्तव में जिनेवा में रह रहे थे। गोथम सिटी की रिपोर्ट के अनुसार, “जिनेवा कर अधिकारियों को भारतीय मूल के अरबपति प्रकाश हिंदुजा पर अप्रैल 2018 तक कोलोन (जीई) में अपने विला में रहने का संदेह है, जबकि वह आधिकारिक तौर पर 2007 में मोनाको में बस गए थे[2]।”

ले टेम्प्स ने बताया – “जुलाई 2018 में, जिनेवा के सरकारी वकील ने 21 अप्रैल को दिए गए फ़ेडरल कोर्ट के एक फैसले (5A_1042/ 2020) के अनुसार, आपराधिक कार्यवाही के संदर्भ में, प्रांतीय कर अधिकारियों की ओर से प्रकाश हिंदुजा और उनके परिवार के सदस्यों के बारे में जानकारी एकत्र करने की मांग की। अप्रैल 2019 में, संघीय कर प्रशासन ने इस मामले में अपनी जांच शुरू की, जिसकी जद में कई व्यक्ति आये। इसके अगले महीने, जिनेवा कर अधिकारियों ने दो प्राप्तियों की घोषणा की, जो कि प्रांतीय और नगरपालिका करों के लिए 154 मिलियन फ़्रैंक की राशि थी, और संघीय करों के लिए 3 मिलियन थी[3]।”

अजय हिंदुजा ने किसी भी गलत काम से इनकार किया और जिनेवा वकील के कार्यालय ने पुष्टि की है कि उन्होंने एक आयुध दंड या आपराधिक आदेश को चुनौती दी थी और मामले की सुनवाई अदालत में होनी है, लेकिन कोविड के कारण इसमें देरी हुई है।

कुछ महीने पहले, स्विस अखबारों के अलावा, लंदन और मॉरीशस के अखबारों ने प्रकाश हिंदुजा के बेटे अजय हिंदुजा के खिलाफ जिनेवा और मॉरीशस ट्रिब्यूनल द्वारा दर्ज आरोपों को प्रकाशित किया था। अखबारों ने मॉरीशस में उन होल्डिंग कंपनियों में अवैधता की सूचना दी, जो हिंदुजा समूह की पूरी कंपनियों को नियंत्रित करती है। मॉरीशस में उल्लंघन के अलावा, संडे टेलीग्राफ ऑफ लंदन ने विस्तार से रिपोर्ट की, अरबपति व्यवसायी अजय हिंदुजा के खिलाफ जालसाजी के एक मामले का आरोप लगाते हुए, भारत के सबसे अमीर परिवारों में से एक के लिए समस्याएँ बढ़ गई हैं। फरवरी में पीगुरूज ने इस मामले की विस्तार से जानकारी दी थी[4]

इस खबर को अंग्रेजी में यहाँ पढ़े।

रविवार, 7 फरवरी को प्रकाशित लेख के अनुसार, अजय के खिलाफ दिसंबर 2019 में जिनेवा की एक अदालत द्वारा एक बैंक में एक फर्जी दस्तावेज़ देने के आरोप में एक आपराधिक आदेश दिया गया था। स्विस वकील का मानना था कि आगे की कार्यवाही के लिए आधार थे। अजय हिंदुजा ने किसी भी गलत काम से इनकार किया और जिनेवा वकील के कार्यालय ने पुष्टि की है कि उन्होंने एक आयुध दंड या आपराधिक आदेश को चुनौती दी थी और मामले की सुनवाई अदालत में होनी है, लेकिन कोविड के कारण इसमें देरी हुई है।

कानूनी विशेषज्ञ पारिवारिक विवाद के निपटारे में लगे हुए हैं, चार भाई सिरचंद पी हिंदुजा, गोपीचंद हिंदुजा, प्रकाश पी हिंदुजा और अशोक पी हिंदुजा पिछले दो वर्षों से अगली पीढ़ी को हिस्सेदारी के हस्तांतरण को लेकर झगड़ रहे हैं। अब पारिवारिक कलह के कारण सबसे छोटे भाई अशोक हिंदुजा और प्रकाश हिंदुजा के बेटे अजय को मॉरीशस और जिनेवा अदालतों में कानूनी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। वकीलों के मुताबिक बड़े भाई सिरीचंद और गोपीचंद दुनिया भर में कंपनियों के मामलों को संभाल रहे छोटे भाइयों से नाखुश हैं।

पारिवारिक विवाद नवंबर 2020 में शुरू हुए, जब अजय मॉरीशस-पंजीकृत कंपनी इंडसइंड इंटरनेशनल होल्डिंग्स लिमिटेड या आईआईएचएल की वार्षिक आम बैठक में निदेशक के रूप में दोबारा चुनाव के लिए खड़े हुए। उनके चाचा अशोक हिंदुजा, जो भारत में रहते हैं, बोर्ड के अध्यक्ष हैं। अन्य बड़े भाई लंदन और स्विटजरलैंड में रह रहे हैं। भारत में हिंदुजा समूह अशोक लेलैंड, इंडसइंड बैंक और गल्फ लुब्रिकेंट्स को नियंत्रित करता है। दुनिया भर में कारोबार करने वाले भारतीय मूल के समूह की शुरुआत 1940 के दशक की शुरुआत में स्वर्गीय पीडी हिंदुजा ने की थी। हिंदुजा समूह की कंपनियों को मॉरीशस और जिनेवा जैसे टैक्स हेवन (कर आश्रयों) में स्थित होल्डिंग कंपनियों द्वारा नियंत्रित किया जाता है।

असहमत शेयरधारकों का कहना है कि उन्होंने बैठक में अपनी आपत्तियां व्यक्त की थीं, और अब मॉरीशस वित्तीय सेवा आयोग और कंपनी रजिस्ट्रार दोनों को पत्र लिखा है, और “इंडसइंड इंटरनेशनल होल्डिंग्स में प्रबंधन की गंभीर विफलता” की जांच करने के लिए कहा है, और दावा किया था कि जालसाजी का मामले की वजह से कानून के तहत और कंपनी के संविधान के तहत अजय को अयोग्य घोषित कर देना चाहिए। मॉरीशस से सीएजे न्यूज की रिपोर्ट के अनुसार, मॉरीशस के अधिकारियों ने पत्र प्राप्त होने की पुष्टि की है।

हाल ही में पीगुरूज ने बोफोर्स रिश्वत कांड में तीन बड़े हिंदुजा भाइयों की भूमिका पर एक श्रृंखला प्रकाशित की थी[5]

संदर्भ:

[1] भारत सरकार के लिए बड़ी जीत! स्विस कोर्ट ने कर्ज में डूबे उद्योगपति अनिल अंबानी, उनकी पत्नी और बेटों के गुप्त बैंक खातों का खुलासा करने का निर्देश दियाMay 15, 2021, hindi.pgurus.com

[2] Geneva tax authorities claim 157 million from billionaire Prakash HindujaMay 05, 2021, Gotham City

[3] Billionaire Prakash Hinduja in the sights of the Geneva tax authoritiesMay 6, 2021, Le Temps

[4] हिंदुजा समूह में पारिवारिक विवाद। मॉरीशस और जिनेवा के अधिकारियों ने अशोक और अजय हिंदुजा के खिलाफ कार्रवाई शुरू की!Feb 19, 2021, hindi.pgurus.com

[5] दफन बोफोर्स घोटाला – संस्थागत पतन, आपराधिक षड्यंत्र और एक तैयार आखिरी सिरे की दुखद कहानी, लेकिन…?Sep 25, 2020, hindi.pgurus.com

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.