क्या तिरंगा टीवी बन्द हो रही है? कर्मचारियों ने श्री और श्रीमती सिब्बल पर उनका भविष्य खराब करने का आरोप लगाया

क्या कांग्रेस के नेता द्वारा प्रायोजित तिरंगा टीवी बन्द हो रही है? क्या झूठे वादों के साथ कर्मचारियों को काम पर रखा गया था?

0
506
क्या कांग्रेस के नेता द्वारा प्रायोजित तिरंगा टीवी बन्द हो रही है? क्या झूठे वादों के साथ कर्मचारियों को काम पर रखा गया था?

कांग्रेस नेता कपिल सिब्बल द्वारा प्रायोजित टेलीविज़न चैनल तिरंगा टीवी के बारे में जानकारी मिली है कि लोकसभा चुनाव में कांग्रेस के बुरी तरह हार जाने के बाद कई अन्य वित्त पोषकों ने टीवी को बंद कर दिया। मंगलवार से तिरंगा टीवी कई केबल और डिश टीवी ऑपरेटरों जैसे प्रमुख सेवा प्रदाता एयरटेल डीटीएच प्लेटफॉर्म से गायब हो गया। कई कर्मचारी जो प्रबंधन से इस्तीफे की मांग का सामना कर रहे हैं, एक महीने के वेतन को मुआवजे के रूप में स्वीकार करते हुए, उन्होंने इस कठोर रुख के लिए सिब्बल की पत्नी प्रोमिला पर आरोप लगाया है। कहा जाता है कि कुछ महीने पहले टीवी चैनल में माहौल बदल गया था जब प्रोमिला सिब्बल ने दिन-प्रतिदिन के कार्यों में हस्तक्षेप करना शुरू कर दिया था और मनमाने ढंग से कई कर्मचारियों के नौकरी के अनुबंधों को बदल दिया और “भारी खर्च में बारे में झूठी चेतावनी देने लगी”!

उद्योग जगत के लोगों का कहना है कि सिब्बल के अलावा, पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम और कर्नाटक के धन कुबेर डी के शिवकुमार द्वारा चैनल को वित्त पोषित करने की उम्मीद थी और इस परियोजना से लगभग 300 करोड़ रुपये का धन जुटने की उम्मीद थी।

कर्मचारियों का कहना है कि सिब्बल ने कुछ महीने पहले उन्हें बताया था कि टीवी चैनल पेशेवर रूप से चलाया जाएगा और चुनाव परिणामों का इस पर कोई असर नहीं होगा। उन्होंने कई कर्मचारियों को बताया कि पहले से ही 40 करोड़ रुपये से अधिक का निवेश किया गया है और सभी कर्मचारियों को दो साल की नौकरी की सुरक्षा दी जाएगी। तिरंगा टीवी के संपादकीय और तकनीकी क्षेत्र में दिसंबर 2018 में 240 से अधिक कर्मचारी भर्ती हुए हैं, जिसे पहले हार्वेस्ट टीवी के नाम से जाना जाता था [1]। हाल ही में 70 से अधिक कर्मचारियों को एक महीने के वेतन को मुआवजे के रूप में देकर, उनकी सेवाओं को समाप्त कर दिया गया और कई पत्रकारों ने प्रेस क्लब ऑफ इंडिया, दिल्ली के सामने “भगोड़े कपिल सिब्बल” का विरोध प्रदर्शन किया।

कई वरिष्ठ पत्रकारों जैसे बरखा दत्त, करण थापर, और मनेश छिब्बर ने तीन साल के अनुबंध पर कांग्रेस नेताओं द्वारा वित्त पोषित तिरंगा टीवी के साथ काम करना शुरू किया था और कई कर्मचारी कहते हैं कि उनमें से इन वरिष्ठ नेताओं से प्रबंधन द्वारा अचानक चैनल बन्द करने के फैसले के लिए अदालत का रुख करने की उम्मीद की जा सकती है। मुआवजे के रूप में छह महीने का वेतन प्रदान करने के लिए पहले समझौते हुए थे जो बाद में तीन महीने के वेतन और मुआवजे में बदल गए और अंत में केवल एक महीने के वेतन के साथ कई कर्मचारियों को बाहर कर दिया गया। इस कठोर फैसले के लिए सिब्बल की पत्नी प्रोमिला को कई लोग दोषी मानते हैं क्योंकि उनका कहना है कि उन्होंने कंपनी की बैठकों में खुले तौर पर कठोर उपायों के लिए तर्क दिया था। वह हमें बताती थी कि जब उसने राजस्व का नुकसान महसूस किया तो उसने अपनी मांस की दुकानों को तुरंत बंद कर दिया, कर्मचारियों का कहना है।

इस खबर को अंग्रेजी में यहाँ पढ़े।

उद्योग जगत के लोगों का कहना है कि सिब्बल के अलावा, पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम और कर्नाटक के धन कुबेर डी के शिवकुमार द्वारा चैनल को वित्त पोषित करने की उम्मीद थी और इस परियोजना से लगभग 300 करोड़ रुपये का धन जुटने की उम्मीद थी। किसी भी मार्केटिंग कर्मचारी को भर्ती नहीं किया गया था और कांग्रेस के नेताओं का विचार भाजपा के प्रचार का मुकाबला करने के लिए एक कांग्रेस समर्थक टीवी चैनल मंच बनाने का था। ऐसी खबरें थीं कि चिदंबरम ने पेन बनाने के उद्योग में लगी एक दोस्ताना महिला उद्यमी के माध्यम से पैसे का लेन-देन किया। नवीन जिंदल से भी यह अपेक्षा थी कि वे तिरंगा टीवी के लिए धन उगाहने वाले क्लब में शामिल होंगे और लोकसभा चुनावों में उनकी पार्टी की बुरी हार के बाद सभी की रुचि खत्म हो गयी, जिससे 250 पत्रकारों और तकनीशियनों का भविष्य अनिश्चित हो गया।

संदर्भ:

[1] Congress leaders supported Harvest TV coming soonDec 16, 2018, PGurus.com

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.