भारत और चीन के सैनिकों, भारी टैंकों, और आर्टिलरी के गतिरोध वाली जगह से जल्द ही पीछे हटने पर सहमति होने की उम्मीद!

क्या भारत-चीन अप्रैल 2020 की स्थिति पर वापस लौटने के लिए सहमत हो रहे हैं? वार्ता से यह संकेत मिला!

1
456
क्या भारत-चीन अप्रैल 2020 की स्थिति पर वापस लौटने के लिए सहमत हो रहे हैं? वार्ता से यह संकेत मिला!
क्या भारत-चीन अप्रैल 2020 की स्थिति पर वापस लौटने के लिए सहमत हो रहे हैं? वार्ता से यह संकेत मिला!

भारत और चीन एलएसी से पीछे हटने के लिए तीन चरणों की प्रक्रिया के लिए सहमत हो सकते हैं!

सीमावर्ती मुद्दों पर छह महीने तक चलने वाली तनातनी और शीर्ष-कमांडर स्तर की वार्ता की श्रृंखला के बाद, भारत और चीन वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) के गतिरोध (स्टैन्ड ऑफ) वाले क्षेत्रों से टैंकों और भारी टैंकों को वापस लेने के लिए सहमत होते नजर आ रहे हैं। उच्च पदस्थ सूत्रों के अनुसार, यह विस्थापन चरणबद्ध तरीके से दूसरे की तैनाती पर और गतिरोध वाले संवेदनशील स्थानों से सैनिकों को हटाकर आपसी सत्यापन द्वारा होगा।

सूत्रों ने बुधवार को कहा कि दोनों पक्षों के पीछे हटने की सहमति पर समझौता अगले कुछ दिनों में कोर कमांडर स्तर की वार्ता के नौवें दौर में होने की उम्मीद है। गलवान की घटना के बाद भारत और चीन के बीच आठ कमांडर-स्तरीय वार्ता हो चुकी हैं, गलवान में दोनों पक्षों के कई सैनिकों को जान गवानी पड़ी थी। भारतीय पक्ष के 22 सैनिक वीरगति को प्राप्त हुए थे और विदेशी मीडिया के अनुमानों के अनुसार, चीनी पक्ष के 40 से अधिक सैनिक मौत के घाट उतर गए थे। भारतीय सेना प्रमुख जनरल एमएम नरवणे ने मंगलवार को संकेत दिया था कि “हमें उम्मीद है कि हम एक ऐसे समझौते पर पहुंचने में सक्षम होंगे जो पारस्परिक रूप से स्वीकार्य और पारस्परिक रूप से लाभकारी होगा।” भारत और चीन के कोर कमांडरों द्वारा 6 नवंबर को लद्दाख के चुशुल में आठवें दौर की बातचीत आयोजित करने के कुछ दिनों बाद सेना प्रमुख की यह टिप्पणी आई है।

भारत और चीन तीन-चरणीय प्रक्रिया, बड़े तौर पर सैनिकों के पीछे हटने पर सहमति और समय-सीमा में सभी प्रमुख गतिरोध क्षेत्रों से हथियारों की वापसी, पर सहमत हो सकते हैं।

नरवणे ने कहा कि भारत और चीन के वरिष्ठ सैन्य कमांडर आगे की राह पर कैसे बढ़ा जा इसके “तौर-तरीकों को पुख्ता कर रहे हैं।” सेना प्रमुख ने कहा – “हमने 6 नवंबर को दोनों पक्षों के सर्वोच्च सैन्य स्तर के कमांडरों के बीच 8 वें दौर की वार्ता की है। वे व्यापक दिशा-निर्देशों के साथ आगे बढ़ने के बारे में बता रहे हैं, वे दिशा-निर्देश जिनपर संबंधित मंत्रियों (रक्षा और विदेश) के बीच बैठकों और बातचीत के बाद चर्चा हुई थी।”

इस खबर को अंग्रेजी में यहाँ पढ़े।

भारत और चीन तीन-चरणीय प्रक्रिया, बड़े तौर पर सैनिकों के पीछे हटने पर सहमति और समय-सीमा में सभी प्रमुख गतिरोध क्षेत्रों से हथियारों की वापसी, पर सहमत हो सकते हैं। हालांकि, प्रमुख अधिकारियों ने कहा कि ये सिर्फ प्रस्ताव थे और अब तक किसी समझौते पर हस्ताक्षर नहीं हुए हैं। उन्होंने कहा, पीछे हटने के प्रस्ताव में समझौते के दौरान एक दिन के भीतर बख्तरबंद कर्मियों के वाहक को हटाना, पूर्वी लद्दाख में पैंगोंग झील के उत्तर और दक्षिण तट पर विशिष्ट क्षेत्रों से सैनिकों की वापसी, और दोनों पक्षों में पीछे हटने की प्रक्रिया का सत्यापन करना शामिल है।

उन्होंने कहा कि अप्रैल में मौजूद यथास्थिति की बहाली और पीछे हटने के लिए विशेष प्रस्तावों को उच्च स्तरीय सैन्य वार्ता के आठवें दौर के दौरान अंतिम रूप दिया गया था। पहले चरण के रूप में, दोनों पक्ष समझौते पर हस्ताक्षर करने के तीन दिनों के भीतर अपने टैंक, आर्टिलरी गन, बख्तरबंद वाहनों और बड़े उपकरणों को एलएसी के गतिरोध वाले क्षेत्रों से हटाकर पीछे के ठिकानों पर भेज देंगे।

दूसरा चरण में चीनी सेना फिंगर 4 के वर्तमान स्थान से पैंगोंग झील के उत्तरी किनारे पर फिंगर 8 क्षेत्रों में वापस जाएगी, जबकि भारतीय सेना धन सिंह थापा पोस्ट के करीब स्थित रहेगी। उस क्षेत्र में पर्वत के कटीले स्थानों को फिंगर्स के रूप में जाना जाता है। उन्होंने कहा कि तीन दिनों तक हर दिन लगभग 30 प्रतिशत सैनिकों को वापस लेने पर सहमति व्यक्त की गई थी।

तीसरे चरण में, रेजांग ला, मुखपारी और मगर पहाड़ी जैसे पैंगोंग झील के दक्षिणी तटीय क्षेत्रों में पीछे हटने की प्रक्रिया को पूरा करने पर सहमति हुई। इसके बाद, दोनों पक्ष एक विस्तृत सत्यापन प्रक्रिया करेंगे जिसके बाद सामान्य गश्त फिर से शुरू होने की उम्मीद है।

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.