चुप्पी की इस दीवार को नीचे गिरा दो, श्रीमान मोदी!

क्या आप संशय को साफ़ करेंगे, श्री मोदी और राष्ट्र को बताएंगे कि वित्त मंत्री कौन है?

0
1428
क्या आप संशय को साफ़ करेंगे, श्री मोदी और राष्ट्र को बताएंगे कि वित्त मंत्री कौन है?
क्या आप संशय को साफ़ करेंगे, श्री मोदी और राष्ट्र को बताएंगे कि वित्त मंत्री कौन है?

श्रीमान मोदी सबसे पहले, यह तय करें कि वित्त मंत्री कौन है और फिर इस गड़बड़ी को साफ करने के लिए उसपर ज़िम्मेदारी तय करें।

उद्धरण, रोनाल्ड रीगन द्वारा “इस दीवार को नीचे गिरा दो, श्रीमान गोर्बाचेव”, जिसके परिणामस्वरूप बर्लिन की दीवार गिर गई और जर्मनी के एकीकरण के लिए मार्ग प्रशस्त हुआ। पीगुरूज भारत को 2 वित्त मंत्रियों (एफएम) – प्रधान मंत्री कार्यालय के वित्तमंत्री और वित्त मंत्रालय के वित्तमंत्री, द्वारा चलाए जाने के तरीके से परेशान है। दो मंत्रियों के साथ, कोई चीजों को दोगुनी तेजी से आगे बढ़ने की उम्मीद होगी लेकिन वास्तविकता कुछ और है। क्या आप संशय को साफ़ करेंगे, श्री मोदी और राष्ट्र को बताएंगे कि वित्त मंत्री कौन है?

श्री मोदी, हम जीएसटी – एक राष्ट्र एक कर की अवधारणा से प्यार करते हैं। लेकिन इससे पहले भारत जीतने का दावा करे, एक बहुत लंबा रास्ता तय करना है।

पीगुरूज कंपनी वस्तु एवं सेवा कर नेटवर्क (जीएसटीएन) के साथ अनुवर्ती जाँच पर सांस साधे इंतजार कर रहा है, जिसे पूरी तरह से सरकारी स्वामित्व वाली इकाई के रूप में फिर से संगठित किया गया है। लेकिन अब तक किए गए अतिवादों के बारे में क्या? क्या इसके वित्तपोषण में एक नियंत्रक और महालेखा परीक्षक (सीएजी) लेखा परीक्षा है? क्या जीएसटी संग्रह को संग्रहित करने के लिए पसंद का बैंक सार्वजनिक क्षेत्र बैंक जैसे भारतीय स्टेट बैंक में बदला गया है? क्या वित्त मंत्री स्पष्ट करेंगे?

पिछले कुछ महीनों में जीएसटीएन के बनावट और लागू करने में कई महत्वपूर्ण मुद्दों को हमारे द्वारा उजागर किया गया था। क्या उन्हें ध्यान में लिया गया है[1]? मिसाल के तौर पर, पीगुरूज को सीएजी मुख्यालय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने सख्ती से विश्वास दिलाया था कि जिसने जीएसटीएन निविदाएं भरी हैं वे पूर्णतः गोपनीय हैं और उनके लिए कोई भी जानकारी गुप्त नहीं है, इस संबंध में लेखा परीक्षा भूल जाएं। ऐसा क्या है जो हसमुख अधिया राष्ट्र से छुपाने की कोशिश कर रहा था?

सीएजी अधिकारी के मुताबिक यह निविदा, राष्ट्र मंडल खेलों (सीडब्ल्यूजी) में निविदा घोटाले के साथ कई समानताओं को दर्शाता है, जिसने राष्ट्रीय ध्यान आकर्षित किया। निविदाएं सीडब्ल्यूजी मामले में एक निजी निकाय को भी मानदंडों का उल्लंघन करके दी गयी थीं और यह जीएसटीएन के मामले में भी हुआ है।

श्री मोदी, हम जीएसटी – एक राष्ट्र एक कर की अवधारणा से प्यार करते हैं। लेकिन इससे पहले भारत जीतने का दावा करे, एक बहुत लंबा रास्ता तय करना है। सबसे पहले, यह तय करें कि वित्त मंत्री कौन है और फिर इस गड़बड़ी को साफ करने के लिए उसपर ज़िम्मेदारी तय करें।

संदर्भ

[1] GSTN tender scam – Will Hasmukh Adhia speak now? Why was Rs.1400 crores allotted bypassing the Union Cabinet? Mar 29, 2018, PGurus.com

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.