अंत में राफेल फाइटर जेट भारत उतरे हैं – कांग्रेस शासन से लेकर भाजपा शासन तक सौदे की गाथा

पहले पाँच राफेल जेट भारत आने के साथ ही विमानों की फ्रांस से भारत तक की शिपमेंट आज से शुरू हुई!

0
585
पहले पाँच राफेल जेट भारत आने के साथ ही विमानों की फ्रांस से भारत तक की शिपमेंट आज से शुरू हुई!
पहले पाँच राफेल जेट भारत आने के साथ ही विमानों की फ्रांस से भारत तक की शिपमेंट आज से शुरू हुई!

आखिरकार, फ्रांस से पांच राफेल लड़ाकू जेट विमानों का पहला जत्था बुधवार दोपहर भारत में उतरा। राफेल सौदा 14 साल की एक बहुत लंबी कहानी है, जिसमें कांग्रेस शासन के 126-फाइटर जेट खरीद के सबसे-भ्रष्ट सौदे से लेकर बीजेपी शासन के 36 फाइटर जेट्स तक के सौदे शामिल हैं। इन सभी वर्षों में भ्रष्टाचार के बहुत से आरोपों को देखा गया है। राजनीतिक तनातनी के चलते, यह सौदा सुप्रीम कोर्ट तक चला गया और आखिरकार मंजूरी मिली। यहाँ हम राफेल गाथा की पूरी समयरेखा (टाइमलाइन) को सामने लाये हैं।

कांग्रेस शासन के दौरान राफेल सौदा

2006 में, भारतीय वायु सेना (आईएएफ) के आधुनिकीकरण के हिस्से के रूप में, रक्षा मंत्रालय ने 126 लड़ाकू विमानों, जिन्हें मीडियम मल्टी-रोल कॉम्बेट एयरक्राफ्ट (एमएमआरसीए) के रूप में जाना जाता है, की खरीद के लिए एक निविदा जारी की थी। 126 जेट क्यों? उत्तर सरल है – अधिक मात्रा, अधिक कमीशन। फ्रांसीसी कंपनी डसॉल्ट की राफेल और यूरोकॉप्टर की टाइफून मुख्य प्रतियोगी थे। बहस करने का कोई मतलब नहीं है कि कौन सा अच्छा है। दोनों पक्षों के पास वैध तर्क थे। परंपरागत रूप से भारतीय वायुसेना के लड़ाकू विमान सोवियत संघ और फ्रांस से हैं और भारत को पाकिस्तान और चीन द्वारा इस्तेमाल की जाने वाली मशीनों से बचना है। सोवियत संघ के विघटन के बाद, फ्रांस भारत को विमानों का मुख्य आपूर्तिकर्ता है और यह सर्वविदित है कि फ्रांसीसी वायु और परमाणु आपूर्ति में भारत के साथ अच्छे संबंध रखते हैं, और उनकी काफी भीतर तक गहरी पैंठ है।

सभी सामान शामिल करने के बाद पूरे मूल्य निर्धारण की संरचना बदल गई। यह हंसी की बात है कि कांग्रेस अब अपने निरस्त सौदों के 2006 के मूल्य निर्धारण और 2016 के मूल्य निर्धारण के बारे में दावा कर रही है।

राफेल का भारतीय साझेदार कोई और नहीं बलके मुकेश अंबानी थे और टाइफून गेम हार गया। टाइफून की दरें तय थीं और राफेल की दरें परिवर्तनशील थीं। हालांकि टायफून की कुल दरें कम थीं (निश्चित मूल्य निर्धारण), राफेल को सबसे कम (एल1) के रूप में चुना गया था। इस सौदे में एक मनगढंत कहानी भी थी। राफेल 18 जेट की सीधे आपूर्ति करेगा और 108 राफेल को भारत में सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रम (पीएसयू) कंपनी हिंदुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड (एचएएल) के साथ मिलकर ऑफसेट पार्टनर मुकेश अंबानी की कंपनियों के साथ तैयार (असेंबल) किया जाएगा। मुकेश अंबानी ने भी घोषणा कर दी कि उनकी रक्षा कंपनियाँ इस सौदे को अंजाम देगीं। इसके लिए, रिलायंस की छह रक्षा कंपनियां भी बना दी गईं। हालांकि 2006 की दरों के अनुसार सौदा मूल्य केवल 7.3 बिलियन डॉलर था, लेकिन यह व्यापक रूप से ज्ञात था कि जैसा कि यह एक परिवर्तनशील मूल्य मॉडल था, यह बहुत अधिक हो जाएगा। और यह याद रखना चाहिए कि यह सौदा सिर्फ लड़ाकू जेट की दर पर था, कई उन्नत सहायक उपकरणों के बिना।

उन दिनों डसॉल्ट आर्थिक रूप से मंद कंपनी थी और प्रति वर्ष केवल 11 राफेल जेट की उत्पादन क्षमता रखती थी। उस समय राफेल ने केवल चार देशों जैसे स्वदेश फ्रांस, कतर, लीबिया और अल्जीरिया का इस्तेमाल किया था। जर्मनी सहित कई यूरोपीय देशों में टाइफून का व्यापक रूप से उपयोग किया जाता है और इसका एक बड़ा ग्राहक आधार है। लेकिन भारत में, यूरोकॉप्टर, कई यूरोपीय कंपनियों के संघ में फ्रांसीसी फर्म डसॉल्ट जैसी दूतावास आधारित सांठगांठ का अभाव है, डसॉल्ट में फ्रांसीसी सरकार भी एक शेयरधारक है।

इस खबर को अंग्रेजी में यहाँ पढ़े।

उस समय सोनिया गांधी के नेतृत्व वाले कांग्रेस शासन को सभी तरह के भ्रष्टाचार के आरोपों का सामना करना पड़ रहा था, जब 2012 में राफेल के लिए पहली बार सौदे को अंतिम रूप दिया गया था। विपक्षी नेताओं सुब्रमण्यम स्वामी और यशवंत सिन्हा द्वारा शिकायत मिलने पर रक्षा मंत्री एके एंटनी द्वारा इस सौदे को रोक दिया गया था। स्वामी ने सोनिया गांधी और उनकी बहनों पर तत्कालीन फ्रांसीसी राष्ट्रपति निकोलस सरकोजी की पत्नी कार्ला ब्रूनी, जो खुद एक इतालवी हैं, से 20% कमीशन प्राप्त करने का आरोप लगाया। अपनी शिकायत में, स्वामी ने दस्तावेजों की एक श्रृंखला प्रस्तुत करते हुए बताया कि सबसे कम लागत समाधान के रूप में राफेल का चयन गलत था, और वास्तविक सबसे कम लागत टाइफून की थी। स्वामी की शिकायत के आधार पर, एंटनी ने जांच का आदेश दिया, जिससे आखिरकार सौदा समाप्त हो गया। यशवंत सिन्हा की शिकायत राफेल के पक्ष में चयन प्रक्रिया में संदिग्ध गतिविधियों पर थी। चूंकि लोकसभा चुनाव निकट थे और कांग्रेस हर क्षेत्र में भ्रष्टाचार के हमलों का सामना कर रही थी, राफेल सौदा सचमुच में खत्म हो गया था और डसॉल्ट का भुगतान करने के लिए कोई बजट आवंटन नहीं हुआ था। राफेल निर्माता डसॉल्ट से हारने के बाद, प्रतियोगी टायफून के निर्माता यूरोकॉप्टर ने अपना भारत स्थित कार्यालय बंद कर दिया। इसके अलावा, 2013 के अंत तक, अंबानी बंधुओं की सुलह के कारण, मुकेश अंबानी ने रक्षा क्षेत्र अनिल अंबानी को सौंप दिया[1]

बीजेपी शासन के दौरान राफेल सौदा

जब नरेंद्र मोदी प्रधानमंत्री बने, तो फ्रांसीसी अधिकारियों ने फिर से बातचीत शुरू की। यह स्पष्ट था कि राफेल के नए साथी अनिल अंबानी भी सौदे के पुनः विचार के लिए जोर दे रहे थे। 2015 में फ्रांस की अपनी यात्रा के दौरान, मोदी ने कांग्रेस शासन के दौरान हुए पुराने सौदे को रद्द करते हुए एक नए राफेल सौदे की घोषणा की। नए सौदे में, केवल 36 जेट सीधे उड़ान भर सकने (फ्लाई-बाय) की स्थिति पर खरीदे गए। सभी सामान शामिल करने के बाद पूरे मूल्य निर्धारण की संरचना बदल गई। यह हंसी की बात है कि कांग्रेस अब अपने निरस्त सौदों के 2006 के मूल्य निर्धारण और 2016 के मूल्य निर्धारण के बारे में दावा कर रही है।

सौदे में आलोचना का एकमात्र बिंदु एक ऋण के बोझ तले दबे अनिल अंबानी की ऑफसेट भागीदार के रूप में फर्मों की भूमिका थी। उनकी कंपनियों को लगभग 1,000 करोड़ रुपये का ऑफसेट उद्यम मिलेगा। लेकिन क्या वह इन उपक्रमों को अंजाम दे सकते हैं यह एक बड़ा सवाल है, क्योंकि उनकी कई कंपनियाँ अब डूब चुकी हैं और अनिल खुद बैंकों से बड़े कर्जों के मामलों का सामना कर रहे हैं। कई उद्योगपतियों का कहना है कि अपने पहले अधिकार का इस्तेमाल करते हुए मुकेश अंबानी, अनिल की कंपनियों का अधिग्रहण कर सकते हैं।

अब पांच राफेल फाइटर जेट्स का पहला बैच भारत में उतरा है। कार्यक्रम के अनुसार, शेष 31 जेट्स हर चार महीने में चार से पांच के बैच में आयेंगे और अंतिम भुगतान 2022 तक समाप्त होने की उम्मीद है।

संदर्भ:

[1] राफेल सौदे की अनकही कहानियां और आरोपों की एक तथ्य जांचSep 25, 2018, hindi.pgurus.com

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.