वैक्सीन निर्यात प्रतिबंध ‘बहुत बुरा’ कदम; बेटे ने इसके खिलाफ न बोलने की चेतावनी दी: एसआईआई के साइरस पूनावाला

क्या भारत में दूसरी लहर के चरम पर वैक्सीन निर्यात पर प्रतिबंध लगाना एक बुरा कदम था? एसआईआई अध्यक्ष ऐसा ही सोचते हैं!

1
872
क्या भारत में दूसरी लहर के चरम पर वैक्सीन निर्यात पर प्रतिबंध लगाना एक बुरा कदम था? एसआईआई अध्यक्ष ऐसा ही सोचते हैं!
क्या भारत में दूसरी लहर के चरम पर वैक्सीन निर्यात पर प्रतिबंध लगाना एक बुरा कदम था? एसआईआई अध्यक्ष ऐसा ही सोचते हैं!

साइरस पूनावाला: वैक्सीन निर्यात पर प्रतिबंध केंद्र का बहुत बुरा कदम

शुक्रवार को सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (एसआईआई) के अध्यक्ष साइरस पूनावाला ने केंद्र सरकार द्वारा लगाए गए कोविड-19 वैक्सीन निर्यात पर प्रतिबंध को “बहुत बुरा कदम” करार देते हुए कहा कि इसने उनकी कंपनी यानी कि दुनिया की सबसे बड़ी वैक्सीन निर्माता कंपनी को मुसीबत में डाल दिया है। उन्होंने यह भी कहा कि कोविशील्ड वैक्सीन बनाने वाली एसआईआई के मुख्य कार्यकारी अधिकारी उनके बेटे अदार पूनावाला, ने उनसे इस मुद्दे पर बात नहीं करने के लिए कहा था।

पूनावाला ने पुणे में मीडिया से बात करते हुए कहा – “यह मोदी सरकार का बहुत बुरा कदम है। मेरे बेटे ने मुझे अपना मुंह नहीं खोलने के लिए कहा था। लेकिन मेरा मानना ​​है कि निर्यात को शुरू कर दिया जाना चाहिए।” वह प्रतिष्ठित लोकमान्य तिलक पुरस्कार प्राप्त करने के बाद पत्रकारों से बात कर रहे थे। उन्होंने कहा कि 150 से अधिक देश टीकों के लिए एसआईआई पर निर्भर हैं और कंपनी पर एक महत्वपूर्ण अवधि के दौरान आपूर्ति रोकने का आरोप लगा रहे हैं। साइरस पूनावाला ने कहा कि इन देशों ने कंपनी को अग्रिम रूप से “करोड़ों” का भुगतान किया है, बिल एंड मेलिंडा गेट्स फाउंडेशन और विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने भी कंपनी को 5,000 करोड़ रुपये दिए हैं।

साइरस पूनावाला ने कहा कि राजनेताओं को झांसा देने की आदत है और उनका दावा है कि भारत 2021 के अंत तक पूरी तरह से टीकाकरण कर लेगा, परंतु यह वास्तविकता से बहुत दूर है।

उन्होंने कहा कि उन्होंने गेट्स फाउंडेशन और डब्ल्यूएचओ को पैसे वापस करने की पेशकश की थी, लेकिन उन संस्थाओं ने इस उम्मीद में उनके प्रस्ताव को अस्वीकार कर दिया कि भारत सरकार जल्द ही निर्यात पर प्रतिबंध हटा देगी, ऐसा संकेत दिया। भारत ने अप्रैल में टीके के निर्यात पर प्रतिबंध लगा दिया था, जब महामारी की दूसरी लहर चरम पर थी और देश में लोगों को अधिक गति से टीकाकरण करने की आवश्यकता महसूस की गई थी। इस कदम के कारण पिछली विभिन्न तिमाहियों से चिंता व्यक्त की जा रही थी क्योंकि पुणे स्थित एसआईआई विश्व स्तर पर सबसे बड़े आपूर्तिकर्ताओं में से एक है और उसने अग्रिम ऑर्डर्स ले लिये थे।

इस खबर को अंग्रेजी में यहाँ पढ़े।

पुणे में भी टीकों की कमी के बारे में, पूनावाला ने फिर से केंद्र सरकार के प्रति निराशा व्यक्त की। उन्होंने कहा – “हमने उन्हें (सरकार को) बताया कि आंकड़े कहते हैं कि पुणे में संक्रमण सबसे ज्यादा है और उनसे पुणे के लिए और (वैक्सीन) जारी करने का अनुरोध किया… लेकिन मोदी सरकार जवाब देने को भी तैयार नहीं है। सरकार कहती है कि वह वही करेगी जो उसे सही लगता है।”

साइरस पूनावाला ने कहा कि राजनेताओं को झांसा देने की आदत है और उनका दावा है कि भारत 2021 के अंत तक पूरी तरह से टीकाकरण कर लेगा, परंतु यह वास्तविकता से बहुत दूर है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के शासन काल में सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया की सरकारी अनुमति को लेकर मुश्किलें काफी कम हैं और लालफीताशाही काफी कम हुई है। लेकिन सरकारी मशीनरी के कामकाज में यह आसानी केवल भारत के औषधि महानियंत्रक(डीसीजीआई) के लिए है क्योंकि बाकी सरकारी तंत्र पहले की तरह ही है।[1]

[पीटीआई इनपुट्स के साथ]

संदर्भ:

[1] Cyrus Poonawalla: Claims that India will be fully vaccinated by 2021-end far from realAug 13, 2021, India Today

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.