आईटीएटी ने एनडीटीवी के शेयरों के अवैध व्यापार के लिए प्रनॉय रॉय और उसकी पत्नी पर 91 करोड़ रुपये का आयकर जुर्माना लगाया

आईटीएटी आदेश ने एनडीटीवी के संरक्षकों, प्रनॉय रॉय और राधिका रॉय के लिए एक और रास्ता बंद कर दिया।

0
3310
आईटीएटी आदेश ने एनडीटीवी के संरक्षकों, प्रनॉय रॉय और राधिका रॉय के लिए एक और रास्ता बंद कर दिया।
आईटीएटी आदेश ने एनडीटीवी के संरक्षकों, प्रनॉय रॉय और राधिका रॉय के लिए एक और रास्ता बंद कर दिया।

एनडीटीवी के दागी संरक्षकों प्रनॉय रॉय और उसकी पत्नी राधिका रॉय के लिए एक बड़े झटके में, आयकर विभाग अपिलीय न्यायाधिकरण (आईटीएटी) ने आयकर विभाग द्वारा 91 करोड़ रुपये की कर चोरी और अवैध आय को छिपाने के लिए लागू किए गए जुर्माने को मंजूरी दी है। आईटीएटी ने आयकर के निष्कर्षों की पुष्टि की कि 2009-2011 के दौरान, पति और पत्नी ने एनडीटीवी के शेयरों के अवैध व्यापार से बड़ी आय अर्जित की।

अब कुख्यात प्रनॉय रॉय और उसकी पत्नी, प्रत्येक को 30 करोड़ रुपये चुकाने होंगे और एनडीटीवी के निवेशकों को बेवकूफ बनाकर उनके अपराधों के लिए लगभग 31 करोड़ रुपये का जुर्माना भी देना होगा। कुल मिलाकर, पति और अपराध में सहयोगी उसकी पत्नी को 91 करोड़ चुकाने होंगे। आयकर विभाग ने एनडीटीवी के शेयरधारियों की स्टॉक एक्सचेंज हेराफेरी जैसे संदिग्ध तरीकों से अर्जित उनकी अवैध आय को छुपाकर, एनडीटीवी के प्रमोटरों को 116 करोड़ रुपये की कर चोरी के लिए पकड़ा।

प्रणॉय रॉय के लिए दरवाजे बंद हो रहे हैं और अधिकतम वह जो कर सकते हैं वह उच्च न्यायालय में अपील दायर करना है और बाद में सुप्रीम कोर्ट में इस आईटीएटी आदेश के खिलाफ समय हासिल करना है।

137 पेज के आईटीएटी आदेश में बताया गया है कि कैसे कुटिल दंपति ने एनडीटीवी के शेयरों का अवैध व्यापार मात्र 4 रुपये में किया और गुप्त लाभ कमाया, जब शेयर 135 रुपये से 140 रुपये के बीच कारोबार कर रहे थे[1]। एनडीटीवी के शेयरों का लेनदेन पति-पत्नी द्वारा उनकी फर्जी खोल कम्पनी आरआरपीआर होल्डिंग्स का उपयोग करके किया गया था। आरआरपीआर होल्डिंग्स क्या है? आरआरपीआर राधिका रॉय प्रनॉय रॉय होल्डिंग्स के अलावा कुछ भी नहीं है और यह फर्जी खोल फर्म पूरी तरह से उनके स्वामित्व में है। उन्होंने एनडीटीवी के शेयरों के साथ सिर्फ चार रुपये में कारोबार किया जब टीवी चैनल का बाजार मूल्य 135 से 140 रुपये के बीच था। यह कुछ और नहीं बल्कि शेयरों की हेराफेरी और एनडीटीवी के निवेशकों को बेवकूफ बनाना है। विस्तृत आईटीएटी आदेश इस रिपोर्ट के नीचे मीडियाकर्मियों की बेहतर समझ के लिए प्रकाशित किया गया है जो कुटिल दंपत्ति का आंखें मूंदकर समर्थन करते हैं।

इस खबर को अंग्रेजी में यहाँ पढ़े।

यदि यह किसी अन्य विकसित देश में हुआ होता, तो ये व्यक्ति अब तक जेल में होते। प्रणॉय रॉय के लिए दरवाजे बंद हो रहे हैं और अधिकतम वह जो कर सकते हैं वह उच्च न्यायालय में अपील दायर करना है और बाद में सुप्रीम कोर्ट में इस आईटीएटी आदेश के खिलाफ समय हासिल करना है।

सेबी ने श्री और श्रीमती रॉय को स्टॉक एक्सचेंजों में व्यापार से प्रतिबंधित करने के आदेश पहले ही पारित कर दिए हैं और दो साल के लिए एनडीटीवी के बोर्ड रूम में प्रवेश करने पर प्रतिबंध लगा दिया है[2]। रॉय दम्पत्ति को तीन महीने के लिए प्रतिभूति अपीलीय न्यायाधिकरण (सैट) से एक अस्थायी रोक (stay) मिली है। अब आईटीएटी आदेश ने प्रणॉय रॉय (जो टीवी स्क्रीन पर नैतिकता का प्रचार करता है) द्वारा धोखाधड़ी और काले धन को वैध बनाने पर जांचकर्ताओं के निष्कर्षों को मजबूत किया है।

विस्तृत 137-पृष्ठ ITAT आदेश यहाँ अपलोड किया गया है:

ITAT Order Prannoy Roy June 14, 2019 by PGurus on Scribd

References:

[1] Income Tax fines Prannoy Roy & wife for Rs.30 crores each for hushing up income in 2010-11Nov 20, 2017, PGurus.com

[2] प्रनॉय रॉय की उल्टी गिनती शुरू हो गई है सेबी के आदेश के बाद एनडीटीवी छोड़ने के लिए मजबूरJun 15, 2019, Hindi.PGurus.com

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.