हिंदुजा समूह में पारिवारिक विवाद। मॉरीशस और जिनेवा के अधिकारियों ने अशोक और अजय हिंदुजा के खिलाफ कार्रवाई शुरू की!

हिंदुजा परिवार की तनातनी अब बाहर आ गई है, जब अजय हिंदुजा के खिलाफ स्विस कोर्ट में जालसाजी का मुकदमा दर्ज हुआ!

1
703
हिंदुजा परिवार की तनातनी अब बाहर आ गई है, जब अजय हिंदुजा के खिलाफ स्विस कोर्ट में जालसाजी का मुकदमा दर्ज हुआ!
हिंदुजा परिवार की तनातनी अब बाहर आ गई है, जब अजय हिंदुजा के खिलाफ स्विस कोर्ट में जालसाजी का मुकदमा दर्ज हुआ!

जिनेवा कोर्ट में अजय हिंदुजा के खिलाफ जालसाजी का केस!

लंदन और मॉरीशस स्थित समाचार पत्रों द्वारा मॉरीशस में कंपनियों की अवैधता की खबरें छापने के बाद हिंदुजा परिवार में तनातनी और बढ़ गयी। मॉरीशस में उल्लंघनों के अलावा, लंदन के पिछले हफ्ते के संडे टेलीग्राफ ने विस्तार से रिपोर्ट की, जिसमें जिनेवा कोर्ट में अरबपति व्यवसायी अजय हिंदुजा के खिलाफ जालसाजी का मामला दर्ज होने के बारे में कहा गया, जिसने भारत के सबसे अमीर परिवारों में से एक की समस्याओं को बढ़ा दिया है।

रविवार 7 फरवरी को प्रकाशित लेख के अनुसार, अजय द्वारा बैंक में एक फर्जी दस्तावेज प्रस्तुत करने के आरोप में दिसंबर 2019 में जिनेवा अदालत में एक आपराधिक आदेश पारित हुआ। स्विस अभियोजक/ वकील का मानना था कि आगे बढ़ने के लिए पर्याप्त आधार थे। अजय हिंदुजा ने किसी भी गलत काम से इनकार किया है और जिनेवा अभियोजक के कार्यालय ने पुष्टि की है कि, उन्होंने आपराधिक आदेश (जिसे स्विस फ्रेंच भाषा में आर्डोनेंस पेनाले कहते हैं) को चुनौती दी है और यह मामला अदालत में सुनवाई के लिए सूचीबद्ध है, लेकिन कोविड के कारण देरी हुई है। लंदन की संडे टेलीग्राफ की रिपोर्ट में हिंदुजा समूह में व्याप्त समस्याओं और अजय हिंदुजा से संबंधित जांच को उजागर किया गया है[1]

हिंदुजा समूह की कंपनियों को मॉरीशस और जिनेवा जैसे टैक्स हैवन (कर आश्रयों) में स्थित कंपनियों द्वारा नियंत्रित किया जाता है। बोफोर्स घोटाले में मुख्य बिचौलियों के रूप में तीन बड़े हिंदुजा भाईयों के नाम सामने आए थे।

पारिवारिक विवाद के निपटारे में लगे क़ानूनी विशेषज्ञ, चार भाई श्रीचंद हिंदुजा, गोपीचंद हिंदुजा, प्रकाश हिंदुजा और अशोक हिंदुजा, पिछले दो वर्षों से अगली पीढ़ी में शेयरों के हस्तांतरण को लेकर झगड़ रहे हैं। अब पारिवारिक झगड़ों के कारण सबसे कम उम्र के अशोक हिंदुजा और प्रकाश हिंदुजा के बेटे अजय को मॉरीशस और जिनेवा की अदालतों में कानूनी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। वकीलों के मुताबिक, दुनिया भर में कंपनियों के मामलों को संभालने वाले छोटे भाइयों श्रीचंद और गोपीचंद के काम से बड़े भाई नाखुश हैं।

पारिवारिक विवाद नवंबर 2020 में शुरू हुआ, जब अजय मॉरीशस में पंजीकृत कंपनी इंडसइंड इंटरनेशनल होल्डिंग्स लिमिटेड या आईआईएचएल की वार्षिक आम बैठक में निदेशक के रूप में फिर से चुनाव के लिए खड़े हुए। उनके चाचा, अशोक हिंदुजा जो भारत में रहते हैं, बोर्ड की अध्यक्षता करते हैं। अन्य बड़े भाई लंदन और स्विट्जरलैंड में बसे हुए हैं। भारत में, हिंदुजा समूह अशोक लीलैंड, इंडसइंड बैंक और गल्फ ल्युब्रिकेंट को नियंत्रित करता है। दुनिया भर में कारोबार करने वाले इस भारतीय मूल के समूह की शुरुआत 1940 के दशक की शुरुआत में स्वर्गीय पीडी हिंदुजा ने की थी। हिंदुजा समूह की कंपनियों को मॉरीशस और जिनेवा जैसे टैक्स हैवन (कर आश्रयों) में स्थित कंपनियों द्वारा नियंत्रित किया जाता है। बोफोर्स घोटाले में मुख्य बिचौलियों के रूप में तीन बड़े हिंदुजा भाईयों के नाम सामने आए थे। तीनों बड़े भाई लंदन और जिनेवा में बसे हुए हैं और सबसे छोटा भाई अशोक मुंबई में है। पीगुरूज ने बोफोर्स घोटाले की गाथा पर एक श्रृंखला प्रकाशित की है और घोटाले में हिंदुजा भाइयों की भूमिका विस्तार से बताया है[2]

इस खबर को अंग्रेजी में यहाँ पढ़े।

विरोध करने वाले शेयरधारकों का कहना है कि उन्होंने बैठक में अपनी आपत्तियों को उठाया था, और अब मॉरीशस वित्तीय सेवा आयोग और कंपनियों के रजिस्ट्रार दोनों को पत्र लिखा है कि वे “इंडसइंड इंटरनेशनल होल्डिंग पर प्रबंधन की एक गंभीर विफलता” की जांच करने के लिए कहें और दावा किया कि जालसाजी के मामले में कंपनी के संविधान के तहत अजय को अयोग्य ठहराया जा सकता है। मॉरीशस के सीएजे न्यूज की रिपोर्ट के अनुसार, मॉरीशस के अधिकारियों ने पत्र की प्राप्ति की पुष्टि की है[3]

हाल ही में, पोर्ट लुइस में इस तरह के मामलों को गंभीरता से लिया गया है क्योंकि द्वीप को धन शोधन के लिए वैश्विक “ग्रे लिस्ट” में रखा गया था। जी7 समूह राष्ट्रों द्वारा स्थापित एक एजेन्सी वित्तीय प्राधिकरण टास्क फोर्स (एफएटीएफ) द्वारा जारी की गई सूची – यह बताती है कि देशों ने कॉरपोरेट गवर्नेंस, उनके बैंकों में रखे गए धन के स्रोत और सीमाओं पर बढ़ते नकदी का नियंत्रण और अपराधिक आय और आतंक के उन्मूलन के उद्देश्य से कितनी अच्छी तरह निगरानी रखी है। 2020 में, एफएटीएफ ने मॉरीशस को जिम्बाब्वे, यमन, पाकिस्तान और म्यांमार के समान स्तर तक गिरा दिया। भारत और दक्षिण अफ्रीका, मॉरीशस के लिए प्रमुख बैंकिंग भागीदार हैं और दोनों एफएटीएफ की रेटिंग में शीर्ष पर हैं।

भट्टी पहले ही हिंदुजा समूह की कंपनियों में अवैधता पर हस्तक्षेप की करते हुए भारतीय प्रतिभूति और विनिमय बोर्ड (सेबी) को शिकायत दर्ज कर चुके हैं।

हिंदूजा परिवार या उनकी कंपनियों के खिलाफ लगाया गया धन शोधन का कोई आरोप नहीं है, लेकिन मॉरीशस वर्तमान में खुद को कॉर्पोरेट कानून के मानकों के अनुसार बनाए रखने के रूप में चित्रित करता, समस्या में है। रजिस्ट्रार ऑफ कंपनीज के एक प्रवक्ता ने संडे टेलीग्राफ को बताया कि आईआईएचएल की वार्षिक आम बैठक की घटनाओं की जांच “प्रक्रियाधीन” थी।

जालसाजी के आरोप में, अजय के वकीलों ने कहा कि वह दोषी साबित होने तक निर्दोष है। यदि स्विस ऑर्डनेंस पेनाले के लिए अदालत में उनकी चुनौती सफल रही, तो उनके पास जवाब देने के लिए कोई और मामला नहीं होगा। लेकिन आईआईएचएल में समस्याएं अशोक पी हिंदुजा के लिए एकमात्र सिरदर्द नहीं हैं, जिन्हें एपी के नाम से जाना जाता है। हालिया प्रेस रिपोर्टों के अनुसार, उन पर स्वतंत्र निदेशकों को भारतीय संपत्तियों, जहाँ उनका प्रभाव है, पर बोर्ड छोड़ने के लिए मजबूर करने का आरोप लगाया गया है।

चेन्नई स्थित अशोक लीलैंड और हिंदुजा ग्लोबल सॉल्यूशंस के छोटे निवेशक, जहाँ अशोक पी हिंदुजा सर्वेसर्वा हैं, ऐकांत भट्टी ने दावा किया है कि प्रमोटरों (मालिकों) को फायदा पहुंचाने के लिए कंपनी के फंड से अरबों रुपये का इस्तेमाल किया गया था और हाल ही में एजीएम के रिकॉर्ड झूठे थे और इसमें शेयरधारकों द्वारा उठाई गई आपत्तियां शामिल नहीं की गयी थीं। भट्टी पहले ही हिंदुजा समूह की कंपनियों में अवैधता पर हस्तक्षेप की करते हुए भारतीय प्रतिभूति और विनिमय बोर्ड (सेबी) को शिकायत दर्ज कर चुके हैं।

परिवार और समूह के मामलों को संभालने वाले वकीलों के अनुसार, भाइयों ने अगली पीढ़ी को शक्तियों और संपत्तियों के हस्तांतरण पर झगड़ना शुरू कर दिया है। बड़े भाई चाहते थे कि उनकी बेटियाँ समूह में शामिल हों और बाकी भाई केवल बेटों को व्यवसाय सौंपने की पारिवारिक परंपरा को बनाए रखना चाहते थे[4]

संदर्भ:

[1] A family feud, forgery claims and a fight to control Hinduja BankFeb 07, 2021, The Telegraph

[2] बोफोर्स घोटाला – गड़बड़ी की घिनौनी कहानी: जिम्मेदार कौन-कौन हैं?Sep 27, 2020, hindi.pgurus.com

[3] Tough time for corporates as Mauritius battles to clear its nameJan 6, 2021, CAJ News

[4] Hinduja brothers are fighting over a letter that divides the family’s $11 billion fortuneJune 24, 2020, The Print

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.