कोरोना को दोषी ठहराते हुए, नैतिकता का प्रचार करने वाले द हिंदू अखबार समूह ने भी 6-25 प्रतिशत वेतन कटौती को लागू किया है

श्रमिकों का हितकर, वामपंथ समर्थक विचारधारा को बढ़ावा देने वाला द हिंदू समूह अपने कर्मचारियों की भलाई से पहले मुनाफे को रखता है, द हिन्दू समूह ने वेतन में कटौती की घोषणा की है।

1
546
श्रमिकों का हितकर, वामपंथ समर्थक विचारधारा को बढ़ावा देने वाला द हिंदू समूह अपने कर्मचारियों की भलाई से पहले मुनाफे को रखता है, द हिन्दू समूह ने वेतन में कटौती की घोषणा की है।
श्रमिकों का हितकर, वामपंथ समर्थक विचारधारा को बढ़ावा देने वाला द हिंदू समूह अपने कर्मचारियों की भलाई से पहले मुनाफे को रखता है, द हिन्दू समूह ने वेतन में कटौती की घोषणा की है।

इंडियन एक्सप्रेस, टाइम्स ऑफ इंडिया और हिंदुस्तान टाइम्स के बाद, दक्षिण के प्रमुख अखबारों में से एक, द हिंदू ने भी कोविड-19 महामारी द्वारा आय असंतुलित होने के बहाने का हवाला देते हुए वेतन कटौती लागू की। सभी कर्मचारियों को एक ईमेल के साथ संलग्न हस्तलिखित नोट में, द हिंदू ग्रुप के सीईओ एल.वी. नवनीत ने कहा कि कंपनी के बोर्ड ने छह प्रतिशत से 25 प्रतिशत तक वेतन कटौती को लागू करने का निर्णय लिया है।

सीईओ के पत्र के अनुसार, 6 लाख रुपये वार्षिक वेतन से कम वेतन वाले व्यक्तियों के वेतन में कोई कटौती नहीं की जा रही है। छह लाख से 10 लाख रुपये तक कमाने वालों के वेतन से 8 प्रतिशत और 10 लाख से 15 लाख रुपये सालाना कमाने वालों के वेतन से 12 प्रतिशत काटा जाएगा। 16 प्रतिशत उन लोगों से कटेगा जिनकी कमाई सालाना 15 लाख रुपये से 25 लाख रुपये के बीच है और 20 प्रतिशत कटौती उन लोगों पर लागू की गयी है जो सालाना 25 लाख रुपये से 35 लाख रुपये तक कमाते हैं। सालाना 35 लाख रुपये से अधिक कमाने वालों को 25 प्रतिशत वेतन कटौती का सामना करना पड़ेगा।

दो पन्नों के लुभावने वेतन-कटौती-थोपने वाले पत्र में, सीईओ ने यह भी कहा कि पूर्णकालिक निदेशकों (एन राम, एन रवि, और मालिनी पार्थसारथी) और स्वतंत्र निदेशकों ने भी कई मौद्रिक लाभों का “बलिदान” किया है। यह तमिलनाडु में एक ज्ञात रहस्य है कि द हिंदू के मालिक हमेशा द्रविड़ मुनेत्र कषगम (डीएमके) द्वारा नियंत्रित शक्तिशाली ट्रेड यूनियन की सहमति लेते हैं। वर्तमान ट्रेड यूनियन नेता पूर्व मुख्यमंत्री मुथुवेल करुणानिधि की बेटी कनिमोझी हैं और इससे पहले टीआर बालू थे।

एक सवाल जो द हिंदू समूह के लंबे समय के पाठकों के मन को परेशान कर रहा है, वह है ‘टीएचजी पब्लिशिंग प्राइवेट लिमिटेड‘ के रूप में उनके लेटरहेड का पुनर्लेखन। अटकलें लगाई जा रही हैं कि यह उनके वामपंथ समर्थक रुख के कारण हो सकता है – शब्द “द हिंदू ग्रुप” शायद निर्णय लेने के लिए निदेशक एन राम को स्वीकार्य नहीं है, जो पक्के कम्युनिस्ट पार्टी के समर्थक हैं या सीपीआई(एम) के कार्ड धारक सदस्य माने जाते हैं।

इस खबर को अंग्रेजी में यहाँ पढ़े।

वेतन में कटौती के लिए सबसे पहले इंडियन एक्सप्रेस ने कोरोना संकट को दोषी ठहराया था। एक महीने पहले इंडियन एक्सप्रेस ने 10 से 35 प्रतिशत वेतन में कटौती की थी[1]हिंदुस्तान टाइम्स ने पूर्व में दावा किया था कि वे 3.5 करोड़ रुपये के दैनिक घाटे में चल रहे थे। लेकिन कर्मचारियों का कहना है कि प्रबंधन झूठ बोल रहा है और बहुत बड़े वार्षिक मुनाफे को छुपा रहा है। उनके अनुसार प्रबंधन केवल लॉकडाउन के दौरान विज्ञापन राजस्व की कमी के बारे में बात कर रहा है और एक “नकली नुकसान” सिद्धांत को चित्रित कर रहा है।

समीर जैन और विनीत जैन के नियंत्रण वाले टाइम्स ऑफ इंडिया समूह ने भी 10-20 प्रतिशत वेतन में कटौती की है और अब बड़े पैमाने पर छटनी की योजना बना रहे हैं। कर्मचारी बताते हैं कि टाइम्स ऑफ इंडिया समूह जो कई अखबारों और टीवी चैनलों को चला रहा है, को 1000 करोड़ रुपये से अधिक का लाभ होता है और यह वेतन कटौती “बेईमान और हृदयहीन” मालिकों द्वारा अपने लाभ की रक्षा के लिए है[2]

अब यह साबित हो गया है – समाजवाद, वामपंथ समर्थक और श्रमिक समर्थक विचारधारा पैसे के बाद ही आती है। प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी और सभी मुख्यमंत्रियों द्वारा नियोक्ताओं को कोरोना संकट के दौरान कर्मचारियों की तनख्वाह में कटौती या छटनी नहीं करने का आह्वान किया गया है। अब्बा (गायकों का समूह) ने पैसों पर गाना गाते हुए कहा कि अमीरों द्वारा पैसे पैसे का जप करते देखना हास्यास्पद है। एक “वाम-हितैषी” समाचार पत्र का यह कदम दिखाता है कि पैसा सब से ऊपर है – इसे उन लोगों से इनकार करें जिन्हें इसकी सबसे अधिक आवश्यकता है।

वेतन कटौती के लिए लिखा गया हिंदू समूह के सीईओ का पत्र नीचे प्रकाशित किया गया है:

The Hindu Group Salary Cuts… by PGurus on Scribd

संदर्भ:

[1] कोरोना को दोषी ठहराते हुए, इंडियन एक्सप्रेस ने भारी वेतन कटौती कीApr 4, 2020, hindi.pgurus.com

[2] वेतन कटौती के बाद, टाइम्स ऑफ इंडिया समूह ने कोरोना संकट की आड़ में बड़े पैमाने पर छंटनी की योजना बनाई हैApr 29, 2020, hindi.pgurus.com

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.