अगस्ता वेस्टलैंड हेलीकॉप्टर रिश्वत कांड के दोषी लियोनार्डो ग्रुप से प्रतिबंध हटाएगा भारत

प्रतिबंध हटाना आंशिक हो सकता है और सीबीआई और ईडी द्वारा हेलीकॉप्टर सौदा घोटाले में चल रही जांच जारी रहेगी!

0
801
प्रतिबंध हटाना आंशिक हो सकता है और सीबीआई और ईडी द्वारा हेलीकॉप्टर सौदा घोटाले में चल रही जांच जारी रहेगी!
प्रतिबंध हटाना आंशिक हो सकता है और सीबीआई और ईडी द्वारा हेलीकॉप्टर सौदा घोटाले में चल रही जांच जारी रहेगी!

अगस्ता वेस्टलैंड से जुड़ी इटालियन कंपनी से प्रतिबंध हटायेगा भारत

आठ वर्षों के बाद, भारत द्वारा विवादास्पद अगस्ता वेस्टलैंड निर्माण इकाई के मालिक इतालवी रक्षा समूह लियोनार्डो समूह पर से प्रतिबंध हटाए जाने की उम्मीद है। अगस्ता वेस्टलैंड की 3600 करोड़ रुपये की वीवीआईपी हेलीकॉप्टर खरीद भारत में लगभग 500 करोड़ रुपये की रिश्वत के लेनदेन के लिए पकड़ी गई थी और हेलीकॉप्टर कंपनी फिनमेकेनिका को भी इटली में कई मामलों में पकड़ा गया था और 2016 में लियोनार्डो के रूप में रीब्रांड (पुनः स्थापित) किया गया था। सूत्रों के अनुसार, इटली की कंपनी को भारत में कारोबार करने की मंजूरी देने से पहले सभी कानूनी पहलुओं पर गौर करने के लिए रक्षा मंत्रालय और कानून मंत्रालय के बीच बातचीत चल रही है।

भारतीय अधिकारियों के अनुसार, प्रतिबंध हटाने से भारत को मझगांव डॉक्स लिमिटेड (एमडीएल) में निर्माणाधीन स्कॉर्पीन पनडुब्बियों के लिए ब्लैक शार्क टारपीडो जैसी कुछ परियोजनाओं के लिए विश्व स्तरीय प्रौद्योगिकी का उपयोग करने की अनुमति मिल जाएगी। भारतीय नौसेना को अधिक मारक क्षमता के लिए इन टॉरपीडो की जरूरत है। टॉरपीडो का निर्माण लियोनार्डो समूह की सहायक कंपनियों में से एक द्वारा किया जाता है।

इस खबर को अंग्रेजी में यहाँ पढ़े।

हालांकि, प्रतिबंध हटाना आंशिक हो सकता है और केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) और प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) द्वारा हेलीकॉप्टर सौदा घोटाले में चल रही जांच जारी रहेगी, उन्होंने स्पष्ट किया। सूत्रों ने कहा, इसके अलावा, लियोनार्डो पहले के सौदों के लिए किसी भी मुआवजे का दावा नहीं कर सकता, प्रतिबंध हटाना सशर्त है।

अधिकारियों ने कहा कि प्रतिबंध हटाने के संबंध में सरकार और इटली के साथ विभिन्न स्तरों पर चर्चा चल रही है। वीवीआईपी हेलीकॉप्टर घोटाला 2010 के अंत में और 2013 की शुरुआत में इटली में हुआ था। बाद में, इतालवी सरकार ने कथित रिश्वत के संबंध में अगस्ता वेस्टलैंड के कुछ अधिकारियों को गिरफ्तार किया था। इसके बाद तत्कालीन रक्षा मंत्री एके एंटनी ने 2013 में इस सौदे को रद्द कर दिया था।

इटली के न्यायालय के फैसले में कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी और उनके राजनीतिक सचिव स्वर्गीय अहमद पटेल की 3600 करोड़ रुपये के वीवीआईपी हेलीकॉप्टर सौदे में भूमिका का खुलासा हुआ था। भारत को 2018 में दुबई से मुख्य बिचौलिए क्रिश्चियन मिशेल का निर्वासन मिला और भारत में रिश्वत वितरण को संभालने वाले राजीव सक्सेना को निर्वासित कर दिया था।

कांग्रेस नेता कमलनाथ का बेटा अभी भी एजेंसियों के रडार पर है और उनके भतीजे को एजेंसियों ने गिरफ्तार कर लिया था। तत्कालीन वायु सेना प्रमुख एसपी त्यागी को भी गिरफ्तार किया गया था और अब उन्हें मुकदमे का सामना करना पड़ रहा है। हालाँकि, भाजपा के नेतृत्व वाली सरकार ने कांग्रेस के शीर्ष स्तर तक मामले को आगे नहीं बढ़ाया और सोनिया गांधी और अहमद पटेल को समन भेजने से परहेज किया, जबकि उनकी भूमिका इतालवी न्यायालय के फैसले में विस्तृत रूप से उजागर थी।[1]

संदर्भ:

[1] सीबीआई ने अगस्ता वेस्टलैंड वीवीआईपी चॉपर घोटाले में सोनिया गांधी और अहमद पटेल सहित किसी भी राजनेता से पूछताछ क्यों नहीं की?Sep 22, 2020, hindi.pgurus.com

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.