पूर्व डीएमके मंत्री जगतरक्षकन सिंगापुर के माध्यम से श्रीलंका में पैसा निवेश करते हुए पकड़ा गया

जगतरक्षकन, जो उसको सौंपे गए किसी भी मंत्री पद से धन जुटाने के लिए जाना जाता है, को सिंगापुर के माध्यम से श्रीलंका में निवेश करते हुए पकड़ा गया। और भी रहस्यों के खुलासे की उम्मीद कर सकते हैं।

0
488
पूर्व डीएमके मंत्री जगतरक्षकन सिंगापुर के माध्यम से श्रीलंका में पैसा निवेश करते हुए पकड़ा गया
पूर्व डीएमके मंत्री जगतरक्षकन सिंगापुर के माध्यम से श्रीलंका में पैसा निवेश करते हुए पकड़ा गया

जगतरक्षकन अराकोणम का एक व्यापारी-राजनीतिज्ञ है, उन्हें 1996 से अराकोनम सीट से तीन बार चुना गया है।

पूर्व केंद्रीय राज्य मंत्री और डीएमके के नेता जगतरक्षकन के परिवार के सदस्य सिंगापुर स्थित कंपनी में हिस्सेदारी रखते हैं और श्रीलंका में एक तेल रिफाइनरी में 3.85 बिलियन डॉलर मूल्य के प्रत्यक्ष विदेशी निवेश (एफडीआई) से जुड़े हैं।

2016 में, उनके घर, व्यावसायिक प्रतिष्ठानों में आयकर विभाग ने छापे मारे, यह बताया गया है कि उन्होंने 20 करोड़ रुपये से अधिक बेहिसाबी धन जब्त किया है।

जगतरक्षकन अराकोणम के एक व्यापारी-राजनीतिज्ञ हैं, उन्हें 1996 से अराकोनम सीट से तीन बार चुना गया है। वह डॉ मनमोहन सिंह के नेतृत्व वाली यूपीए सरकार में वाणिज्य और उद्योग राज्य मंत्री थे। वह आगामी संसदीय चुनाव के लिए अराकोणम लोकसभा क्षेत्र से डीएमके उम्मीदवार भी हैं।

वह डिस्टिलरीज प्राइवेट लिमिटेड नामक एक शराब व्यापार एलीट चलाते हैं, जो कि जगतरक्षकन परिवार के स्वामित्ववाली है। वह भारत विश्वविद्यालय, श्री बालाजी मेडिकल कॉलेज और श्री लक्ष्मी नारायण इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज (पुदुचेरी) सहित कई शैक्षणिक संस्थानों की एक श्रृंखला चलाते हैं।

उन्होंने कोलगेट घोटाले के साथ सुर्खियां बटोरीं, यह आरोप लगाया गया कि उन्होंने 2007 में अपनी कंपनी के लिए अवैध कोयला आवंटन के लिए अपने राजनीतिक प्रभाव का लाभ उठाया। 2009 में उनकी संपत्ति 5 करोड़ से बढ़कर 2011 में 70 करोड़ हो गई, यह सभी केंद्रीय कैबिनेट मंत्रियों में संपत्ति के उच्चतम प्रतिशत वृद्धि रहा। घोटाले ने वास्तविक रूप से तत्कालीन मनमोहन सिंह सरकार को हिला दिया।

2016 में, उनके घर, व्यावसायिक प्रतिष्ठानों में आयकर विभाग ने छापे मारे, यह बताया गया है कि उन्होंने 20 करोड़ रुपये से अधिक बेहिसाबी धन जब्त किया है। साथ ही, उन्होंने उसके एक निवास से साढ़े पांच करोड़ रुपये नकद भी जब्त किए। आयकर विभाग ने विशेष सूचना के आधार पर छापेमारी की थी क्योंकि पूर्व मंत्री ने 200 करोड़ रुपये से अधिक की आय पर आयकर नहीं भरा था [1]

हालाँकि अभी तक भारतीय व्यापार के शामिल होने के बारे में बीओआई द्वारा कोई आधिकारिक उल्लेख नहीं किया गया है, लेकिन विशेष रूप से ओमान के पीछे हट जाने के बाद निवेश के वास्तविक स्रोत पर उत्तेजक साजिश है।

अब श्रीलंका में हुए सौदे पर लौटते हैं- ये रहे डिटेल्स:

ओमान तेल मंत्रालय और सिल्वर पार्क इंटरनेशनल पीटीई लिमिटेड – भारत के एकॉर्ड समूह के स्वामित्व वाले सिंगापुर के निवेश वाहन ने चीनी-नियंत्रित हंबनटोटा बंदरगाह के बगल में प्रति दिन 200,000 बैरल तेल की क्षमता वाली 3.9 बिलियन डॉलर के मूल्य रिफाइनरी निर्माण करने का वादा किया था, जो कि श्रीलंकाई अधिकारियों ने मंगलवार 19 मार्च को घोषित किया।

यह सौदा हिंद महासागर द्वीप राष्ट्र के लिए अब तक का सबसे बड़ा विदेशी निवेश होगा। निर्माण अगले हफ्ते से शुरू होगा और रिफाइनरी 2023 तक चलने लगेगी ऐसी उम्मीद है ऐसा श्रीलंका के अंतर्राष्ट्रीय व्यापार मंत्री नलिन बंडारा ने कहा।

सूत्रों ने यह भी बताया कि सिल्वर पार्क इंटरनेशनल प्राइवेट लिमिटेड कुल पूंजी का 70% हिस्सा यानी कुल 1887 मिलियन डॉलर की राशि का निवेश करने जा रहा है और शेष लगभग 30% ऋण पूंजी के रूप में जुटाया जाएगा। माना जाता है कि यह परियोजना अरबों डॉलर की होगी।

यह रिकॉर्ड सौदा ओमान, जो कि सिल्वर पार्क इंटरनेशनल के साथ परियोजना में निवेश कर रहा था, के श्रीलंका के बोर्ड ऑफ इंवेस्टमेंट (बीओआई) द्वारा घोषित सौदे का हिस्सा होने से इनकार के बाद विवादास्पद हो गया है।

कोलंबो में एक अनाम वरिष्ठ सरकारी सूत्र ने बताया कि सिंगापुर स्थित कंपनी – सिल्वर पार्क इंटरनेशनल (जिसे निवेश बोर्ड द्वारा नामित किया गया था) को सिंगापुर के राष्ट्रीय नियामक लेखा और कॉर्पोरेट नियामक प्राधिकरण (एसीआरए) के साथ पंजीकृत किया गया है, जिसके चार निदेशकों में से तीन है जगतरक्षकन सुदीप आनंद, जगतरक्षकन श्री निशा और जगतरक्षकन अनुसूया -जो चेन्नई के एक पते के साथ सूचीबद्ध हैं। वे श्री जगतरक्षकन के बेटे, बेटी और पत्नी हैं, जो डीएम के अराकोणम लोकसभा उम्मीदवार हैं। “हम भारतीय व्यावसायिक हित से जुड़े सिंगापुर कंपनी के संबंध से अवगत हैं। समझौते पर श्री जगतरक्षकन ने हस्ताक्षर किए हैं ”, कोलंबो के एक वरिष्ठ सरकारी सूत्र ने द हिंदू को बताया [2]

हालाँकि अभी तक भारतीय व्यापार के शामिल होने के बारे में बीओआई द्वारा कोई आधिकारिक उल्लेख नहीं किया गया है, लेकिन विशेष रूप से ओमान के पीछे हट जाने के बाद निवेश के वास्तविक स्रोत पर उत्तेजक साजिश है। कोलंबो में पत्रकार सम्मेलन के दौरान बीओआई ने एफडीआई के बारे में बताया, जहां उन्होंने उल्लेख किया कि एक विदेशी संयुक्त उद्यम ने एक नई तेल रिफाइनरी में 3.85 अरब डॉलर का निवेश- जो देश के इतिहास में सबसे बड़ा विदेशी निवेश है – हंबनटोटा में आने वाले औद्योगिक क्षेत्र में, दक्षिणी प्रांत में करने का वादा किया है।

रॉयटर्स ने यह भी बताया कि ओमान के तेल मंत्रालय ने परियोजना का हिस्सा बनने से इनकार कर दिया है, इसलिए बीओआई ने स्पष्टीकरण दिया और कहा कि “वे जानते हैं कि परियोजना के इक्विटी व्यवस्था के संबंध में ओमान के तेल और गैस मंत्रालय और सिल्वर पार्क इंटरनेशनल के बीच कोई समझौता नहीं हुआ है”[2]

संदर्भ:

[1] Srilanka’s largest FDI deal , Swarajmag

[2] DMK Leader family linked to record FDI, The Hindu

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.