सुब्रमण्यम स्वामी ने प्रधान मंत्री से उत्तराखंड के मुख्यमंत्री को 51 मंदिरों के अधिग्रहण कानून को वापस लेने का निर्देश देने का आग्रह किया

स्वामी ने पीएम को पत्र लिखकर उत्तराखंड सरकार को राज्य में मंदिरों के अधिग्रहण के आदेश को वापस लेने का निर्देश देने का आग्रह किया है

1
5001
स्वामी ने पीएम को पत्र लिखकर उत्तराखंड सरकार को राज्य में मंदिरों के अधिग्रहण के आदेश को वापस लेने का निर्देश देने का आग्रह किया है
स्वामी ने पीएम को पत्र लिखकर उत्तराखंड सरकार को राज्य में मंदिरों के अधिग्रहण के आदेश को वापस लेने का निर्देश देने का आग्रह किया है

भाजपा नेता सुब्रमण्यम स्वामी ने बुधवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से उत्तराखंड के मुख्यमंत्री को हाल ही में 51 मंदिरों का अधिग्रहण करने वाले अधिनियम को वापस लेने का निर्देश देने का आग्रह किया है। मंदिरों के अधिग्रहण को अवैध करार देते हुए, स्वामी ने एक पत्र में मोदी से कहा कि राज्य सरकार द्वारा 51 मंदिरों का अधिग्रहण भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) और उसकी विचारधारा के लिए शर्मिंदगी का विषय है। स्वामी ने विवादास्पद चार धाम देवस्थानम प्रबंधन अधिनियम 2019 को पहले ही उत्तराखंड उच्च न्यायालय में चुनौती दे दी थी और न्यायालय ने 25 फरवरी को राज्य सरकार को नोटिस जारी किया था[1]

स्वामी ने कहा – “उत्तराखंड भाजपा सरकार राज्य के लगभग सभी मंदिरों को अधिग्रहित करने और मुख्यमंत्री को न्यासी बोर्ड के अध्यक्ष के रूप में नियुक्त करने के लिए कानून लायी है। यह कदम न केवल हमारी पार्टी की नीति और हिंदुत्व की विचारधारा के खिलाफ है, बल्कि अवैध भी है और सर्वोच्च न्यायालय के निर्णय (अब, 2014 में सुप्रीम कोर्ट द्वारा सुब्रमण्यम स्वामी बनाम तमिलनाडु राज्य के रूप में व्यापक रूप से ज्ञात मामला) के खिलाफ है। इसमें सर्वोच्च न्यायालय ने स्पष्ट रूप से कहा है कि संविधान के अनुच्छेद 25 के तहत सरकार किसी भी मंदिर का प्रशासनिक रूप से अधिग्रहण नहीं कर सकती है, सिवाय संक्षिप्त अवधि के जब मंदिर के धन की हेराफेरी की गयी हो। लेकिन उत्तराखंड में कोई धन की हेराफेरी नहीं हुई।”

“उत्तराखंड के मामलों में, बद्रीनाथ मंदिर या केदारनाथ मंदिर या अन्य 49 मंदिरों में से किसी मे धन की हेराफेरी का कोई दस्तावेज नहीं है और इसलिए सरकार द्वारा उत्तराखंड के इन मंदिरों का अधिग्रहण असंवैधानिक है।”

इस खबर को अंग्रेजी में यहाँ पढ़े।

सुब्रमण्यम स्वामी ने प्रधानमंत्री मोदी को लिखे अपने पत्र में कहा कि “यह हम सभी के लिए एक बड़ी शर्मिंदगी है और हमारा रुख यह है कि मंदिरों को भक्तों द्वारा प्रशासित किया जाना चाहिए न कि सरकार द्वारा। उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत को इस विवादित चार धाम देवस्थानम प्रबंधन अधिनियम 2019 के लिए विश्व हिंदू परिषद (वीएचपी), राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस), प्रमुख हिन्दू नेताओं और सन्यासियों के क्रोध का सामना करना पड़ रहा है।”

2019 में भाजपा शासित राज्य सरकार द्वारा पारित यह अधिनियम, चार धाम क्षेत्र से संबंधित 51 से अधिक मंदिरों को अपने नियंत्रण में लेने के बारे में है, को पहले से ही संघ परिवार संगठनों से गंभीर आलोचना का सामना करना पड़ा है। यह अधिनियम वर्तमान में पुजारियों, स्थानीय ट्रस्टों द्वारा नियंत्रित मंदिरों पर सरकार को नियंत्रण में सक्षम बनाता है और नए अधिनियम में कहा गया है कि सांसद, विधायक और राज्य सरकार द्वारा नियुक्त प्रतिनिधि मंदिरों को चलाएंगे। अधिनियम के अनुसार, देवस्थानम बोर्ड का प्रमुख राज्य का मुख्यमंत्री होगा, और कई सरकारी अधिकारियों को प्रशासन में रखा गया है। अधिनियम कहता है, यदि मुख्यमंत्री हिंदू नहीं है, तो सबसे वरिष्ठ हिंदू मंत्री बोर्ड का प्रमुख होगा। मंदिरों के अधिग्रहण के खिलाफ सुब्रमण्यम स्वामी की याचिका पर राज्य सरकार ने अभी तक उच्च न्यायालय के नोटिस का जवाब नहीं दिया है।

“इसलिए, मैं आपसे उत्तराखंड के मुख्यमंत्री को उस कानून को वापस लेने का निर्देश देने का आग्रह करता हूं, जिसके द्वारा उत्तराखंड के मंदिरों को अपने कब्जे में ले लिया गया था।…. अधिग्रहण के खिलाफ आदेश देने के लिए न्यायालय की प्रतीक्षा करने के बजाय, यह हमारी पार्टी के हित में होगा यदि आप प्रधान मंत्री के रूप में मंदिरों के अधिग्रहण से पहले मौजूद स्थिति को बहाल करने के लिए मुख्यमंत्री को निर्देश दें। यह कार्य राजनीतिक रूप से संवेदनशील है,” स्वामी ने कहा।

सुब्रमण्यम स्वामी का प्रधानमंत्री को लिखा पत्र नीचे प्रकाशित है:

Subramanian Swamy’s Let… by PGurus on Scribd

संदर्भ:

[1] उत्तराखंड एचसी ने मंदिरों के प्रबंधन का अधिग्रहण अधिनियम के खिलाफ सुब्रमण्यम स्वामी की याचिका पर राज्य सरकार को नोटिस जारी कियाFeb 26, 2020, hindi.pgurus.com

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.