भारत-चीन वाक्-युद्ध चरम पर। गतिरोध खत्म करने की सैन्य कमांडर स्तर की वार्ता के विराम के साथ ही दोनों पक्षों ने सैनिकों की तैनाती बढ़ाई!

एलएसी पर भारत और चीन के बीच तनातनी गहराई!

1
685
एलएसी पर भारत और चीन के बीच तनातनी गहराई!
एलएसी पर भारत और चीन के बीच तनातनी गहराई!

शब्दों का युद्ध उबालपर

सैन्य कमांडर स्तर की वार्ता पर विराम लगने के साथ ही भारत और चीन के बीच वाकयुद्ध चरम पर है। चीन का दावा है कि भारत वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) पर तनाव के लिए जिम्मेदार है, का जवाब देते हुए भारत के विदेश मंत्रालय ने शुक्रवार को पलटवार करते हुए कहा कि बीजिंग द्वारा एलएसी की स्थिति को “एकतरफा बदलने” के प्रयासों के कारण स्थिति और खराब हुई है। भारत के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अनुराग श्रीवास्तव ने कड़े शब्दों में चीन को सीमा में एकतरफा बदलाव के लिए जिम्मेदार ठहराया, यह प्रतिक्रिया चीनी विदेश मंत्रालय द्वारा पूर्वी लद्दाख में सीमा स्थिति के लिए भारत को फिर से दोषी ठहराये जाने के जवाब में थी।

एमईए ने चीन की आलोचना की

उन्होंने कहा – “हमारी स्थिति बहुत स्पष्ट है और अतीत में कई बार स्पष्ट रूप से व्यक्त की गई है। पिछले छह महीनों से हमने जो स्थिति देखी है, वह चीनी पक्ष के क्रियाकलापों का परिणाम है, जिसने पूर्वी लद्दाख एलएसी पर स्थिति में एकतरफा परिवर्तन करने की चेष्ठा की है।”

दोनों देशों के बीच शब्दों का यह वार-प्रतिवार ऐसे समय में हुआ है जब भारत और चीन की सेनाएं मई की शुरुआत से पूर्वी लद्दाख में तनावपूर्ण सीमा गतिरोध में उलझी हुई हैं।

श्रीवास्तव ने कहा कि “ये कार्रवाई भारत-चीन सीमा क्षेत्रों में एलएसी पर शांति सुनिश्चित करने के लिए किये गए द्विपक्षीय समझौतों और प्रोटोकॉल का उल्लंघन है।”

श्रीवास्तव ने कहा – “हमने चीनी पक्ष के बयान पर ध्यान दिया है जिसमें कहा गया था कि चीन ‘दोनों पक्षों के बीच हुए समझौतों का कड़ाई से पालन करता है और सीमा के क्षेत्रों में बातचीत के माध्यम से शांति की रक्षा करने और सीमा मुद्दे को हल करने के लिए प्रतिबद्ध है।’ हम उम्मीद करते हैं कि चीनी पक्ष की कथनी और करनी में अंतर नहीं होगा।”

चीन ने भारत पर आरोप लगाए

चीनी विदेश मंत्रालय के एक प्रवक्ता ने गुरुवार को पूर्वी लद्दाख में सीमा गतिरोध के लिए भारत को फिर से दोषी ठहराया।

शब्दों की जंग क्यों?

हालिया वाक् युद्ध की शुरुआत तब हुई जब दो दिन पहले विदेश मंत्री एस जयशंकर ने कहा कि दोनों देशों के बीच संबंध पिछले 30 से 40 वर्षों में सबसे खराब स्थिति में हैं। उन्होंने यह भी कहा कि चीन के साथ संबंध “काफी क्षतिग्रस्त स्थिति में हैं।”

इस खबर को अंग्रेजी में यहाँ पढ़े।

लद्दाख में 1,700 किलोमीटर लंबी एलएसी पर दोनों देशों के बीच गतिरोध पर तीखा प्रहार करते हुए, जयशंकर ने कहा कि बीजिंग द्वारा एलएसी पर शांति स्थापित करने के लिए किये गए समझौतों के उल्लंघन के कारण संबंधों को “बहुत नुकसान हुआ” है। उन्होंने यह भी स्वीकार किया कि दोनों देशों के बीच विभिन्न स्तरों पर हुई बातचीत अब तक मूल मुद्दे को सुलझाने में विफल रही है, मूल मुद्दा जो कि “समझौतों का पालन नहीं किया जाना” है।

हाल ही में भारत ने प्रमुख संवेदनशील क्षेत्रों में से एक पैंगोंग झील क्षेत्र में विशिष्ट नौसैनिक कमांडो मार्कोस को तैनात करने का फैसला किया है।

चीनी का “स्पष्टीकरण”

उन्होंने ऑस्ट्रेलियाई थिंक टैंक लोवी इंस्टीट्यूट के साथ एक ऑनलाइन बातचीत में कहा कि एलएसी के लद्दाख सेक्टर में हजारों सैनिकों को लाकर समझौतों का उल्लंघन करना एक ऐसा कार्य था जिसने रिश्ते को “गंभीर रूप से क्षति पहुँचाई” है और इस कार्य के लिए चीन ने पाँच “भिन्न-भिन्न स्पष्टीकरण’ दिये हैं।

दोनों देशों के बीच शब्दों का यह वार-प्रतिवार ऐसे समय में हुआ है जब भारत और चीन की सेनाएं मई की शुरुआत से पूर्वी लद्दाख में तनावपूर्ण सीमा गतिरोध में उलझी हुई हैं। दोनों पक्षों ने सैन्य और राजनयिक वार्ता के कई दौर आयोजित किए हैं। हालांकि, अभी तक कोई सफलता नहीं मिली है।

संचार के रास्ते खुले हैं

श्रीवास्तव ने कहा कि दोनों पक्षों ने राजनयिक और सैन्य रास्तों के माध्यम से बातचीत जारी रखी है। उन्होंने कहा – “हम उम्मीद करते हैं कि आगे की चर्चा दोनों पक्षों को पश्चिमी क्षेत्र एलएसी पर सभी गतिरोध स्थानों पर शांति सुनिश्चित करने के लिए एक पारस्परिक रूप से स्वीकार्य समाधान पर एक समझौता करने में मदद करेगी और जल्द ही शांति स्थापित होगी।”

इस बीच, नवंबर में 8 वीं बैठक के बाद सैन्य कमांडर स्तर की वार्ता बंद हो गई है और ऐसी खबरें थीं कि नवंबर के अंत में 9 वीं बैठक दोनों पक्षों द्वारा गतिरोध समाप्त करने के उपायों का पता लगाने के लिए होगी[1]। हाल ही में भारत ने प्रमुख संवेदनशील क्षेत्रों में से एक पैंगोंग झील क्षेत्र में विशिष्ट नौसैनिक कमांडो मार्कोस को तैनात करने का फैसला किया है[2]

संदर्भ:

[1] भारत और चीन के सैनिकों, भारी टैंकों, और आर्टिलरी के गतिरोध वाली जगह से जल्द ही पीछे हटने पर सहमति होने की उम्मीद!Nov 12, 2020, hindi.pgurus.com

[2] भारत चीनी सीमा के सामरिक बिंदुओं पर गश्त के लिए नौसेना के उत्कृष्ट मरीन कमांडो (मार्कोस) को तैनात करेगा।Nov 28, 2020, hindi.pgurus.com

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.