विवादास्पद गायक विशाल डडलानी के ब्रिटिश वर्जिन आइलैंड्स और सिंगापुर में कम्पनियां चलाने और बैंक खातों के लिए पकड़े जाने के बावजूद उसके खिलाफ आयकर विभाग क्यों कार्रवाई नहीं कर रहा है?

या तो विशाल डडलानी बहुत खुशकिस्मत है या कोई उच्च पदासीन उसे आयकर के छापे से बचा रहा है!

0
820
विवादास्पद गायक विशाल ददलानी के ब्रिटिश वर्जिन आइलैंड्स और सिंगापुर में कम्पनियां चलाने और बैंक खातों के लिए पकड़े जाने के बावजूद उसके खिलाफ आयकर विभाग क्यों कार्रवाई नहीं कर रहा है?
विवादास्पद गायक विशाल ददलानी के ब्रिटिश वर्जिन आइलैंड्स और सिंगापुर में कम्पनियां चलाने और बैंक खातों के लिए पकड़े जाने के बावजूद उसके खिलाफ आयकर विभाग क्यों कार्रवाई नहीं कर रहा है?

प्रसिद्ध संगीत निर्देशक, गायक, कॉमेडियन और आम आदमी पार्टी (आप) के सदस्य, विशाल डडलानी एक बहुत भाग्यशाली व्यक्ति प्रतीत होते हैं। उनका नाम 2013 के इंटरनेशनल कंसोर्टियम ऑफ इंवेस्टिगेटिव जर्नलिस्ट्स (आईसीआईजे) के खुलासे में आया, जिसमें अन्य 498 भारतीयों के नाम भी सामने आए। आईसीआईजे के पर्दाफाश के अनुसार, विशाल डडलानी सनी ब्लेसिंग होल्डिंग इंक नाम की एक कम्पनी के निदेशक हैं, जिस कम्पनी को 8 जनवरी, 2008 को ब्रिटिश वर्जिन आइलैंड्स (बीवीआई) के कुख्यात कर आश्रय (टैक्स हेवन) फर्जी तरीके से बनाया गया था।

बहुत महत्वपूर्ण सवाल है कि विशाल डडलानी को कौन बचा रहा है

आईसीआईजे खुलासा विशाल डडलानी के भारतीय पता 15B, स्टर्लिंग अपार्टमेंट, 8 वीं मंजिल, 38-पेडर रोड, मुंबई – 400026 के रूप में दिखाता है। यह ‘आप’ प्रचारक और गायक विशाल डडलानी का भी पता है। आईसीआईजे दस्तावेज से पता चलता है कि डडलानी की कम्पनी के साथ उसके परिवार के सदस्यों का UBS AG, सिंगापुर, वन रैफल्स, सिंगापुर में Quay 50-01 नॉर्थ टॉवर, 048583 में बैंक खाता है।

आईसीआईजे के खुलासे से यह भी पता चलता है कि डडलानी की कम्पनी सनी ब्लेसिंग होल्डिंग इंक ने ब्रिटिश वर्जिन द्वीप समूह में पोर्टकुलिस ट्रस्ट नेट के माध्यम से काम किया है। विवादास्पद गायक और आप प्रचारक विशाल डडलानी के साथ सनी ब्लेसिंग होल्डिंग इंक के अन्य निदेशक अंजना हरेश वासवानी, मोती थानद्वार डडलानी, और रेशमा मोतिर्मा डडलानी हैं।

इस खबर को अंग्रेजी में यहाँ पढ़े।

आईसीआईजे के खुलासे के बाद, आयकर विभाग (आईटी) और प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने इस मामले पर गौर कर इन 498 भारतीयों को नोटिस भेजना शुरू कर दिया है, इस सूची में दिल्ली के एक शक्तिशाली आईएएस अधिकारी रजनी कांत वर्मा, जो परिवहन और बिजली के सचिव थे, भी शामिल हैं। उनकी पत्नी रितु वर्मा का नाम विदेशी बैंक धारक सूची में शामिल है और उन्हें आयकर द्वारा अभियोजन का सामना करना पड़ रहा है और पति (आईएएस अधिकारी) ने इस खुलासे के बाद सेवा भी छोड़ दी है। रजनी कांत वर्मा दिल्ली राज्य सरकार में एक बहुत शक्तिशाली अधिकारी थे और परिवहन सचिव के रूप में लो-फ्लोर बसों की रिकॉर्ड खरीद के दौरान दिवंगत मुख्यमंत्री शीला दीक्षित के विश्वसनीय अधिकारी थे। एजेंसियों ने पाया है कि खरीद में कमीशन इन बीवीआई खातों के माध्यम से लेनदेन किया गया था।

बहुत महत्वपूर्ण सवाल है कि विशाल डडलानी को कौन बचा रहा है … आयकर विभाग संकोचवश व्यवहार क्यों कर रहा है? क्या कोई शक्तिशाली व्यक्ति जांच को दबा रहा है? या कोई शक्तिशाली भारतीय राजस्व सेवा (आईआरएस) अधिकारी है जो दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (पूर्व आईआरएस) का करीबी है और डडलानी को बचाने की कोशिश कर रहा है?

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.