अवंता समूह के मालिक गौतम थापर के खिलाफ ईडी का आरोप-पत्र! मनी लॉन्ड्रिंग और बैंकों से धोखाधड़ी का आरोप

ईडी में नई गति के साथ अधिक आरोप पत्र दायर किए जा रहे हैं, जिसमें गौतम थापर का मामला नवीनतम हैं!

0
760
ईडी में नई गति के साथ अधिक आरोप पत्र दायर किए जा रहे हैं, जिसमें गौतम थापर का मामला नवीनतम हैं!
ईडी में नई गति के साथ अधिक आरोप पत्र दायर किए जा रहे हैं, जिसमें गौतम थापर का मामला नवीनतम हैं!

ईडी ने मनी लॉन्ड्रिंग मामले में गौतम थापर के खिलाफ आरोप-पत्र दाखिल किया

प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने शुक्रवार को अवंता समूह के मालिक गौतम थापर के खिलाफ बैंकों को धोखा देकर 500 करोड़ रुपये की मनी लॉन्ड्रिंग (काले धन को वैध बनाना) करने के लिए आरोप पत्र दायर किया। प्रख्यात उद्योगपति थापर (60) को ईडी ने अगस्त में गिरफ्तार किया था और अब वह न्यायिक हिरासत में है। क्रॉम्पटन ग्रीव्स, बल्लारपुर इंडस्ट्रीज, अवंता एर्गो लाइफ इंश्योरेंस आदि जैसी कई बड़ी कंपनियों के मालिक थापर पहले से ही कई बैंकिंग संघों को धोखा देने और यस बैंक धोखाधड़ी के लिए केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) के तीन मामलों का सामना कर रहे हैं।[1]

ईडी का आरोप-पत्र विशेष न्यायाधीश संजीव अग्रवाल के समक्ष दायर किया गया, जिन्होंने इस मामले को 4 अक्टूबर को विचार के लिए सूचीबद्ध किया था। सीबीआई के आरोपपत्र के बाद एजेंसी द्वारा थापर के खिलाफ दो और आरोप-पत्र दाखिल किये जाने की उम्मीद है। कोर्ट ने उद्योगपति की जमानत अर्जी 7 अक्टूबर तक के लिए स्थगित कर दी है।

जून, 2021 में सीबीआई ने थापर और अन्य के खिलाफ सीजी पावर एंड इंडस्ट्रियल सॉल्यूशंस में कथित धोखाधड़ी के मामले की जांच के लिए एसबीआई और अन्य बैंकों में 2,435 करोड़ रुपये की धोखाधड़ी के एक नए मामले में मामला दर्ज किया था।

थापर को धन शोधन निवारण अधिनियम (पीएमएलए) के तहत 3 अगस्त को गिरफ्तार किया गया था, जब एजेंसी ने उन पर और उनसे संबंधित व्यवसायों के खिलाफ दिल्ली और मुंबई में छापेमारी की थी। ईडी उनकी कंपनी अवंता रियल्टी और यस बैंक के सह-संस्थापक राणा कपूर और उनकी पत्नी बिंदू के बीच कथित लेनदेन की जांच कर रहा था, कपूर और उनकी पत्नी की एजेंसी पहले से ही पीएमएलए के तहत जांच कर रही है। ईडी ने केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) द्वारा दर्ज एक प्राथमिकी का संज्ञान लेते हुए मनी लॉन्ड्रिंग का मामला दर्ज किया था।

इस खबर को अंग्रेजी में यहाँ पढ़े।

प्राथमिकी में कहा गया है कि यस बैंक के तत्कालीन एमडी और सीईओ कपूर को एआरएल को ऋण की मंजूरी देने और अवंता समूह की फर्मों को पहले से मौजूद क्रेडिट सुविधाओं में रियायतें और छूट प्रदान करने और यस बैंक लिमिटेड द्वारा उन्हें नए और अतिरिक्त ऋण देने के लिए के लिए अवंता रियलिटी लिमिटेड से संबंधित दिल्ली के एक प्रमुख स्थान पर संपत्ति उपहार स्वरूप दी गयी थी और वो भी वास्तविक बाजार मूल्य से बहुत ही कम कीमत पर।

सीबीआई ने पिछले साल कपूर और उनकी पत्नी के खिलाफ कथित तौर पर 307 करोड़ रुपये की रिश्वत लेने के लिए दिल्ली के एक इलाके में एक रियल्टी फर्म से बाजार मूल्य से आधे पर एक बंगला खरीदकर और बदले में उसे लगभग 1,900 करोड़ रुपये के बैंक ऋण की सुविधा देने के लिए मामला दर्ज किया था। सीबीआई को संदेह था कि मध्य दिल्ली में अमृता शेरगिल मार्ग पर 1.2 एकड़ के बंगले के लिए रियायती लेनदेन कपूर के लिए कंपनी ब्लिस एबोड प्राइवेट लिमिटेड के माध्यम से यस बैंक से अवंता रियल्टी और समूह कंपनीज को 1,900 करोड़ रुपये से अधिक के ऋण की वसूली न करने के बदले में एक उपहार था।

जून, 2021 में सीबीआई ने थापर और अन्य के खिलाफ सीजी पावर एंड इंडस्ट्रियल सॉल्यूशंस में कथित धोखाधड़ी के मामले की जांच के लिए भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) और अन्य बैंकों में 2,435 करोड़ रुपये की धोखाधड़ी के एक नए मामले में मामला दर्ज किया था।

[पीटीआई इनपुट्स के साथ]

संदर्भ:

[1] सीबीआई ने गौतम थापर के खिलाफ 2435 करोड़ रुपये की तीसरी बैंकिंग धोखाधड़ी का मामला दर्ज किया है! इससे पहले यस बैंक से 307 करोड़ रुपये और 466 करोड़ रुपये की धोखाधड़ी का मामला दर्ज हुआ था।Jun 25, 2021, hindi.pgurus.com

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.