प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने मोबाइल ऐप के माध्यम से तत्काल ऋण देने की धोखाधड़ी के लिए चीनी-नियंत्रित पीसी फायनेंसियल सर्विसेज के 131 करोड़ रुपये के फंड को जब्त किया

ईडी ने एनबीएफसी क्षेत्र में एक और संदिग्ध चीनी स्वामित्व वाली कंपनी का पता लगाया!

1
703
ईडी ने एनबीएफसी क्षेत्र में एक और संदिग्ध चीनी स्वामित्व वाली कंपनी का पता लगाया!
ईडी ने एनबीएफसी क्षेत्र में एक और संदिग्ध चीनी स्वामित्व वाली कंपनी का पता लगाया!

ईडी ने सूक्ष्म ऋण घोटाले में 131.11 करोड़ रुपये जब्त किए

प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने गुरुवार को विदेशी मुद्रा कानून के कथित उल्लंघन के लिए एक चीनी नागरिक के स्वामित्व वाली एनबीएफसी के 131 करोड़ रुपये से अधिक के फंड को जब्त कर लिया। यह गैर-बैंकिंग वित्तीय कंपनी (एनबीएफसी) पीसी फाइनेंशियल सर्विसेज प्राइवेट लिमिटेड है और यह संदिग्ध रूप से विदेशों में पैसा भेजने के लिए अपने मोबाइल एप्लिकेशन ‘कैशबीन/ cashBean‘ के माध्यम से तत्काल व्यक्तिगत सूक्ष्म ऋण प्रदान करने के व्यवसाय में थी। यह मामला मोबाइल ऐप के माध्यम से तत्काल व्यक्तिगत ऋण मुहैया कराने वाली कई एनबीएफसी और फिनटेक कंपनियों के खिलाफ एक अलग मनी लॉन्ड्रिंग जांच के दौरान ईडी के सामने आया था।

इन ऋणों को “उच्च ब्याज दर पर दिया जा रहा था और ग्राहक के व्यक्तिगत डेटा का अवैध रूप से उपयोग करके और कॉल सेंटरों के माध्यम से उन्हें धमकाकर और दुर्व्यवहार करके वसूला जा रहा था”। इन ऐप्स की कथित अवैधता पिछले साल कई राज्यों में रिपोर्ट की गई थी, विशेष रूप से कोविड-19 लॉकडाउन में आर्थिक समस्या के बाद कई लोगों को इन कंपनियों की जबरन वसूली और बदमाशी के कारण अपना जीवन समाप्त करने के लिए प्रेरित होना पड़ा था।

प्रवर्तन निदेशालय ने कहा – “पीसीएफएस प्रबंधन इन खर्चों के लिए कोई सार्थक जवाब देने में विफल रहा और उसने स्वीकार किया कि सभी प्रेषण भारत से बाहर धन ले जाने और इसे चीनी मालिकों द्वारा नियंत्रित समूह कंपनियों के खातों में विदेशों में जमा करने के लिए किए गए थे।”

ईडी ने एक बयान में कहा – “पीसीएफएस ओप्ले डिजिटल सर्विसेज, एसए डी सीवी, मैक्सिको की पूर्ण स्वामित्व वाली सहायक कंपनी (डब्ल्यूओएस) है, जो बदले में टेनस्पॉट पेसा लिमिटेड, हांगकांग का डब्ल्यूओएस है, जो केमैन आइलैंड्स स्थित ओपेरा लिमिटेड और विजडम कनेक्शन आई होल्डिंग इंक के स्वामित्व में है, और यह कंपनी अंततः चीनी नागरिक झोउ याहुई के स्वामित्व में हैं।” मूल भारतीय कंपनी पीसीएफएस को भारतीय नागरिकों द्वारा 1995 में स्थापित किया गया था और इसे 2002 में एनबीएफसी लाइसेंस मिला और 2018 में आरबीआई की मंजूरी के बाद इसका स्वामित्व चीनी नियंत्रित कंपनी के पास चला गया था।

इस खबर को अंग्रेजी में यहाँ पढ़े।

ईडी ने आरोप लगाया कि पीसीएफएस ने बिना किसी सॉफ्टवेयर और मार्केटिंग सेवाओं के आयात की आड़ में विदेशों में धन जमा करने और उन्हें संबंधित विदेशी कंपनियों के खातों में रखने के लिए भारत के बाहर “अवैध रूप से” बड़ी धनराशि भेजी। यह कहा गया – “इस प्रकार, पीसीएफएस ने विदेशी मुद्रा प्रबंधन अधिनियम (एफईएमए) के प्रावधानों का उल्लंघन किया है। आरबीआई को उपरोक्त उल्लंघनों के बारे में सूचित कर दिया गया है।”

ईडी ने फेमा के प्रावधानों के तहत विभिन्न बैंक और पेमेंट द्वार खातों में रखे कुल 131.11 करोड़ रुपये के फंड को जब्त किया है। इसी तरह उसने अगस्त में इसी एनबीएफसी के 106.93 करोड़ रुपये के फंड को जब्त किया था। जांच में पाया गया कि पीसीएफएस की विदेशी मूल कंपनियों ने उधार कारोबार के लिए 173 करोड़ रुपये का एफडीआई (प्रत्यक्ष विदेशी निवेश) लाया और कम समय के भीतर ही संबंधित विदेशी कंपनियों से प्राप्त सॉफ्टवेयर सेवाओं के भुगतान के नाम पर 429.29 करोड़ रुपये की रकम को विदेशों में भेजा।

“पीसीएफएस ने 941 करोड़ रुपये का बड़ा घरेलू व्यय भी दिखाया। एनबीएफसी द्वारा भुगतान किए गए विदेशी खर्चों की विस्तृत जांच से पता चला कि अधिकांश भुगतान विदेशी कंपनियों को किए गए थे, जो उन्हीं चीनी नागरिकों से संबंधित और स्वामित्व में हैं, जो ओपेरा समूह के मालिक हैं।”

यह कहा गया – “सभी विदेशी सेवा प्रदाताओं को चीनी मालिकों द्वारा चुना गया था और सेवाओं की कीमत भी उनके द्वारा तय की गई थी।” इसमें कहा गया है कि पीसीएफएस के “बनावटी” भारतीय निदेशकों द्वारा बिना किसी उचित परिश्रम के और देश के प्रमुख झांग होंग (जो सीधे चीनी नागरिक झोउ याहूई को रिपोर्ट करता है) के निर्देश पर अत्यधिक भुगतान की अनुमति दी गई।

एजेंसी ने कहा कि पीसीएफएस ने कैशबीन मोबाइल ऐप लाइसेंस शुल्क (प्रति वर्ष 245 करोड़ रुपये), सॉफ्टवेयर तकनीकी शुल्क (प्रति वर्ष 110 करोड़ रुपये), ऑनलाइन मार्केटिंग और एडवरटाइजिंग शुल्क (लगभग 66 करोड़ रुपये) के भुगतान की आड़ में हांगकांग, चीन, ताइवान, अमेरिका और सिंगापुर में स्थित 13 कंपनियों को 429 करोड़ रुपये की विदेशी मुद्रा भेजी। ईडी ने दावा किया – “ये सभी सेवाएं और एप्लिकेशन पीसीएफएस द्वारा खर्च की गई रकम के बहुत छोटे से हिस्से पर भारत में उपलब्ध हैं।”

इसके अलावा, एनबीएफसी के सभी ग्राहक भारत में थे, इसके बावजूद विदेशों में भारी भुगतान किया गया और सेवा की प्राप्ति का कोई सबूत नहीं है, यह कहा। ईडी ने कहा, इसी अवधि के दौरान पीसीएफएस ने समान राशि के घरेलू व्यय को अपने बहीखाते में दर्ज किया। प्रवर्तन निदेशालय ने कहा – “पीसीएफएस प्रबंधन इन खर्चों के लिए कोई सार्थक जवाब देने में विफल रहा और उसने स्वीकार किया कि सभी प्रेषण भारत से बाहर धन ले जाने और इसे चीनी मालिकों द्वारा नियंत्रित समूह कंपनियों के खातों में विदेशों में जमा करने के लिए किए गए थे।”

1 COMMENT

  1. […] प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने शुक्रवार को अवंता समूह के मालिक गौतम थापर के खिलाफ बैंकों को धोखा देकर 500 करोड़ रुपये की मनी लॉन्ड्रिंग (काले धन को वैध बनाना) करने के लिए आरोप पत्र दायर किया। प्रख्यात उद्योगपति थापर (60) को ईडी ने अगस्त में गिरफ्तार किया था और अब वह न्यायिक हिरासत में है। क्रॉम्पटन ग्रीव्स, बल्लारपुर इंडस्ट्रीज, अवंता एर्गो लाइफ इंश्योरेंस आदि जैसी कई बड़ी कंपनियों के मालिक थापर पहले से ही कई बैंकिंग संघों को धोखा देने और यस बैंक धोखाधड़ी के लिए केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) के तीन मामलों का सामना कर रहे हैं।[1] […]

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.