सीबीआई को प्रनॉय रॉय और उसकी पत्नी से पूछताछ करनी चाहिए और ईडी को उनकी संपत्तियों को कुर्क करना चाहिए

सीबीआई और ईडी को राधिका और प्रनॉय रॉय की संपत्तियों की पूछताछ करने और उन्हें संलग्न करने की आवश्यकता है।

1
348
सीबीआई को प्रनॉय रॉय और उसकी पत्नी से पूछताछ करनी चाहिए और ईडी को उनकी संपत्तियों को कुर्क करना चाहिए
सीबीआई को प्रनॉय रॉय और उसकी पत्नी से पूछताछ करनी चाहिए और ईडी को उनकी संपत्तियों को कुर्क करना चाहिए

आख़िरकार भारतीय प्रतिभूति और विनिमय बोर्ड (SEBI) ने प्रनॉय रॉय, उसकी पत्नी राधिका रॉय और उनकी फर्जी खोल फर्म आरआरपीआर होल्डिंग्स लिमिटेड द्वारा की गई धोखाधड़ी पर नकेल कस दी है। रॉय दम्पत्ति को सार्वजनिक रूप से सूचीबद्ध एनडीटीवी से भारी मात्रा में धन उगाही और काले धन को वैध बनाने तथा अन्य शेयरधारकों से धोखाधड़ी करते पकड़ा गया। सेबी का 14 जून का आदेश 2017 के मध्य में सीबीआई और ईडी द्वारा दर्ज की गई एफआईआर की प्रतिक्रिया है।

अब करोड़ों का सवाल यह है कि केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो (CBI) और प्रवर्तन निदेशालय (ED) ने उनके घरों पर छापेमारी करने के बाद आरोपी प्रनॉय रॉय और पत्नी राधिका को पिछले दो साल से समन क्यों नहीं भेजा। सीबीआई ने जून 2017 में आईसीआईसीआई बैंक के साथ 45 करोड़ रुपये से अधिक की धोखाधड़ी के लिए प्रणय रॉय के घर पर छापा मारा था। आईसीआईसीआई बैंक के शीर्ष अधिकारियों के साथ मिलकर, प्रनॉय रॉय ने अपनी फर्जी खोल फर्म आरआरपीआर होल्डिंग्स लिमिटेड के नाम पर एनडीटीवी का चेहरा दिखाते हुए लगभग 375 करोड़ रुपये (2008 में) का ऋण लिया। वह एनडीटीवी के प्रमुख के रूप में अपनी स्थिति का दुरुपयोग कर रहा था और अपनी फर्जी खोल फर्म आरआरपीआर होल्डिंग्स के नाम पर ऋण ले रहा था। जो लोग नहीं जानते, आरआरपीआर का मतलब है राधिका रॉय और प्रनॉय रॉय। इस फर्जी खोल फर्म के केवल दो मालिक हैं- श्री और श्रीमती 420 (प्रनॉय रॉय और पत्नी राधिका रॉय)।

12 महीने के भीतर, वे 45 करोड़ रुपये की छूट प्राप्त करके आईसीआईसीआई का भुगतान कर देते हैं। जाहिर है, यह बड़ी धोखाधड़ी के वी कामथ और चंदा कोचर सहित आईसीआईसीआई के शीर्ष अधिकारियों के साथ मिलकर किया गया था। दरअसल, इस बड़े फर्जीवाड़े की रिपोर्ट सबसे पहले संडे गार्जियन ने की, तब 2010 में एम जे अकबर इसके प्रमुख थे [1]

अब सीबीआई को पता चला है कि आईसीआईसीआई बैंक के लोन से बचाए गए इन 45 करोड़ रुपये को पति-पत्नी की टीम ने दक्षिण अफ्रीका के केप टाउन में एक महलनुमा घर खरीदने के लिए लगाया था [2]

इस खबर को अंग्रेजी में यहाँ पढ़े।

यह चौंकाने वाला है कि सीबीआई ने रॉय और उसकी पत्नी को अभी तक समन नहीं भेजा है, हालांकि उन्होंने प्रथम सूचना रिपोर्ट (एफआईआर) दर्ज की और जून 2017 में उनके घर पर छापा मारा। यह सभी को पता है कि उन दिनों मोदी सरकार में प्रणॉय रॉय के अनुकूल लोगों द्वारा सीबीआई को धीमी गति से कार्यवाही के लिए मजबूर किया गया था। तत्कालीन वित्त मंत्री अरुण जेटली और प्रनॉय रॉय के मधुर संबंध किसी से छिपे नहीं हैं। और उनके अधीन ईडी को भी उनकी (रॉय) संपत्तियों को कुर्क करने के बजाय, बहुत धीमी गति से क्रियान्वयन के लिए मजबूर किया गया था।

सेबी ने आदेश देने में पर्याप्त समय लिया लेकिन कम से कम, इसने राधिका और प्रनॉय रॉय के काले धन को वैध बनाने का पर्दाफाश किया। अब सीबीआई को धोखाधड़ी करने वाले दंपत्ति की हिरासती पूछताछ करनी चाहिए और ईडी को उनकी संपत्तियों को कुर्क करना चाहिए।

सेबी के विस्तृत 51-पृष्ठ के आदेश को पीगुरूज के पहले के लेख से पढ़ा जा सकता है!

संदर्भ:

[1] Will those bleeding hearts explain Sunday Guardian expose on NDTV’s ICICI Bank frauds? Jun 9, 2017, PGurus.com

[2] प्रनॉय रॉय की उल्टी गिनती शुरू हो गई है सेबी के आदेश के बाद एनडीटीवी छोड़ने के लिए मजबूरJun 15, 2019, PGurus.com

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.