नया कोविड-19 तनाव: भारत ने भी 23-31 दिसंबर तक ब्रिटेन की उड़ानों को निलंबित किया!

भारत सहित कई देशों ने ब्रिटेन जाने वाली यात्री उड़ानों को निलंबित कर दिया है। कार्गो (मालवाहक जहाज) अभी भी उड़ान भर सकते हैं।

0
764
भारत सहित कई देशों ने ब्रिटेन जाने वाली यात्री उड़ानों को निलंबित कर दिया है। कार्गो (मालवाहक जहाज) अभी भी उड़ान भर सकते हैं।
भारत सहित कई देशों ने ब्रिटेन जाने वाली यात्री उड़ानों को निलंबित कर दिया है। कार्गो (मालवाहक जहाज) अभी भी उड़ान भर सकते हैं।

ब्रिटिश सरकार के चेतावनी में कहा गया कि वायरस का शक्तिशाली नया रूप नियंत्रण से बाहर है।

यूनाइटेड किंगडम (यूके) के लिए उड़ान निलंबित करने वाले कई देशों के साथ, भारत ने भी सोमवार को एक नये कोविड-19 तनाव उठने के मद्देनजर 23 दिसंबर से 31 दिसंबर तक ब्रिटेन से संबंधित सभी उड़ानों को निलंबित कर दिया है। नागरिक उड्डयन मंत्रालय ने कहा कि मंगलवार (22 दिसंबर) तक ब्रिटेन से आने वाले सभी यात्रियों को “सावधानी के अत्यंत जरूरी उपाय” के रूप में हवाई अड्डों पर आने पर कोविड-19 के आरटी-पीसीआर परीक्षण से गुजरना होगा।

नागरिक उड्डयन के विमानन नियामक महानिदेशालय (डीजीसीए) ने भी सभी एयरलाइनों को एक निर्देश जारी किया है कि निलंबन अवधि के दौरान यूके से आने वाले यात्रियों को किसी अन्य शहर से भारत के लिए अपनी उड़ानों में सवार होने की अनुमति नहीं दी जानी चाहिए। नियामक ने कहा कि, क्रिसमस के सप्ताह में लगने वाला निलंबन कार्गो उड़ानों पर लागू नहीं होगा। इस बीच ब्रिटिश प्रधान मंत्री बोरिस जॉनसन, 26 जनवरी 2021 को भारत के गणतंत्र दिवस समारोह में मुख्य अतिथि होंगे।

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने सोमवार को अपने संयुक्त निगरानी समूह की एक तत्काल बैठक बुलाई, जिसमें यूके में कोरोनावायरस के एक नये ज्यादा शक्तिशाली रूप के सामने आने के कारण संक्रमण दर में हुई वृद्धि पर चर्चा की गई।

फ्रांस, कनाडा, तुर्की, बेल्जियम, इटली और इज़राइल सहित कई देशों ने ब्रिटिश सरकार की चेतावनी के साथ ब्रिटेन से उड़ानों पर प्रतिबंध लगा दिया है, चेतावनी में कहा गया कि वायरस का शक्तिशाली नया रूप “नियंत्रण से बाहर” है और रविवार से नया और कठोरतम लॉकडाउन लागू कर दिया गया है। यह निलंबन 22 दिसंबर की रात 11.59 बजे के बाद शुरू होगा और फलस्वरूप भारत से यूके जाने वाली उड़ानें भी अवधि के दौरान अस्थायी रूप से निलंबित रहेंगी।

इस खबर को अंग्रेजी में यहाँ पढ़े।

नागरिक उड्डयन मंत्रालय ने कहा – “सावधानी के अत्यंत जरूरी उपाय के रूप में, सभी उड़ानों (विमान जो उड़ान भर चुके हैं या जो उड़ानें भारत में 22 दिसंबर को 23.59 बजे से पहले पहुंचने वाली हैं) में आने वाले यात्रियों के संबंधित हवाई अड्डों पर आगमन पर आरटी-पीसीआर परीक्षण होना अनिवार्य है।”

नागरिक उड्डयन मंत्री हरदीप सिंह पुरी का ट्वीट

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने सोमवार को अपने संयुक्त निगरानी समूह की एक तत्काल बैठक बुलाई, जिसमें यूके में कोरोनावायरस के एक नये ज्यादा शक्तिशाली रूप के सामने आने के कारण संक्रमण दर में हुई वृद्धि पर चर्चा की गई। जैसे ही भारत में चिंताएं बढ़ीं, केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री ने लोगों को आश्वस्त किया कि घबराने की कोई वजह नहीं है।

एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में एक सवाल का जवाब देते हुए केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्ष वर्धन ने कहा, “मैं सभी से यही कहूंगा कि ये सभी काल्पनिक स्थितियां, काल्पनिक वार्ता, काल्पनिक भय… इसमें खुद को शामिल न करें।”

वर्धन ने संवाददाताओं से कहा, “सरकार हर चीज के बारे में पूरी तरह से सतर्क है। अगर आप मुझसे पूछें, तो इस प्रेस कॉन्फ्रेंस में जिस तरह से हम देख रहे हैं, उस तरह से घबराने की कोई वजह नहीं है।” विस्तारा एयरलाइंस के एक प्रवक्ता ने कहा कि एयरलाइन ब्रिटेन की उड़ानों को निलंबित करने के सरकार के आदेश का पालन करेगी। प्रवक्ता ने कहा – “हमारे ग्राहकों की असुविधा को कम करने के लिए, हम 31 दिसंबर 2021 तक किसी भी तारीख को प्रभावित बुकिंग के एक बार के लिए नि: शुल्क पुनःनिर्धारण का अवसर देंगे।”

ब्रिटिश प्रधान मंत्री बोरिस जॉनसन ने पिछले सप्ताह कहा था कि मौजूदा किस्म के वायरस से 70 प्रतिशत अधिक संक्रामक रूप, जो हाल के हफ्तों में लंदन और दक्षिणी इंग्लैंड में तेजी से फैल रहा है। लेकिन उन्होंने जोर दिया “यह सुझाव देने के लिए कोई सबूत नहीं है कि यह अधिक घातक है या अधिक गंभीर बीमारी का कारण बन सकता है,” या कि टीके इसके खिलाफ कम प्रभावी होंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.