भारत ने 75 करोड़ कोविड वैक्सीन खुराक को पार किया। 18 करोड़ से अधिक लोगों का पूर्ण टीकाकरण

कोविड पर विजय पाने के अपने अभियान में भारत द्वारा प्राप्त प्रभावशाली टीकाकरण संख्या!

1
397
कोविड पर विजय पाने के अपने अभियान में भारत द्वारा प्राप्त प्रभावशाली टीकाकरण संख्या!
कोविड पर विजय पाने के अपने अभियान में भारत द्वारा प्राप्त प्रभावशाली टीकाकरण संख्या!

भारत ने संचयी कोविड वैक्सीन व्याप्ति 75 करोड़ का आंकड़ा पार किया, 18 करोड़ से अधिक का पूरी तरह से टीकाकरण

भारत ने 75 करोड़ कोविड-19 वैक्सीन खुराक देने का मील का पत्थर पार कर लिया है। इसके साथ, उम्मीद है कि भारत ने अपनी लगभग 14% आबादी का पूरी तरह से टीकाकरण (दोहरी खुराक) कर लिया है। को-विन पोर्टल पर उपलब्ध अनंतिम आंकड़ों के अनुसार, सोमवार को शाम 7 बजे तक 71 लाख से अधिक खुराकें दी गईं। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मंडाविया ने सोमवार को कहा कि देर रात तक दिन की अंतिम रिपोर्ट के संकलन के साथ दैनिक टीकाकरण संख्या बढ़ने की उम्मीद है।

पोर्टल पर उपलब्ध शाम 7 बजे के अनंतिम आंकड़ों के अनुसार, 57 करोड़ से अधिक लोगों को पहली खुराक और 18 करोड़ से अधिक लोगों को टीके की दोनों खुराक दे दी गई है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा कि देश के 99 प्रतिशत से अधिक स्वास्थ्य कर्मियों (एचसीडब्ल्यू) और फ्रंटलाइन वर्कर्स (एफएलडब्ल्यू) को कोविड-19 वैक्सीन की कम से कम एक खुराक मिल चुकी है। मंडाविया ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में और “सबका साथ, सबका प्रयास” के मंत्र के साथ देश का टीकाकरण अभियान सफलता के नए आयाम हासिल करना जारी रखे हुए है।

स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा कि, देश भर में टीकाकरण अभियान 16 जनवरी को शुरू किया गया था, जिसमें पहले चरण में स्वास्थ्य कर्मियों को वैक्सीन लगाया गया था।

स्वास्थ्य मंत्री ने हैशटैग #SabkoVaccineMuftVaccine और #AazadiKaAmritMahotsav के साथ ट्वीट किया – “बधाई हो भारत! आजादी के 75वें साल में देश ने 75 करोड़ टीकाकरण का आंकड़ा पार कर लिया है।”

डब्ल्यूएचओ के दक्षिण-पूर्व एशिया कार्यालय ने भी कोविड-19 टीकाकरण अभियान में तेजी लाने और 75 करोड़ का आंकड़ा हासिल करने के लिए भारत की सराहना की। डब्ल्यूएचओ दक्षिण-पूर्व एशिया की क्षेत्रीय निदेशक डॉ पूनम खेत्रपाल सिंह ने डब्ल्यूएचओ के एक बयान में कहा – “डब्ल्यूएचओ कोविड-19 टीकाकरण को एक अभूतपूर्व गति से बढ़ाने के लिए भारत को बधाई देता है। जबकि पहली 100 मिलियन खुराक को लोगों तक पहुँचाने में 85 दिन लगे थे, परंतु अब भारत केवल 13 दिनों में 650 मिलियन से 750 मिलियन खुराक तक पहुंच गया।”

इस खबर को अंग्रेजी में यहाँ पढ़े।

अब तक, छह राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों – सिक्किम, हिमाचल प्रदेश, गोवा, दादरा-नगर हवेली, लद्दाख और लक्षद्वीप में सभी वयस्क लोगों को टीके की कम से कम एक खुराक मिल चुकी है। मंडाविया ने कहा कि भारत को 10 करोड़ टीकाकरण का आंकड़ा छूने में 85 दिन लगे, 20 करोड़ का आंकड़ा पार करने में 45 दिन और 30 करोड़ तक पहुंचने में 29 दिन लगे। देश को 30 करोड़ खुराक से 40 करोड़ खुराक तक पहुंचने में 24 दिन लगे और फिर 6 अगस्त को 50 करोड़ टीकाकरण का आंकड़ा पार करने में 20 दिन और लगे। कुल मिलाकर, 1 मई से शुरू टीकाकरण अभियान के चरण-3 की शुरुआत के बाद से सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में 18-44 वर्ष के आयु वर्ग के 30 करोड़ से अधिक लोगों ने अपनी पहली खुराक और 4.5 करोड़ से अधिक लोगों ने दूसरी खुराक प्राप्त कर ली है।

स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा कि, देश भर में टीकाकरण अभियान 16 जनवरी को शुरू किया गया था, जिसमें पहले चरण में स्वास्थ्य कर्मियों को टीका लगाया गया था। फ्रंटलाइन कार्यकर्ताओं का टीकाकरण 2 फरवरी से शुरू हुआ था। टीकाकरण अभियान का अगला चरण 1 मार्च से 60 वर्ष से अधिक आयु के लोगों और 45 वर्ष और उससे अधिक आयु के रुग्ण परिस्थितियों वाले लोगों के लिए शुरू हुआ था। देश ने 1 अप्रैल से 45 वर्ष से अधिक आयु के सभी लोगों के लिए टीकाकरण शुरू किया था। सरकार ने फिर 1 मई से 18 वर्ष से अधिक आयु के सभी लोगों को टीकाकरण की अनुमति देकर टीकाकरण अभियान का विस्तार करने का निर्णय लिया। देश में सबसे कमजोर जनसंख्या को कोविड-19 से बचाने के लिए एक उपकरण के रूप में टीकाकरण अभियान की नियमित रूप से समीक्षा की जा रही है और उच्चतम स्तर पर निगरानी की जा रही है।

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.