इंदौर में कचरे से बनने वाली सीएनजी से हर रोज दौड़ सकेंगी 400 यात्री बसें

इंदौर जहां स्वच्छता के मामले में नंबर एक है वहीं पर्यावरण के मामले में भी पहल हुई है, चार सौ डीजल से चलने वाली बसों को सीएनजी में बदला जाएगा।

0
171
इंदौर में कचरे से बनने वाली सीएनजी से हर रोज दौड़ सकेंगी 400 यात्री बसें
इंदौर में कचरे से बनने वाली सीएनजी से हर रोज दौड़ सकेंगी 400 यात्री बसें

इंदौर शहर का स्वच्छता के क्षेत्र में नया कीर्तिमान

मध्य प्रदेश की व्यापारिक नगरी इंदौर की पहचान देश के सबसे साफ सुथरे शहर के तौर पर है, अब यह पर्यावरण के मामले में भी अपनी पहचान बनाने जा रहा है। यहां हर रोज निकलने वाले कचरे से इतनी बायो सीएनजी बनेगी कि चार सौ यात्री गाड़ियों के ईंधन के तौर पर उपयोग में लाई जा सकेगी। इंदौर वह शहर है जो स्वच्छता का खिताब हासिल करने का पंच लगा चुका है। यहां कचरा घर-घर से एकत्रित तो किया ही जाता है साथ ही उसे मौके पर ही अलग-अलग अर्थात सूखा और गीला कचरा अलग कर लिया जाता है। इसके बाद इस कचरे के शमन की प्रक्रिया होती है।

इस शहर में लगभग छह लाख घर है और एक लाख 20 हजार प्रतिष्ठान व्यावसायिक हैं और औद्योगिक संस्थान भी हैं। लगभग छह हजार टन गीला कचरा निकलता है और यही कारण है कि यहां सीएनजी प्लांट स्थापित किया गया है। अनुमान है कि इस संयंत्र से औसतन प्रतिदिन 18 हजार किलो गैस बनेगी।

नगर निगम की आयुक्त प्रतिभा पाल का कहना है कि कचरा के लिए बनाए गए संयंत्र से जहां निगम को आय होगी। वहीं इस संयंत्र से बनने वाली सीएनजी से लगभग चार सौ बसों को चलाया जा सकेगा। साथ ही इस सीएनजी की दर पांच रुपये प्रति किलो कम होगी।

उन्होंने आगे कहा कि इंदौर जहां स्वच्छता के मामले में नंबर एक है वहीं पर्यावरण के मामले में भी पहल हुई है, चार सौ डीजल से चलने वाली बसों को सीएनजी में बदला जाएगा। इससे पर्यावरण को भी लाभ होगा।

[आईएएनएस इनपुट के साथ]

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.