सर्वोच्च न्यायालय ने केंद्र की टीकाकरण नीति की आलोचना की। केंद्र और राज्यों से वैक्सीन खरीद, आपूर्ति और वितरण के सभी विवरण मांगे

सर्वोच्च न्यायालय ने केंद्र को फटकार लगाई, वैक्सीन खरीद, आपूर्ति और वितरण का ब्योरा मांगा!

1
838
सर्वोच्च न्यायालय ने केंद्र को फटकार लगाई, वैक्सीन खरीद, आपूर्ति और वितरण का ब्योरा मांगा!
सर्वोच्च न्यायालय ने केंद्र को फटकार लगाई, वैक्सीन खरीद, आपूर्ति और वितरण का ब्योरा मांगा!

पिछले एक महीने से, मोदी सरकार को कोविड महामारी की दूसरी लहर से निपटने में न्यायालयों की आलोचनाओं का सामना करना पड़ रहा है। केंद्र के लिए एक और शर्मनाक स्थिति में, सुप्रीम कोर्ट ने बुधवार को सरकार को सभी प्रासंगिक दस्तावेजों और कोविड-19 टीकाकरण नीति में सरकार को सोच को दर्शाने वाले सभी दस्तावेजों का रिकॉर्ड बनाने का निर्देश दिया, जिसमें कोवैक्सिन, कोविशील्ड और स्पूतनिक-वी सहित सभी टीकों की खरीद का अभी तक का लेखा-जोखा भी शामिल है। शीर्ष अदालत ने केंद्र से म्यूकोर्मिकोसिस या ब्लैक फंगस के लिए दवा की उपलब्धता सुनिश्चित करने के लिए उसके द्वारा उठाए जा रहे कदमों के बारे में जानकारी देने के लिए भी कहा। न्यायमूर्ति डी वाई चंद्रचूड़ की अध्यक्षता वाली पीठ ने सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को दो सप्ताह के भीतर मुफ्त टीकाकरण प्रदान करने के बारे में स्थिति साफ करने का निर्देश दिया।

न्यायालयों द्वारा की जा रही गंभीर आलोचना को देखते हुए, कोविड-19 महामारी प्रबंधन पर उच्चतम न्यायालय में मामलों को संभालने में केंद्र के लिए यह तीसरी बड़ी शर्मिंदगी है। दूसरी लहर के जोर पकड़ने के साथ ही 9 मई को, स्वास्थ्य और गृह मंत्रालयों की शक्तियों को निष्क्रिय करते हुए, शीर्ष न्यायालय ने ऑक्सीजन, दवाओं आदि की आपूर्ति और वितरण को संभालने के लिए 12 सदस्यीय राष्ट्रीय कार्य बल (एनटीएफ) का गठन किया, जिसमें देश के जाने-माने डॉक्टर शामिल थे[1]। यह फैसला, मोदी सरकार और दिल्ली, महाराष्ट्र जैसे विपक्षी दलों द्वारा शासित राज्यों के बीच ऑक्सीजन सिलेंडरों और बहुत जरूरी दवाओं की आपूर्ति नियंत्रण को लेकर हो रही लड़ाई के बाद आया था। यहां तक ​​कि केंद्र ने बीजेपी शासित कर्नाटक के उच्च न्यायालय द्वारा निर्धारित ऑक्सीजन सप्लाई कोटा को भी चुनौती दी थी। इन बातों ने कई सवालों को जन्म दिया, जैसे कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली सरकार के अंदर आखिर क्या हो रहा है। कैबिनेट मंत्रियों को दरकिनार कर शीर्ष सरकारी अधिकारियों की कार्यशैली पर विश्वास करने की मोदी की शैली ने दूसरी लहर की अराजकता से निपटने की स्थिति को वास्तव में गड़बड़ कर दिया है, जिसमें दो लाख से अधिक लोग मारे गए

शीर्ष न्यायालय ने टीकाकरण अभियान के पहले तीन चरणों में पात्र व्यक्तियों के मुकाबले टीकाकरण प्राप्त कर चुकी आबादी (एक और दोनों खुराक के साथ) के प्रतिशत का डेटा भी मांगा।

सोमवार को भी शीर्ष न्यायालय ने केंद्र और राज्यों की वैक्सीन कीमतों में अंतर की आलोचना की। बुधवार को वैक्सीन आपूर्ति और वितरण नीति पर सभी फाइलों की मांग करते हुए, शीर्ष न्यायालय ने कहा कि संवैधानिक न्यायालय ऐसी स्थिति में मूकदर्शक नहीं हो सकता है। कोर्ट ने इस बार कोविड महामारी से निपटने के लिए निर्धारित 35,000 करोड़ रुपये की राशि का ब्योरा भी मांगा। पीगुरूज ने हाल ही में वैक्सीन नीति और आपूर्ति में विफलताओं का विश्लेषण करते हुए एक रिपोर्ट प्रकाशित की थी[2]

इस खबर को अंग्रेजी में यहाँ पढ़े।

जस्टिस डीवाई चंद्रचूड़, एलएन राव और एस रवींद्र भट की विशेष पीठ ने कहा कि “अपना हलफनामा दाखिल करते समय, केंद्र सरकार यह भी सुनिश्चित करेगी कि सभी प्रासंगिक दस्तावेजों और फाइल नोटिंग की प्रतियां जो उसकी सोच को दर्शाती हैं और टीकाकरण नीति में परिणत होती हैं, टीकाकरण नीति में भी अमल में लाई गयी हैं।” पीठ ने केंद्र से यह सुनिश्चित करने को कहा कि उसके द्वारा निपटाए गए प्रत्येक मुद्दे का व्यक्तिगत रूप से जवाब दिया जाए।

पीठ ने कहा – “केंद्र सरकार द्वारा अब तक खरीदे गए सभी कोविड-19 टीकों (कोवैक्सीन, कोविशील्ड और स्पूतनिक-वी) की पूरी जानकारी। डेटा को निम्न जानकारी स्पष्ट करना होगा: (ए) सभी 3 टीकों के लिए केंद्र सरकार द्वारा दिए गए सभी खरीद आदेशों की तारीखें; (बी) प्रत्येक तिथि को आदेशित टीकों की मात्रा; और (सी) आपूर्ति की अनुमानित तिथि।” शीर्ष न्यायालय ने टीकाकरण अभियान के पहले तीन चरणों में पात्र व्यक्तियों के मुकाबले टीकाकरण प्राप्त कर चुकी आबादी (एक और दोनों खुराक के साथ) के प्रतिशत का डेटा भी मांगा।

इसमें कहा गया है, “इसमें टीकाकरण प्राप्त ग्रामीण आबादी के प्रतिशत के साथ-साथ शहरी आबादी के प्रतिशत से संबंधित आंकड़े शामिल होंगे,” यह भी कहा गया है कि चरण 1, 2 और 3 में केंद्र सरकार शेष आबादी का टीकाकरण कैसे और कब करेगी, इसकी रूपरेखा भी देनी होगी। पीठ ने कहा कि केंद्र ने अपने 9 मई के हलफनामे में कहा है कि प्रत्येक राज्य/ केंद्रशासित प्रदेश अपनी आबादी को मुफ्त में टीकाकरण प्रदान करेगा और कहा कि यह महत्वपूर्ण है कि राज्य सरकारें शीर्ष न्यायालय के समक्ष इस स्थिति की पुष्टि या इनकार करें। “इसके अलावा, अगर उन्होंने अपनी आबादी को मुफ्त में टीकाकरण करने का फैसला किया है, तो सैद्धांतिक रूप में, यह महत्वपूर्ण है कि इस नीति को उनके हलफनामे में संलग्न किया जाए, ताकि उनके क्षेत्रों की आबादी को राज्य टीकाकरण केंद्र में नि:शुल्क टीकाकरण के उनके अधिकार का आश्वासन दिया जा सके।

पीठ ने कहा – “इसलिए, हम प्रत्येक राज्य/ केंद्रशासित प्रदेश सरकारों को 2 सप्ताह के भीतर एक हलफनामा दाखिल करने का निर्देश देते हैं, जहां वे अपनी स्थिति स्पष्ट करेंगे और अपनी व्यक्तिगत नीतियों को रिकॉर्ड में रखेंगे।” मामले को 30 जून को आगे की सुनवाई के लिए सूचीबद्ध किया गया है।

31 मई को, शीर्ष न्यायालय ने ग्रामीण और शहरी भारत के बीच “डिजिटल डिवाइड/ डिजिटल अंतर” पर प्रकाश डाला था और कोविड के टीकों के लिए कोविन पर अनिवार्य पंजीकरण, वैक्सीन खरीद नीति और मूल्य निर्धारण में अंतर पर केंद्र से प्रश्न पूछे थे, और कहा था कि नीति निर्माताओं को अभूतपूर्व संकट से प्रभावी ढंग से निपटने के लिए जमीनी स्तर पर काम करना चाहिए। केंद्र से “सच्चाई से अवगत होने” के लिए कहा और यह सुनिश्चित करने के लिए कहा कि कोविड-19 के टीके पूरे देश में एक ही कीमत पर उपलब्ध हो, शीर्ष अदालत ने सरकार को “भीषण महामारी की स्थिति” से निपटने के लिए अपनी नीतियों को लचीला करने की सलाह दी थी।

संदर्भ:

[1] मोदी सरकार के लिए बड़ी शर्मिंदगी! भारत में कोविड-19 की दूसरी लहर के संकट से निपटने के लिए सुप्रीम कोर्ट ने नेशनल टास्क फोर्स का गठन किया!May 09, 2021, hindi.pgurus.com

[2] कोविड-19: भारत में टीकाकरण अभियान क्यों चरमरा रहा है?May 23, 2021, hindi.pgurus.com

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.