कपिल सिब्बल एक नकली समाचार फैलाने वाले या बे-सिर पैर की बातें बांचने वाले में बदल रहे हैं?

कपिल सिब्बल के पूर्व राॅ कांस्टेबल की मदद से जाली नोट जालसाजी में दिए गए अंक सही नहीं है।

0
497
कपिल सिब्बल के पूर्व राॅ कांस्टेबल की मदद से जाली नोट जालसाजी में दिए गए अंक सही नहीं है।
कपिल सिब्बल के पूर्व राॅ कांस्टेबल की मदद से जाली नोट जालसाजी में दिए गए अंक सही नहीं है।

पिछले कुछ महीनों से कांग्रेस नेता और जाने माने वकील कपिल सिब्बल लंबी कहानियों पर प्रेस कॉन्फ्रेंस करने में लगे हुए हैं। हालिया है, तीन लाख करोड़ रुपए के नए नोटों को विदेशों में छपवाने और उन्हें वायुसेना के विमान द्वारा भारत लाने की बात जो विश्वास न करने योग्य है! सिब्बल ने एक पूर्व “रॉ फील्ड असिस्टेंट” के दावों का हवाला देते हुए यह अत्याचारपूर्ण आरोप लगाया।

रॉ व्यक्ति एक कांस्टेबल था

सिब्बल के झूठ का खुलासा भारतीय जासूस एजेंसी रिसर्च एंड एनालिटिकल विंग (RAW) ने किया, जिसमें कहा गया कि नाटकीय प्रेस कॉन्फ्रेंस में जिस संबंधित व्यक्ति का जिक्र किया गया, वह एजेंसी का एक निष्कासित कांस्टेबल था। केंद्रीय जांच ब्यूरो (CBI) ने उन्हें नोटबन्दी के दौरान पुराने नोटों के आदान-प्रदान के बारे में लोगों से झूठे वादे करने का दोषी पाए जाने के बाद राहुल रथरेकर को रॉ से हटा दिया गया था। इस व्यक्ति को 2012 में संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन (यूपीए) के कार्यकाल के दौरान एक कॉन्स्टेबल के रूप में रॉ में भर्ती किया गया था और नवंबर 2017 में दिल्ली में कई व्यापारियों के साथ पुराने नोट बदलने संबंधित सौदों में पकड़े जाने के बाद निष्कासित किया गया था।

श्री सिब्बल, आप सुप्रीम कोर्ट के नामित वरिष्ठ वकील हैं। आपको उन कहानियों को बताना बंद कर देना चाहिए जो बेबुनियाद हैं।

कपिल सिब्बल के आरोपों में कोई दम नहीं है। प्रेस कॉन्फ्रेंस में, उन्होंने दावा किया कि भाजपा के शीर्ष नेतृत्व और पीएमओ की मिलीभगत से, 3 लाख करोड़ रुपये विदेश में छापे गए और वायु सेना के विमान का उपयोग कर भारत में लाये गए।

सिब्बल के दावे की तथ्यात्मक जाँच

हम गणना करते हैं। 2000 रुपये के नोट के 1 करोड़ रुपये का वजन लगभग पांच किलोग्राम है। इसलिए तीन लाख करोड़ का वजन (3,00,000 × 5 किलोग्राम) या 1500 टन होगा।

भारतीय वायु सेना (IAF) का सबसे बड़ा परिवहन विमान बोइंग का ग्लोब मास्टर है और इसकी वहन करने की क्षमता 78 टन है। इसलिए 1500 टन वजन के नोट (2000 रुपये का नोट का अंकित मूल्य है) को ग्लोब मास्टर का उपयोग करने पर 19 से 20 बार में लाना होगा। सिब्बल, क्या भारत जैसे देश में इतने बड़े ऑपरेशन को गुप्त रखा जा सकता है? भारतीय वायुसेना ने पहले ही इन आरोपों को खारिज कर दिया है।

कई खुफिया एजेंसी के लोगों का मानना है कि कॉन्स्टेबल ने सिब्बल से मुलाकात की ताकि रॉ के खिलाफ उसकी बर्खास्तगी को लेकर मुकदमा दर्ज किया जा सके और सिब्बल ने उसकी सेवाओं का इस्तेमाल चुनावी मौसम में उपभोग के लिए नकली कहानी बनाने के लिए किया।

श्री सिब्बल, यह पहली बार नहीं है जब आप ऐसी बे-सिर पैर की कहानियाँ बता रहे हैं। कुछ महीने पहले आपको भारत में रहने वाले भारतीय पत्रकारों के नाम से संदिग्ध इकाई द्वारा आयोजित इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन (ईवीएम) हैकिंग पर एक संवाददाता सम्मेलन के लंदन स्थल पर देखा गया था[1]। यह संगठन एक पत्रकार आशीस रे के नेतृत्व में है, जो कांग्रेस के साथ अपने संबंधों के लिए जाना जाता है और कांग्रेस और जवाहरलाल नेहरू का समर्थन करने के लिए नेताजी सुभाष चंद्र बोस की मौत के रहस्य के बारे में झूठ फैलाने के लिए पकड़ा गया था।

कुछ हफ्ते पहले सिब्बल पूर्वी यूरोप आधारित एक वेबसाइट पर एक और झूठ बोल रहे थे, जिसे कांग्रेस की विदेशी विंग द्वारा वित्त पोषित किया गया था। कांग्रेस समर्थक टीवी चैनल तिरंगा टीवी (जिसे पहले हार्वेस्ट टीवी के नाम से जाना जाता था) के वित्त पोषण के बाद, ऐसा लगता है कि सिब्बल नकली कहानियों और फर्जी स्टिंग ऑपरेशन में रुचि रखते हैं[2]। सिब्बल तहलका मैगज़ीन के कई स्टिंग ऑपरेशन के शुभचिंतक थे, तहलका जो अपने संस्थापक तरुण तेजपाल को एक कनिष्ठ सहकर्मी का यौन शोषण करने के लिए पकड़े जाने के बाद अब बाज़ार में नहीं दिख रही है। तहलका की कंपनी के रिकॉर्ड बताते हैं कि सिब्बल ने उसके शुरुआती दौर में तहलका को पैसे दान किए थे।

इस खबर को अंग्रेजी में यहाँ पढ़े।

श्री सिब्बल, आप सुप्रीम कोर्ट के नामित वरिष्ठ वकील हैं। आपको उन कहानियों को बताना बंद कर देना चाहिए जो बेबुनियाद हैं। कभी-कभी हमें मोहनदास गांधी से सहमत होना पड़ता है जब उन्होंने कहा कि एक वकील का पेशा एक झूठे का पेशा है, सिब्बल की नवीनतम चालों को देखते हुए।

References:

[1] Congress distances itself from London presser on EVM hackingJan 22, 2019, The Times of India

[2] कांग्रेस नेताओं ने जल्द ही आने वाले हार्वेस्ट टीवी का समर्थन किया। कपिल सिब्बल और आरोपी चिदंबरम मुख्य समर्थक हैंDec 18, 2018, Hindi.PGurus.com

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.