पहली कोविड लहर के बाद सरकार और जनता और हम सभी लापरवाह हो गए। तीसरी लहर का सामना करने के लिए तैयार रहना चाहिए: मोहन भागवत

घर में रहें, सुरक्षित रहें, एकजुट रहें: आरएसएस प्रमुख की कोविड की अपेक्षित तीसरी लहर के लिए तैयारियों पर एक चेतावनी!

1
463
घर में रहें, सुरक्षित रहें, एकजुट रहें: आरएसएस प्रमुख की कोविड की अपेक्षित तीसरी लहर के लिए तैयारियों पर एक चेतावनी!
घर में रहें, सुरक्षित रहें, एकजुट रहें: आरएसएस प्रमुख की कोविड की अपेक्षित तीसरी लहर के लिए तैयारियों पर एक चेतावनी!

आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत ने कोविड महामारी की दूसरी लहर को रोकने में विफलता का वर्णन करते हुए शनिवार को कहा कि सरकार, प्रशासन और लोगों ने महामारी को गंभीरता से नहीं लिया और पहली लहर के बाद लापरवाह हो गए। भागवत ने एक व्याख्यान श्रृंखला ‘असीमित सकारात्मकता’ में कहा – “हम इस स्थिति का सामना कर रहे हैं क्योंकि हम सभी – आम जनता, सरकार और प्रशासन ने पहली लहर के बाद लापरवाही बरती। डॉक्टर संकेत दे रहे थे लेकिन हम निश्चिंत हो गए। इसलिए हम इस समस्या का सामना कर रहे हैं। अब तीसरी लहर की बात हो रही है लेकिन हमें डरने की नहीं बल्कि खुद को तैयार करने की जरूरत है।”

महामारी को “मानवता के लिए चुनौती” कहते हुए, भागवत ने कहा कि भारत को दुनिया के लिए एक उदाहरण स्थापित करना होगा। उन्होंने कहा – “यह (कोविड-19 महामारी) मानवता के सामने एक चुनौती है और भारत को एक उदाहरण स्थापित करना होगा। हमें एक टीम के रूप में काम करना होगा, बिना गुण और दोष पर चर्चा किए। हम इस चर्चा को बाद में कर सकते हैं। हम एक टीम के रूप में काम करके और अपने काम में तेजी लाकर इस चुनौती से पार पा सकते हैं।”

आरएसएस प्रमुख ने कहा कि यह उंगली उठाने का उचित समय नहीं है और सभी को तर्कहीन टिप्पणी करने से बचना चाहिए।

आरएसएस के सरसंघचालक ने कहा कि देश को एकजुट रहना चाहिए और एक दूसरे पर उंगली उठाने के बजाय इस कठिन समय में एक टीम के रूप में काम करना चाहिए। लोगों से “सकारात्मक रहने” और सावधानी बरतने के लिए कहते हुए, आरएसएस प्रमुख ने नेताओं को मौजूदा परिस्थितियों में “तर्कहीन बयान” देने से बचने की भी चेतावनी दी। उन्होंने कहा – “हमें सकारात्मक रहना होगा और वर्तमान स्थिति में खुद को कोविड नकारात्मक रखने के लिए सावधानी बरतनी होगी।”

इस खबर को अंग्रेजी में यहाँ पढ़े।

आरएसएस प्रमुख ने कहा कि यह उंगली उठाने का उचित समय नहीं है और सभी को तर्कहीन टिप्पणी करने से बचना चाहिए। द्वितीय विश्व युद्ध में इंग्लैंड की स्थिति का हवाला देते हुए, जब सब कुछ इसके खिलाफ जा रहा था, भागवत ने कहा कि तत्कालीन प्रधान मंत्री विंस्टन चर्चिल की मेज पर एक उद्धरण लिखा हुआ था, जिसमें लिखा था, “इस कार्यालय में कोई निराशावाद नहीं है। हमें हार की संभावनाओं में कोई दिलचस्पी नहीं है। वे होती ही नहीं हैं”। इसी तरह, उन्होंने कहा, इस स्थिति में “हम साहस नहीं छोड़ सकते। हमें भी दृढ़ संकल्प की आवश्यकता है।”

कोविड -19 के खिलाफ लड़ाई को “धैर्य की परीक्षा” बताते हुए, आरएसएस प्रमुख ने कहा कि यह अवधि भारतीयों के अच्छे गुणों का भी परीक्षण करेगी और कहा कि “सफलता अंतिम पढ़ाव नहीं है, विफलता अंत नहीं है’ प्रयास जारी रखने का साहस ही मायने रखता है”। मोहन भागवत का पूरा भाषण आरएसएस के यूट्यूब चैनल पर देखा जा सकता है।

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.