टेलीग्राफ अखबार और उसके एबीपी समूह ने कोरोना संकट का हवाला देते हुए कर्मचारियों से “स्वेच्छा से” 30% वेतन छोड़ने का अनुरोध किया

टेलीग्राफ और एबीपी समूह प्रबंधन ने अपने कर्मचारियों को पत्र लिखा और उन्हें परामर्श दिया कि वे वेतन में कटौती के लिए प्रबंधन को "स्वैच्छिक" 30% कटौती करने के लिए ईमेल करें।

1
569
टेलीग्राफ और एबीपी समूह प्रबंधन ने अपने कर्मचारियों को पत्र लिखा और उन्हें परामर्श दिया कि वे वेतन में कटौती के लिए प्रबंधन को
टेलीग्राफ और एबीपी समूह प्रबंधन ने अपने कर्मचारियों को पत्र लिखा और उन्हें परामर्श दिया कि वे वेतन में कटौती के लिए प्रबंधन को "स्वैच्छिक" 30% कटौती करने के लिए ईमेल करें।

अति-वामपंथी अखबार टेलीग्राफ और उसके आनंद बाजार पत्रिका (एबीपी) समूह ने कोरोना संकट का दोष डालते हुए वेतन में कटौती करने के लिए एक बहुत ही चालाक कदम उठाया है। जबकि अन्य मीडिया घराने सीधे वेतन कटौती की सूचना जारी कर रहे हैं, एबीपी समूह एक नोटिस के साथ सामने आया जिसमें कर्मचारियों को “स्वेच्छा से” 30 प्रतिशत वेतन देने की बात लिखकर एक ईमेल भेजने को कहा। द टेलीग्राफ और उनके एबीपी समूह के कर्मचारियों का कहना है, इसने उन्हें एक अजीब स्थिति में डाल दिया है और उनके पास कोई विकल्प नहीं है और अन्यथा, अवीक सरकार और भाई अरूप सरकार के नेतृत्व वाला “भ्रष्ट” प्रबंधन उनकी सेवा समाप्त कर देगा।

“हम अपने व्यापार में भी इस महामारी के प्रभाव पर कड़ी नजर रख रहे हैं। अभी तक, दैनिक विज्ञापन आय लगभग शून्य है। कोई भी अनुमान नहीं लगा सकता है कि यह कब तक जारी रहेगा। लॉकडाउन का विस्तार और इसके परिणामस्वरूप प्रभाव समग्र अर्थव्यवस्था सहित निस्संदेह हमारे व्यापार पर और भी अधिक प्रतिकूल प्रभाव डालेगी। इस उथल-पुथल के बीच हमारी प्राथमिकता, यह सुनिश्चित करना है कि हमारे कर्मचारी और उनके परिवार सुरक्षित रहें, हमारे उत्पाद हमारे पाठकों और ग्राहकों को उपलब्ध कराते रहें, जबकि हम एक साथ व्यापार स्थिरता सुनिश्चित करने के लिए उचित उपाय करें।

“इस संदर्भ में, मैं यह प्रस्ताव करना चाहूंगा कि हम अप्रैल 2020 से अपनी सीटीसी का 30% स्वेच्छा से छोड़ दें। कृपया अपनी सहमति का एक मेल abp.hrd@abp.in (इस मेल के साथ संलग्न प्रारूप) को भेजें” – एबीपी समूह के सीईओ डीडी पुरकायस्थ द्वारा सभी कर्मचारियों को भेजे गये ईमेल में कहा गया। पूर्ण ईमेल संचार इस लेख के नीचे प्रकाशित हुआ है।

50,000 रुपये महीने तक कमाने वालों के लिए कोई कटौती का सुझाव नहीं दिया गया है। लेकिन बाकियों का 30% वेतन काटना “चाहते” हैं।

इस खबर को अंग्रेजी में यहाँ पढ़े।

पीगुरूज ने इंडियन एक्सप्रेस, टाइम्स ऑफ इंडिया और हिंदुस्तान टाइम्स और द हिंदू अखबारों में वेतन कटौती की रिपोर्ट, जो विभिन्न स्तरों पर आठ प्रतिशत से 35% तक की है, की थी[1]

सीटीसी (कॉस्ट टू कंपनी) का 30 प्रतिशत समर्पण वास्तविक व्यवहार में अधिक हो सकता है। अन्य अखबारों ने श्रेणीबद्ध कटौती को लागू किया और 30% उन पर जो उच्च वेतन आहरित करते हैं। अति-वामपंथी अख़बार समूह ने पूरे बोर्ड में कटौती के समान प्रतिशत को लागू किया है, जो अत्यधिक कर्मचारी विरोधी है और सभी श्रम नैतिकता के खिलाफ है, कर्मचारियों का कहना है। “हमारे पास कोई विकल्प नहीं है। जो लोग नौकरी चाहते थे उन्हें “स्वेच्छा से” 30% वेतन छोड़ने का ईमेल लिखना होगा। अन्यथा, हमें सेवा समाप्ति पत्र थमा दिया जाएगा,” वे कहते हैं। “यह सरकार या श्रम विभाग द्वारा किसी भी संभावित मामलों से बचने के लिए अरूप सरकार के नेतृत्व वाले प्रबंधन द्वारा एक चतुर कदम है,” उन्होंने कहा।

एबीपी ग्रुप और टेलीग्राफ पिछले तीन वर्षों से कर्मचारियों की छटनी करने में सबसे क्रूर रहा। 2017 के बाद से, टेलीग्राफ अखबार ने 1000 से अधिक कर्मचारियों को बर्खास्त कर दिया और कई संस्करणों और ब्यूरो को बंद कर दिया है[2]

एबीपी समूह के सीईओ द्वारा वेतन के 30% आत्मसमर्पण के पत्र को नीचे प्रकाशित किया गया है:

Telegraph 1 by PGurus on Scribd

संदर्भ:

[1] कोरोना को दोषी ठहराते हुए, नैतिकता का प्रचार करने वाले द हिंदू अखबार समूह ने भी 6-25 प्रतिशत वेतन कटौती को लागू किया हैMay 7, 2020, hindi.pgurus.com

[2] टेलीग्राफ अखबार और आनंद बाजार पत्रिका(एबीपी) बड़े पैमाने पर कर्मचारियों के निष्कासन के एक और दौर के लिए जा रहे हैं?Mar 8, 2019, hindi.pgurus.com

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.