मुखबिर ने टाइम्स ऑफ इंडिया समूह पर पिछले दो दशकों से विज्ञापन से अर्जित 28,000 करोड़ रुपये की आय पर कर भुगतान नहीं करने का आरोप लगाया। ‘ब्रांड कैपिटल’ घोटाले का खुलासा

विभिन्न जांच एजेंसियों को लिखे पत्र में मुखबिर ने टाइम्स ऑफ इंडिया समूह पर 28,000 करोड़ रुपये की आय में कर चोरी का आरोप लगाया!

0
629
विभिन्न जांच एजेंसियों को लिखे पत्र में मुखबिर ने टाइम्स ऑफ इंडिया समूह पर 28,000 करोड़ रुपये की आय में कर चोरी का आरोप लगाया!
विभिन्न जांच एजेंसियों को लिखे पत्र में मुखबिर ने टाइम्स ऑफ इंडिया समूह पर 28,000 करोड़ रुपये की आय में कर चोरी का आरोप लगाया!

टाइम्स ऑफ इंडिया समूह पिछले दो दशकों से 28,000 करोड़ रुपये के अपने विशाल विज्ञापन संग्रह की कर चोरी के लिए कर एजेंसियों के रडार पर है। कुछ अल्प-पूँजी शेयरधारकों और एक वरिष्ठ विपणन कर्मचारी से मुखबिर बने व्यक्ति द्वारा दर्ज की गई शिकायत के अनुसार, टाइम्स ऑफ इंडिया समूह की कंपनी बेनेट और कोलमैन कंपनी लिमिटेड (बीसीसीएल) ने ब्रांड कैपिटल नामक एक आंतरिक प्रभाग का गठन किया और उसके जरिये विज्ञापन और बिकाऊ खबरों (पेड न्यूज) के लिए भारी धन एकत्र कर रहा था और इस आय को कभी भी राजस्व के रूप में नहीं दिखाया। शिकायत के अनुसार, कर का भुगतान करने से बचने के लिए 28,000 करोड़ रुपये से अधिक की एकत्रित की गई आय को दीर्घकालिक पूंजी लाभ के रूप में दिखाया गया था।

संदिग्ध ब्रांड कैपिटल आय से भारी आय दिखाने वाले दस्तावेजों की एक श्रृंखला के साथ विस्तृत शिकायत में कहा गया है कि इस संदिग्ध चाल का आविष्कार तब हुआ जब समीर जैन ने टाइम्स ऑफ इंडिया पर नियंत्रण प्राप्त कर लिया, जब उसके पिता अशोक जैन 90 के दशक के अंत में धन शोधन (मनी लॉन्ड्रिंग) और तस्करी के आरोप के मामलों की एक श्रृंखला के कारण भारत से फरार हो गए। ब्रांड कैपिटल को पहले टाइम्स प्राइवेट ट्रीटी और फिर ब्रांड इक्विटी ट्रीटीज के नाम से जाना जाता था।

शिकायतों में कहा गया है कि टाइम्स ऑफ इंडिया समूह उन कंपनियों के साथ एक समझौता करेगा, जो अपने ब्रांड निर्माण, बिक्री संवर्धन (सेल्स प्रमोशन), स्टॉक एक्सचेंज मूल्य में उतार-चढ़ाव और यहां तक कि अपने प्रतिद्वंद्वियों के खिलाफ अभियान के लिए अनुकूल समाचार प्रकाशित करने और प्रचारित करने के लिए विशेष दरों का विज्ञापन और शुल्क देना चाहते हैं। ग्रुप के अन्य मीडिया संगठन जैसे कि इकोनॉमिक टाइम्स, रेडियो मिर्ची, टाइम्स नाउ और ईटी नाउ का इस्तेमाल भी इन गुप्त संचालन उनके लिए किया जाएगा जो ब्रांड कैपिटल की शर्तों से सहमत हैं।

इस खबर को अंग्रेजी में यहाँ पढ़े।

मुखबिर द्वारा दर्ज शिकायत में कहा गया है – “इस तरह इसने अपने पूरे 28,000 करोड़ रुपये का अधिग्रहण किया और इसे निवेश के रूप में दिखाया कि यह पूरी तरह से व्यावसायिक आय है। पूर्ण विज्ञापन राजस्व को ब्रांड कैपिटल द्वारा आयोजित निवेश के रूप में दिखाया गया, जिसे पहले टाइम्स प्राइवेट ट्रीटी, ब्रांड इक्विटी ट्रिटिज जैसे विभिन्न नामों से जाना जाता था। 800 से अधिक कंपनियां हैं जिनमें ब्रांड कैपिटल ने निवेश किया है। यह निवेश इन विज्ञापनों के प्रकाशन और ब्रांड बिल्डिंग के बदले मिल रहे हैं, न कि सादे निजी इक्विटी प्रकार के निवेश में,”।

शिकायत में यह भी कहा गया है कि कभी-कभी टाइम्स ऑफ इंडिया समूह ने रियल एस्टेट कंपनियों के विज्ञापनों के लिए फ्लैट (मकान) भी स्वीकार किए हैं। शिकायत से जुड़े दस्तावेजों से पता चलता है कि लोढ़ा डेवलपर्स से टाइम्स ऑफ इंडिया समूह ने मुंबई में विज्ञापन के लिए 2007 में लगभग 10 करोड़ रुपये मूल्य के दो फ्लैट स्वीकार किए। टाइम्स ऑफ इंडिया का यह संदिग्ध सौदा लोढ़ा ग्रुप द्वारा सेबी को दी गई जानकारी और कंपनी के रजिस्ट्रार (आरओसी) को दाखिल करने पर भी दिखाई देता है। “आज की इस प्रारूप प्रारंभिक सूचीपत्र की तारीख के अनुसार, हमने महालक्ष्मी, मुंबई में स्थित लोढ़ा बेलिसिमो में एक फ्लैट बीसीसीएल को स्थानांतरित कर दिया है, जिसका मूल्य 41.8 मिलियन रुपये है और समझौते की शर्तों के अनुसार, लोढ़ा बेलिसिमो के एक अन्य फ्लैट का मूल्य 57.8 मिलियन रुपये है जिसे दिसंबर 2009 से पहले बीसीसीएल को हस्तांतरित कर दिया जाएगा,” रियल एस्टेट कंपनी द्वारा आरओसी को दी गयी जानकारी से पता चलता है। मुखबिर और कई अल्प-पूंजी शेयरधारकों द्वारा दर्ज की गई शिकायत टाइम्स ऑफ इंडिया समूह और बहुराष्ट्रीय कंपनियों सहित कई कंपनियों के बीच किए गए हजारों करोड़ रुपए के संदिग्ध सौदों को उजागर करती है।

“बीसीसीएल के फ्लिपकार्ट (Flipkart), यात्रा (Yatra), उबर(Uber), क्विकर(Quiker), इंफीबीम(Infibeam) और कई ऐसी कंपनियों में समान निवेश हैं। यह कम्पनी बहुत बड़ी अचल संपत्ति की मालिक है। 2010 से पहले के ये सभी सौदे प्रत्यक्ष वस्तु विनिमय सौदे थे जैसे कि उपरोक्त उदाहरण लोढ़ा है। बाद में, यह स्मार्ट बन गए और दो समझौते करने लगे – एक निवेश और दूसरा विज्ञापन। इसलिए इसने वास्तव में निवेश के लिए चेक काटना शुरू कर दिया, लेकिन विज्ञापन राजस्व के रूप में वही पैसा वापस आया, जो कर योग्य है,” शिकायतों का विस्तार करते हुए कि कैसे टाइम्स ऑफ इंडिया, समीर जैन और विनीत जैन द्वारा नियंत्रित समूह ने एकत्र किए गए 28,000 करोड़ रुपये के विज्ञापन राजस्व पर कर चोरी की, शिकायतकर्ता ने कहा। शिकायत में यह भी कहा गया है कि मीडिया संगठन के रूप में, टाइम्स ऑफ इंडिया समूह ने कंपनियों को अपने घटिया उपक्रम ब्रांड कैपिटल के साथ संदिग्ध सौदे करने के लिए बाध्य किया।

बीजेपी नेता सुब्रमण्यम स्वामी ने हाल ही में टाइम्स ऑफ इंडिया ग्रुप के मालिकों, जैन परिवार के खिलाफ विभिन्न एजेंसियों को एक याचिका दायर की, जिसमें बड़ी कर चोरी और फर्जी खोल कंपनियों के माध्यम से की गई मनी लॉन्ड्रिंग की जांच की मांग की गई। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और अन्य एजेंसियों को भेजी अपनी याचिका में, स्वामी ने सबसे बड़ी मीडिया कंपनी टाइम्स ऑफ इंडिया समूह के अधिकांश शेयरधारकों समीर जैन, विनीत जैन और उनकी मां इंदु जैन पर कई फर्जी खोल कम्पनियों को चलाने और अल्प-पूंजी शेयरधारकों से गुप्त तरीके से स्टॉक एक्सचेंज-लिस्टेड (सूचीबद्ध) शेयरों की संदिग्ध खरीद में लिप्त होने और बड़ी कर चोरी का आरोप लगाया। स्वामी ने जैन परिवार पर 625 करोड़ रुपये की कर चोरी करने का आरोप लगाया[1]

संदर्भ:

[1] सुब्रमण्यम स्वामी ने टाइम्स ऑफ इंडिया समूह में भारी कर उल्लंघन और धन शोधन के मामले में आयकर, ईडी, सीबीआई, सेबी और एसएफआईओ द्वारा जांच का आग्रह कियाDec 26, 2019, hindi.pgurus.com

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.