ईडी ने पीएमसी बैंक ऋण धोखाधड़ी से संबंधित ताजा मनी लॉन्ड्रिंग (धन शोधन) मामले में यस बैंक के सह-संस्थापक राणा कपूर को गिरफ्तार किया

ईडी ने राणा कपूर को पीएमसी बैंक से जुड़े ऋण धोखाधड़ी मामले में गिरफ्तार किया!

2
200
ईडी ने राणा कपूर को पीएमसी बैंक से जुड़े ऋण धोखाधड़ी मामले में गिरफ्तार किया!
ईडी ने राणा कपूर को पीएमसी बैंक से जुड़े ऋण धोखाधड़ी मामले में गिरफ्तार किया!

ईडी ने ताजा धन शोधन मामले में राणा को गिरफ्तार किया

प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने यस बैंक के मुख्य मालिक राणा कपूर को महाराष्ट्र के पंजाब और महाराष्ट्र कोऑपरेटिव बैंक (पीएमसी) में 4,300 करोड़ रुपये की धोखाधड़ी से संबंधित मनी लॉन्ड्रिंग (काले धन को वैध बनाना) मामले में गिरफ्तार किया है। राणा कपूर (63) पहले से ही न्यायिक हिरासत में हैं क्योंकि उन्हें पिछले साल मार्च में एजेंसी द्वारा वित्तीय अनियमितताओं और कई हाई-प्रोफाइल कर्जदारों को कर्ज आवंटित करने के एवज में उन्हें और उनके परिवार के सदस्यों को रिश्वत के भुगतान किए जाने के मामले में गिरफ्तार किया गया था।

उन्हें धन शोधन निवारण अधिनियम (पीएमएलए) के प्रावधानों के तहत गिरफ्तार किया गया है। कपूर को बाद में उनके खिलाफ दायर दूसरे मनी लॉन्ड्रिंग मामले में एक विशेष पीएमएलए अदालत के समक्ष पेश किया गया जिसने उन्हें 30 जनवरी तक ईडी की हिरासत में भेज दिया। ताजा मामला पीएमसी बैंक में ऋण धोखाधड़ी से संबंधित है, जिसमें ईडी ने महाराष्ट्र के एक विधायक और बहुजन विकास अगाड़ी (बीवीए) पार्टी के प्रमुख हितेंद्र ठाकुर द्वारा संचालित पालघर जिले और मुंबई के वसई-विरार क्षेत्रों में स्थित विवा समूह (Viva Group) के परिसरों पर पिछले सप्ताह छापा मारा था।

एजेंसी ने कहा कि वाधवानों ने मैक स्टार के एसोसिएशन के अनुच्छेद का उल्लंघन करते हुए इन संपत्तियों को विवा समूह को “अवैध रूप से स्थानांतरित” कर दिया था।

ईडी ने हाउसिंग डेवलपमेंट इन्फ्रास्ट्रक्चर लिमिटेड (एचडीआईएल), उसके मालिकों राकेश कुमार वधावन, उनके बेटे सारंग वधावन, बैंक के पूर्व अध्यक्ष वर्यम सिंह और पूर्व प्रबंध निदेशक जॉय थॉमस के खिलाफ पंजाब और महाराष्ट्र कोऑपरेटिव बैंक (पीएमसी) में कथित ऋण धोखाधड़ी की जांच के लिए अक्टूबर, 2019 में मनी लॉन्ड्रिंग का आपराधिक मामला दर्ज किया था।

इस खबर को अंग्रेजी में यहाँ पढ़े।

ईडी, यस बैंक द्वारा मैक स्टार मार्केटिंग प्राइवेट लिमिटेड नामक कंपनी को स्वीकृत 200 करोड़ रुपये के ऋण के लिए कथित रूप से “घपलेबाजी” करने के मामले में विवा समूह, कपूर और वधावन की भूमिका की जांच कर रही है। ईडी के अधिकारियों ने कहा कि – “वधावन ने इस ऋण को काल्पनिक उद्देश्य के लिए दिखाकर धोखाधड़ी की है।”

ईडी ने कहा – “यह पाया गया है कि वाधवानों ने अवैध रूप से और धोखे से कैलेडोनिया बिल्डिंग, अंधेरी ईस्ट (मुंबई) में मैक स्टार की दो व्यावसायिक संपत्तियों को विवा समूह की एक कंपनी विवा होल्डिंग को हस्तांतरित किया, जिसकी कीमत 34.36 करोड़ रुपये थी।”

ईडी ने कहा – “बिक्री समझौतों में, मेक स्टार मार्केटिंग प्राइवेट लिमिटेड को विवा होल्डिंग द्वारा 37 चेकों के रूप में दी गई राशि का भुगतान दिखाया गया था। जांच में पता चला है कि ये चेक मैक स्टार के खाते में कभी भी जमा ही नहीं किए गए और विवा होल्डिंग ने इस संपत्ति को खरीदने के लिए कभी भी भुगतान नहीं किया था।”

एजेंसी ने कहा कि वाधवानों ने मैक स्टार के एसोसिएशन के अनुच्छेद का उल्लंघन करते हुए इन संपत्तियों को विवा समूह को “अवैध रूप से स्थानांतरित” कर दिया था। एजेन्सी ने कहा – “विवा होल्डिंग ने कभी भी अपनी बैलेंस शीट में इन संपत्तियों को नहीं दिखाया।”

2 COMMENTS

  1. […] की। थापर पर पहले से ही यस बैंक के मालिक राणा कपूर के साथ दिल्ली में फर्जी जमीन खरीद का […]

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.