व्यापारी संघ सीएआईटी ने कहा भारत में दिवाली त्योहार की खरीदारी 1.25 लाख करोड़ रुपये के पार हुई

दीवाली त्यौहार पर बिक्री से व्यापारियों के बीच खुशी की लहर! भारत के मुसीबत के दिन बीत गए!

0
194
दीवाली त्यौहार पर बिक्री से व्यापारियों के बीच खुशी की लहर! भारत के मुसीबत के दिन बीत गए!
दीवाली त्यौहार पर बिक्री से व्यापारियों के बीच खुशी की लहर! भारत के मुसीबत के दिन बीत गए!

सीएआईटी: दिवाली त्योहारी बिक्री 1.25 लाख करोड़ के पार, पिछले 10 वर्षों में उच्चतम आंकड़ा

व्यापारी संघों ने शुक्रवार को कहा कि पूरे भारत में दिवाली त्योहार पर बिक्री 1.25 लाख करोड़ रुपये को पार कर गई है, जो दर्शाता है कि देश के बाजारों ने दो साल की सुस्ती को दूर कर लिया है। अखिल भारतीय व्यापारी संघ (सीएआईटी) ने पूरे भारत में दिवाली त्योहार की खरीदारी की होड़ के शुरुआती आंकड़ों का हवाला देते हुए बयान में कहा – “दिवाली पर बाजारों में लोगों की भीड़ खूब उमड़ी और 1.25 लाख करोड़ का बड़ा कारोबार हुआ, जो कि दिवाली के अवसर पर पिछले 10 वर्षों का रिकॉर्ड व्यापार आंकड़ा है। इस तरह की बड़ी मात्रा में खरीदारी ने व्यापार में आर्थिक मंदी को समाप्त कर दिया है, जो पिछले दो वर्षों से बाजारों में जारी थी।“

सीएआईटी ने कहा – “इसने निकट भविष्य में व्यापारिक समुदाय के बीच बेहतर व्यावसायिक संभावनाओं की लौ फिर से जगा दी है। कई मायनों में यह दिवाली पिछले सालों से बिल्कुल अलग थी और देशवासियों ने भी दिवाली का त्योहार पूरे धूम-धाम से मनाया। दिवाली के जबरदस्त कारोबार से उत्साहित देश भर के व्यापारी अब देव उत्थान एकादशी के दिन 14 नवंबर से शुरू होने वाले शादियों के सीजन की बिक्री के लिए कमर कस रहे हैं।“

इस खबर को अंग्रेजी में यहाँ पढ़े।

सीएआईटी के राष्ट्रीय अध्यक्ष बीसी भरतिया और महासचिव प्रवीण खंडेलवाल ने कहा कि इस साल के दिवाली पर्व में पूरे देश में करीब सवा लाख करोड़ रुपये का कारोबार होने का अनुमान है जो पिछले एक दशक में अब तक का रिकॉर्ड आंकड़ा है। अकेले दिल्ली में यह कारोबार करीब 25 हजार करोड़ रुपये का रहा! भरतिया और खंडेलवाल ने कहा कि इस बार देश भर के बाजारों में चीनी सामान बिल्कुल नहीं बिका और ग्राहकों का विशेष जोर भारतीय सामान की खरीद पर था, जिससे चीन को 50 हजार करोड़ से अधिक के व्यापार का सीधा नुकसान हुआ। उन्होंने कहा कि आत्मानिर्भर भारत के लिए प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी के आह्वान को मजबूत करते हुए, देश भर के व्यापारियों ने भारतीय दिवाली – स्थानीय दिवाली पूरे देश में उत्साह के साथ मनाई।

भरतिया और खंडेलवाल ने कहा कि मांग में दीवाली त्योहार की पारंपरिक वस्तुओं में ज्यादातर मिट्टी के दीये, बहुत ही आकर्षक और रंगीन सजावट वाले मिट्टी के दिये, विभिन्न प्रकार के वंदनवार, पेंडेंट, मिट्टी के डंडे, खंड से बने खिलौने, मिट्टी के सैंडल, मोमबत्तियां और सजावटी कागजी लेम्प और दीपक आदि थे, जिन्होंने छोटे कुम्हारों, शिल्पकारों, हस्तशिल्पियों को पर्याप्त व्यवसाय दिया। दूसरी ओर मिठाई, सूखे मेवे, पैक्ड नमकीन, अन्य खाद्य और पैकेज्ड आइटम, फर्निशिंग फैब्रिक, टेपेस्ट्री, फुटवियर, गिफ्ट आइटम, एफएमसीजी सामान, इलेक्ट्रिकल और इलेक्ट्रॉनिक आइटम, घड़ियां, उपभोक्ता उत्पाद, रेडीमेड गारमेंट्स, टेक्सटाइल, पैकेजिंग सामान, खिलौने, बिजली के बल्बों की सीरीज और बिजली के एलईडी बल्ब, घर की सजावट के लिए सजावटी सामान, बिल्डर हार्डवेयर, पेंट, रसोई के उपकरण, बर्तन, फर्नीचर और जुड़नार, फैशन के कपड़े, भोजन, किराना, स्टेशनरी की भी भारी मांग थी और इनका भी अच्छा कारोबार हुआ।

सीएआईटी नेताओं ने बताया कि इस साल 9000 करोड़ रुपये से ज्यादा के सोने के आभूषण और चांदी के बर्तन खरीदे गए। इस दिवाली पैकेजिंग कमोडिटी का भी 15 हजार करोड़ रुपये का बड़ा कारोबार हुआ। इस दिवाली ने देश भर के व्यापारियों को भारत में भविष्य के व्यापार के लिए नए अवसरों और शानदार संभावनाओं को देखते हुए व्यापार करने के नए तरीके अपनाने के लिए प्रेरित किया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.