अडानी पावर द्वारा उच्च बिजली दरों के समर्थन को रोकने के लिए जीयूवीएनएल नियामक के पास पहुँचा

अडानी पावर की संभावनाओं को बड़ा झटका हो सकता है, गुजरात सरकार के स्वामित्व वाले जीयूवीएनएल ने उच्च बिजली दरों को अस्वीकार करने के लिए नियामक से संपर्क किया है।

0
774
अडानी पावर द्वारा उच्च बिजली दरों के समर्थन को रोकने के लिए जीयूवीएनएल नियामक के पास पहुँचा
अडानी पावर द्वारा उच्च बिजली दरों के समर्थन को रोकने के लिए जीयूवीएनएल नियामक के पास पहुँचा

अडानी पावर को बड़ा झटका, गुजरात सरकार के गुजरात उर्जा विकास निगम (जीयूवीएनएल) ने अदानी पावर के आयातित कोयला आधारित मुंद्रा पावर प्लांट को उच्च टैरिफ का समर्थन वापस लेने के लिए बिजली नियामक से संपर्क किया है। जीयूवीएनएल ने गौतम अडानी के नेतृत्व वाली पावर फर्म अडानी पावर द्वारा राहत पैकेज की शर्तों का उल्लंघन किये जाने का आरोप लगाया।

जीयूवीएनएल ने निकासी होने के कारण अडानी पावर को भुगतान किए गए अतिरिक्त बिजली शुल्क के ब्याज के साथ वापसी की भी मांग की है। जीयूवीएनएल ने केंद्रीय विद्युत नियामक आयोग (सीईआरसी) को अपनी याचिका में उपभोक्ता पर आयातित कोयला लागत के बोझ को डालने वाले मुंद्रा थर्मल पावर स्टेशन को मंजूरी देने वाले 12 अप्रैल को पारित आयोग के आदेश को वापस लेने की मांग की है।

सीईआरसी ने अडानी पावर मुंद्रा और जीयूवीएनएल के बीच मूल बिजली खरीद समझौतों के लिए नए ‘पूरक समझौतों’ के माध्यम से प्रावधान करके उच्च दर को मंजूरी दी थी। अडानी पावर के मुंद्रा प्लांट ने फरवरी 2007 में गुजरात सरकार के साथ 2,000 मेगा वाट्स के दो बिजली खरीद समझौतों पर हस्ताक्षर किए थे।

गुजरात सरकार की फर्म जीयूवीएनएल ने सीईआरसी को यह घोषित करने के लिए कहा है कि अडानी पावर ने दिसंबर 2018 में हस्ताक्षरित “पूरक समझौतों” का उल्लंघन किया है और दो पूरक समझौतों को “शून्य” और “लागू नहीं करने योग्य” भी किया है। जीयूवीएनएल ने अडानी पावर पर पूरक-अनुबंध को भंग करने का आरोप लगाया है, जिसमें, उनपर हस्ताक्षर करने के बाद, उनमें से एक समझौते को समाप्त करने के लिए उच्चतम न्यायालय तक गया। जीयूवीएनएल के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि उन्होंने पूरक बिजली क्रय करार (पीपीए) के तहत अदानी पावर को संशोधित टैरिफ का 90% का भुगतान किया है।

यह सरकार के दोहन के लिए कॉर्पोरेट बैंकिंग सांठगांठ का एक उत्कृष्ट मामला है जो अंततः करदाताओं की लूट की ओर जाता है। इससे पहले एक विचित्र घटना में स्टेट बैंक ऑफ इंडिया ने स्वप्रेरणा से सुप्रीम कोर्ट को यह आश्वासन दिया कि वे बिजली कंपनियों के नुकसान के कुछ हिस्से का बोझ उठाने के लिए तैयार हैं। यह टाटा पावर, अदानी पावर और एस्सार पावर जैसी बिजली कंपनियों को बचाने का एक प्रयास था। एसबीआई सुप्रीम कोर्ट में बिजली कंपनियों का बोझ उठाने के लिए क्यों गया जबकि बैंक खुद ही अनर्जक परिस? [1]

म्पत्तियों (नॉन-परफॉर्मिंग एसेट्स / एनपीए) की अराजकता से दो-लाख करोड़ रुपये से अधिक का बोझ उठा रहा है?
घाटे में चल रही बिजली कंपनियों का बोझ उठाने के लिए एसबीआई को किसने अधिकृत किया? यह राजनेताओं, नौकरशाहों, बड़े कॉरपोरेट घरानों के साथ बैंकरों के बीच की गहरी सांठगांठ को उजागर करता है। अक्टूबर 2018 में एसबीआई के इस संदिग्ध कदम के बाद, जब गुजरात सरकार द्वारा नियुक्त उच्च शक्ति वाली समिति ने गुजरात में तीन आयातित कोयले से चलने वाले संयंत्रों को राहत देने की सिफारिश की, तो अदानी पावर का स्टॉक दोगुना से अधिक हो गया।

जिस याचिका में गुजरात सरकार को भी प्रतिवादी बनाया गया है, उसमें उल्लेख किया है कि 12 अप्रैल को सीईआरसी द्वारा जीयूवीएनएल के साथ समझौता किए जाने के बाद, 20 मई को अदानी पावर ने एक पीपीए रद्द करने के लिए उच्चतम न्यायालय के समक्ष एक आवेदन दायर किया। जीयूवीएनएल ने कहा है कि अडानी पावर ने पूरक समझौतों का उल्लंघन किया है क्योंकि उसे अपनी इकाइयों के लिए किसी पूर्वव्यापी राहत का दावा नहीं करना चाहिए था। पूरक समझौतों के अनुसार, राहत केवल 15 अक्टूबर, 2018 से उपलब्ध थी।

इस खबर को अंग्रेजी में यहाँ पढ़े।

सुप्रीम कोर्ट ने 2 जुलाई को अडानी पावर मुंद्रा को 2010 से जीयूवीएनएल के साथ पीपीए को समाप्त करने की अनुमति दे दी क्योंकि उसे गुजरात खनिज विकास निगम के नैनी ब्लॉक से समय पर कोयला आपूर्ति नहीं मिल सकी।
अदालत ने सीईआरसी को मुंद्रा संयंत्र द्वारा जीयूवीएनएल को बिजली आपूर्ति के लिए प्रतिपूरक टैरिफ तय करने के लिए भी कहा। जीयूवीएनएल ने सुप्रीम कोर्ट में एक समीक्षा याचिका दायर की है।

इन सभी कॉरपोरेट समर्थक कार्यों के बाद, अब गुजरात सरकार के जीयूवीएनएल ने अदानी पावर को अनुकूल आदेश वापस लेने के लिए नियामक से संपर्क करके अपने कदमों को सुधारने का फैसला किया है। कई जीयूवीएनएल अधिकारियों ने टीम पीगुरूज को बताया कि वे इस मामले से अवगत थे और सरकार से इस मामले में एक जांच शुरू करने की उम्मीद है।

संदर्भ:

[1] SBI to take big haircut from ailing Power Company loans? Oct 27, 2018, The Pioneer

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.