फिलीपींस ने भारत के साथ ब्रह्मोस मिसाइल प्रणाली के लिए समझौता किया

मनीला में सरकार ने हाल ही में हथियार प्रणाली के लिए प्रारंभिक वित्त पोषण के लिए 2.8 बिलियन पेसो (55.5 मिलियन डॉलर) आवंटित किए हैं।

0
267
फिलीपींस ने भारत के साथ ब्रह्मोस मिसाइल प्रणाली के लिए समझौता किया
फिलीपींस ने भारत के साथ ब्रह्मोस मिसाइल प्रणाली के लिए समझौता किया

चीन को बड़ा झटका, फिलीपींस ने भारत से ब्रह्मोस खरीदने की तैयारी की

फिलीपींस भारत और रूस द्वारा संयुक्त रूप से विकसित ब्रह्मोस क्रूज मिसाइल प्रणाली प्राप्त करने वाला पहला देश बनने के लिए तैयार है।

मनीला में सरकार ने हाल ही में हथियार प्रणाली के लिए प्रारंभिक वित्त पोषण के लिए 2.8 बिलियन पेसो (55.5 मिलियन डॉलर) आवंटित किए हैं।

ब्रह्मोस दुनिया की सबसे तेज सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल है। यह एक मध्यम दूरी की रैमजेट सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल प्रणाली है जिसे पनडुब्बी, जहाज, विमान या जमीन से लॉन्च किया जा सकता है।

इस खबर को अंग्रेजी में यहाँ पढ़ें!

फिलीपींस भी उन देशों में से एक है जो चीन की आक्रामकता का सामना कर रहा है। अब भारत से दुनिया की सबसे तेज क्रूज मिसाइल ब्रह्मोस खरीदने की मंजूरी मिलने से इस क्षेत्र के कई और देश भारत के साथ इसी तरह के समझौते पर हस्ताक्षर कर सकते हैं।

निश्चित तौर पर इस कदम से चीन परेशान है। चीनी आक्रामकता दक्षिण एशियाई देशों के लिए चिंता का एक प्रमुख कारण है।

कहा जाता है कि वियतनाम भी भारत के साथ ब्रह्मोस मिसाइल के लिए एक समझौते पर हस्ताक्षर करने में दिलचस्पी रखता है। इस मिसाइल सौदे को लेकर दोनों देशों के बीच बातचीत चल रही है। इंडोनेशिया और कई खाड़ी देशों सहित कई देशों ने मिसाइल खरीदने में रुचि दिखाई है।

इससे पहले, मार्च 2021 में, भारत और फिलीपींस ने सैन्य हार्डवेयर और उपकरणों पर सरकार-से-सरकार के बीच सौदों की सुविधा के लिए एक “कार्यान्वयन व्यवस्था” पर हस्ताक्षर किए थे, इसमें ब्रह्मोस मिसाइल भी शामिल है जिसकी सीमा 290 किमी है और यह 200 किलोग्राम का असलाह ले जा सकती है।

अमेरिकी पत्रकार डेरेक ग्रॉसमैन ने ट्वीट किया, “यह आधिकारिक है, फिलीपींस को भारत का ब्रह्मोस मिल रहा है। चीन खुश नहीं होगा!”

[आईएएनएस इनपुट के साथ]

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.