तिरुमाला मुद्दा – आगे का रास्ता…. भाग 2

लेखक तिरुमाला आगे बढ़ने के लिए धार्मिक प्रमुखों को एक साथ कैसे आना चाहिए इस बारे में एक उत्कृष्ट सुझाव देता है

0
1192
तिरुमाला मुद्दा - आगे का रास्ता
तिरुमाला मुद्दा - आगे का रास्ता

इस श्रृंखला का पहला भाग यहां ‘पहुंचा जा सकता है’। यह भाग 2 है

क्या हिंदू समाज को आरोपों से जुड़े तथ्यों को नहीं जानना चाहिए? हम क्या कर रहे हैं? क्या हम अदालतों को हमारे अनुष्ठानों पर फैसला करने की अनुमति देकर छुप बैठे रहे हैं? सर्वोच्च न्यायालय के न्यायधीश समुदाय (बेंच) के माननीय न्यायाधीशों को अपने मंदिरों के पवित्र अनुष्ठानों में दखल देकर खुद को कंगारू अदालत बरामदा नहीं बनाना चाहिए; किस प्रकार के पुजा की जानी चाहिए ; प्रत्येक पूजा का समय और अवधि; प्रसाद;  उचित सेवों में और ब्रह्मोत्सव सहित अन्य उत्सवों पर किस तरह के गहने पहनाये जाने चाहिए; इत्यादि। यह सारे निर्णय शिक्षित अर्चक और उनके आचार्यों के लिए छोड़ देना ही सही है। क्या हमें तिरुमाला के लिए एक और गोपाल सुब्रमण्यम कानूनी सलाहकार चाहिए? अब न्यायाधीश बेंच के बजाय अपनी पीठ को थप्पथप्पा रहे होंगे क्योंकि उन्होंने सफलतापूर्वक इसे उनके सीवी में धार्मिक अनुभव के रूप में जोड़ा है। त्रिवेंद्रम, पुरी, संभवतः तिरुपति। कुछ बाकी रह गया?

एक व्यक्ति है जिन पर हिन्दू समाज वास्तव में इस मुद्दे पर भरोसा कर सकता है तो वे डॉ सुब्रमण्यम स्वामी हैं। सर्वोच्च न्यायालय में कानूनी रूप से लड़ने के अलावा, मेरी उनसे प्रार्थना है कि वे इस तथ्य-खोज और क्रियाकलापों के सुधार के लिए आचार्यों को एक साथ लाने पर विचार करें।

मेरे पास हिंदू समाज के लिए आगे बढ़ने के लिए निम्नलिखित प्रस्ताव है और जैसा कि मैं इसे देख रहा हूँ:

* विभिन्न मठाधिपतियों  को तुरंत आगे आना चाहिए और एक समिति बनाना चाहिए। यह एक निर्णायक सूची नहीं है। लेकिन मैं प्रस्ताव करता हूँ, तिरुपति जीयर, अहोबिला मठ अयगिया सिंगर, द त्रिदंडी जीयर, द अंडवार, द पेजवार स्वामीजी, द हथिरम मठ स्वामीजी आदि, समिति के सदस्य बनने चाहिए। तिरुपति जीयर इस मामले में टीटीडी और सरकार का पक्ष ले चुके हैं यह उनके बयान को देखकर स्पष्ट होता है। लेकिन श्रीमद रामानुजा द्वारा स्थापित मठ के प्रमुख होने के नाते अब उन्हें यह समझाने का समय है कि वे तथ्यों को खोजने वाले दिव्य प्रयास से बाहर ना रहें, जो सच्चाई को कल्पना से अलग करने का प्रयास है।

* कल्पना कीजिए कि वर्तमान कांची आचार्य और श्रिंगेरी आचार्य इस में शामिल होने के लिए सहमत हैं? पूरा मुद्दा तेज़ी से आगे बढ़ेगा। आखिरकार, श्री आदि शंकराचार्य ने भज गोविंदम, करवलम्बा स्ट्रोट्राम, कनकधारा स्ट्रोट्राम इत्यादि गाए, और इन आचार्यों के लिए, नारायणस्मृति भी सामान्य है।

इस समिति को क्या करना चाहिए ?:

1) प्रत्येक को अपने लेखा परीक्षकों (ऑडिटर) भक्त / उनके मठ के अनुयायियों के 3 या 4 नामों का प्रस्ताव देना चाहिए। इसके अलावा, वे दल को पूरा करने के लिए प्रत्येक 4 सक्षम हिंदू आभूषण निर्धारकों का प्रस्ताव देंगे।

2) उन्हें एक संयुक्त घोषणा द्वारा घोषित करना चाहिए कि यह दल मंदिर में आभूषण लेखा परीक्षा करेगा। इस तरह के एक संयुक्त वक्तव्य के स्रोत को ध्यान में रखते हुए, सरकार और टीटीडी को स्वीकार करने के अलावा कोई विकल्प नहीं रह जाएगा।

3) आचार्यों को व्यक्तिगत रूप से अनुष्ठानों में भाग लेना चाहिए। केवल उनके पास संबंधित लोगों को बुलवाने, जांच करने, प्रश्न करने और इस मामले की सच्चाई का पता लगाने का अधिकार है। आचार्यों को टीटीडी प्रबंधन को स्पष्ट करना चाहिए कि अनुष्ठान, समय, उत्सव, नैवेद्यम आदि पर निर्णय लेने का उसे कोई अधिकार नहीं है।

4) आचार्य समिति फिर जनता को उनके निष्कर्षों को बताएंगे और अनुष्ठानों में गैर हस्तक्षेप और आभूषणों के वार्षिक लेखापरीक्षा को सुनिश्चित करने के लिए मार्गदर्शन करेंगे।

आभूषण लेखा परीक्षा के लिए आधार रेखा क्या होनी चाहिए?

प्रधान अर्चक ने कहा कि प्रधान अर्चकों द्वारा आखिरी लेखापरीक्षा लगभग 22 साल पहले की गयी थी। वह सूची आदर्श रूप से शुरुआती बिंदु बन सकती है। उसके बाद से भगवान को दान और अर्जित किए गए सभी जवाहरात को जोड़ा जाना चाहिए और एक एक आभूषण की जांच करनी चाहिए और उसकी वास्तविकता दर्ज की जानी चाहिए। डिजिटलीकरण की इस युग में, प्रत्येक आइटम को डिजिटलीकृत किया जाना चाहिए और दान के विवरण और अन्य विवरणों के साथ डिजिटल रिकॉर्ड के रूप में संग्रहित किया जाना चाहिए। आज, यह निश्चित नहीं है कि वास्तविक गहने तहखाने में लौटा दिए गए हैं या असली गायब हो गए है और उनके स्थान पर नकली रख दिए गए हैं।

यह समय है जब मैं चाहता हूँ कि पूज्य स्वामी दयानंद सरस्वती जीवित होते। हिंदू धर्म आचार्य सभा के नाम पर सभी आचार्यों, आधीनमों और मंडलेश्वरों को एक छत के नीचे लाने के उनके महान कार्य ने ही हमारे मंदिरों से संबंधित मुद्दों , सख्त रूपांतरणों के खतरे का मुकाबला किया, गौ संरक्षण आदि पर सर्वसम्मति द्वारा निर्णय लाया। सरकारों के राक्षसी नियंत्रण से हिंदू मंदिरों को छुड़वाने का उनका मामला सर्वोच्च न्यायालय के समक्ष अब भी लंबित है। अगर वह जीवित होते, तो मैं इस लेख को लिखने के बजाय उसके पास पहुंचा होता।

लेकिन, अगर एक व्यक्ति है जिन पर हिन्दू समाज वास्तव में इस मुद्दे पर भरोसा कर सकता है तो वे डॉ सुब्रमण्यम स्वामी हैं। सर्वोच्च न्यायालय में कानूनी रूप से लड़ने के अलावा, मेरी उनसे प्रार्थना है कि वे इस तथ्य-खोज और क्रियाकलापों के सुधार के लिए आचार्यों को एक साथ लाने पर विचार करें। इस मुद्दे में आचार्यों को नेतृत्व की भूमिका निभाने के लिए अकेले वे ही मना सकते हैं। परमाचार्य के प्रति उनकी गुरुभक्ति अद्वितीय है।

आचार्यों की सुझाई गई समिति लंबे समय तक सनातन धर्म के उद्देश्य की सेवा करेगी, क्योंकि यह समिति संबंधित मंदिर क्षेत्रों से आचार्य और साधुओं के जुड़ने के बाद, मार्गदर्शक मंडल भी हो सकती है यदि और जब सरकारें हमारे मंदिरों से बाहर हो जाती हैं।

हिंदू समाज सिद्धांतविहीन है। जिन नेताओं पर हम विश्वास करते थे और सत्ता में लाए थे वे वंशानुगत छद्म-धर्मनिरपेक्षता की पीढ़ियों की तुलना में अधिक छद्म-धर्मनिरपेक्ष बन गए हैं। राजनेता और भक्ति-कम नौकरशाहों, जिनमें से कुछ ने हमारे मंदिर प्रशासन को रेगिस्तानी संप्रदायों के अनुयायियों से भर दिया, वे हमारे मंदिरों को चलाने के लिए सक्षम नहीं हैं। उन्होंने हमारे मंदिरों को बर्बाद कर दिया है। यह आचार्यों का अधिकार क्षेत्र है। राजनेताओं का नहीं। अदालत नहीं ना ही रेगिस्तानी पंथ। आचार्यों को अपने हाथों में नियंत्रण रखना चाहिए।

क्या इसके लिए तिरुपति से कोई बेहतर प्रारंभ क्षेत्र हो सकता है?

(मैंने टीटीडी में एक बहुत ही वरिष्ठ अधिकारी से बात की थी, जो सेवानिवृत्त हो चुके हैं। वह साढ़े पांच दशकों पहले तिरुपति के केन्द्रीय विद्यालय में मेरी शिक्षा के दौरान मेरे सहपाठी थे। उन्होंने मुझे बताया कि कई साल पहले जब एक आचार्य ने कुछ अनियमितताओं पर टीटीडी से सवाल किये थे, तो उन्होंने उनसे भेट करके और संक्षेप में ए-ला-डॉन कोरलोन के भांति आचार्य को याद दिलाया कि उनके पास तिरुमाला में एक मठ है। उन्हें टीटीडी के वरिष्ठ अधिकारियों के समर्थन की आवश्यकता होगी। उन्हें यह भी बताया गया था कि उन्हें महाधवराम में मंदिर द्वारा दिए जानेवाले सम्मान मिलेंगे और गर्भगृह  में केवल साल में एक बार उनके आदेशों के अनुसार और यह भी कम किया जा सकता है! टीटीडी इसी प्रकार संचालित करता है)।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.